Breaking

Saturday, February 9, 2019

सूरजकुंड हस्तशिल्प मेले में उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री विपुल गोयल सहित कई वीवीआईपी पहुंचे

Many VVIPs including Industry and Commerce Minister Vipul Goyal arrived at Surajkund Handicrafts Fair
सूरजकुंड (फरीदाबाद), 09  फरवरी(abtaknews.com)33वे अंतर्राष्ट्रीय सूरजकुण्ड क्राफ्ट मेले में हरियाणा के उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री विपुल गोयल ने शुक्रवार को शिरकत करके मेले में लगी स्टॉलों का निरीक्षण किया। इस दौरान उनके साथ दूधौला में स्थापित श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय के कुलपति राज नेहरू, उद्योगपति नवदीप चावला, राजकुमार, बी.आर. भाटिया, शम्मी कपूर, अमित भल्ला, प्रशांत भल्ला सहित कई गणमान्य व्यक्ति अपने परिजनों सहित मौजूद रहे। मेला प्राधिकरण के नोडल अधिकारी राजेश जून ने उद्योग मंत्री विपुल गोयल को गुलदस्ता भेट कर सूरजकुंड मेले में पहुचने पर उनका स्वागत किया। उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री विपुल गोयल ने बड़ी चौपाल में आयोजित सांस्कृतिक समारोह में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि हरियाणा सरकार ने अंतर्राष्ट्रीय सूरजकुण्ड हस्तशिल्प मेले की 1987 में छोटी सी शुरूआत की थी। 33वें अंतर्राष्ट्रीय सूरजकुण्ड हस्तशिल्प मेले में अबकी बार विश्व के 31 देशों तथा भारतवर्ष के सभी प्रांतों के हस्तशिल्प से जुडे लोगों ने अपनी-अपनी स्टॉलें लगा रखी हैं। प्रतिदिन यहां पर हजारों की संख्या में दर्शक मेले में पहुंचकर हस्तशिल्प वस्तुओं की खरीददारी कर रहे हैं तथा स्टॉल संचालकों से हस्तशिल्प संबंधी जानकारियां ले रहे हैं।
उन्होंने कहा कि यह विश्व का सबसे बडा हस्तशिल्प वस्तुओं का मेला है। इस मेले में एक देश की दूसरे देश के साथ हस्तशिल्प वस्तुओं का व्यापार तो होता ही है साथ में विभिन्न देशों की आपसी संस्कृति और संगीत का भी आदान-प्रदान देखने को मिलता है। उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार ने जिला पलवल के गांव दूधौला में स्थापित श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय भी विश्व में ऐसी पहली यूनिवर्सिटी है, जोकि इस अंतर्राष्टï्रीय सूरजकुंड क्राफ्ट मेले के अनुरूप ही विद्यार्थियों के विभिन्न कोर्सिज करवा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गत 19 नवंबर 2018 को इस विश्वविद्यालय की आधारशिला रखी थी। इस विश्वविद्यालय में हरियाणा सरकार द्वारा मुख्यमंत्री मनोहर लाल के कुशल नेतृत्व में लगभग 950 करोड़ रुपये की धनराशि खर्च करके विद्यार्थियों के कौशल विकास से संबंधित विभिन्न कोर्सिज करवाए जाएंगे। विश्वविद्यालय में लगभग एक हजार विद्यार्थी कौशल विकास से संबंधित कोर्सिज कर रहे हैं। श्री विश्वकर्मा कौशल विकास यूनिवर्सिटी भारत की ऐसी पहली यूनिवर्सिटी है जिसमें शत प्रतिशत विद्यार्थियों को प्लेसमेंट मिलती है। 33वें अंतर्राष्टï्रीय सूरजकुंड मेले में भी विश्वकर्मा कौशल विकास विश्वविद्यालय के छात्रों द्वारा बंचारी सांस्कृतिक कार्यक्रम का बेहतर प्रदर्शन किया जा रहा है। बंचारी के लोगों द्वारा बनाए गए विभिन्न वाद्य यंत्रों का प्रदर्शन भी मेले में देखने को मिल रहा है। इसके अलावा विश्वविद्यालय द्वारा शुरू किए गए हरियाणवी खाद्य पदार्थ बाजरे की रोटी व बाजरे की खिचडी और विभिन्न 25 प्रकार की चटनियां तथा तंदूरी चाय जोकि विश्वविद्यालय के छात्रों द्वारा तैयार की जा रही है का विश्व के कई देशों के लोग आनंद ले रहे हैं। विश्वविद्यालय का मुख्य थीम सीखो कमाओ, अपनी पहचान बनाओ है। उद्योग मंत्री विपुल गोयल ने श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय के अलावा बडखल झील के स्टॉल होटल मैनेजमेंट तथा स्टॉल नंबर 907 जोकि उदित नारायण द्वारा वायर हार्ट पैंटिंग का भी निरीक्षण किया।

------------------------------------------------------------
सूरजकुंड (फरीदाबाद), 08 फरवरी। 33वे अंतर्राष्ट्रीय सूरजकुण्ड क्राफ्ट मेला की बडी चौपाल में हरियाणा के उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री विपुल गोयल ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आनंद लिया। मिश्र देश के कलाकारों ने मिश्र भाषा में अव उल पलून जो कि उनकी भाषा में ही मछली पकडऩे की कला पर खुशी के माहौल में गीत गाया जाता है द्वारा इस गीत को गाकर तथा किग्रीस्तान के कलाकारों ने ए मेरे प्यारे वतन गाने की तर्ज पर डांस प्रस्तुत करके उद्योग मंत्री का स्वागत किया। 33वे अंतर्राष्ट्रीय सूरजकुण्ड क्राफ्ट मेले के थीम स्टेट महाराष्टï्र के कलाकारों द्वारा कार्तिक माह की एकादशी पर धार्मिक आस्था के नृत्य को प्रस्तुत किया।
छोटी चौपाल में आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रमों में विदेशी तथा भारत के विभिन्न प्रांतों से आए कलाकारों ने अपनी-अपनी भाषाओं में गीतों और सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुतियां देकर दर्शकों को मंत्र मुग्ध कर अपने साथ नाचने व थिरकने पर मजबूर कर दिया।
हरियाणा के अंबाला जिला के कलाकारों द्वारा पंजाबी गीतों के साथ-साथ हरियाणवीं संस्कृति से ओत-प्रोत गीतों की प्रस्तुतियां दी गई। राजस्थान के कलाकारों द्वारा कच्ची घोडी तथा रंगीलो म्हारो ढ़ोलना गीतों की प्रस्तुतियों के माध्यम से दर्शकों का खूब मन मोहा। महाराष्टï्र प्रांत के कलाकारों द्वारा लावणी नृत्य की प्रस्तुति दी गई। एसजीबी सी.सैं. स्कूल की छात्राओं द्वारा पंजाबी भंगडा, राजकीय माध्यमिक विद्यालय फरीदाबाद की छात्राओं द्वारा हरियाणवी डांस मेरा नौ डांडी का बीजना की प्रस्तुति ने दर्शकों का मन इतना मोह लिया कि वो विद्यार्थियों के साथ नांचने पर मजबूर हो गए। अग्रवाल कॉलेज के विद्यार्थियों ने नुक्कड नाटक की प्रस्तुति दी। थाइलैंड के कलाकारों ने अपनी ही भाषा में थाइलैंड से जुडे नृत्य व गीतों की प्रस्तुतियां दी। 
सांस्कृतिक कार्यक्रमों की कड़ी में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा लगाई गई स्टॉल में सामाजिक न्याय विषयों पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जा रहा है। इसमें डांस तथा ड्रामे का आयोजन किया गया, जोकि भ्रष्टïाचार को जडमूल से खत्म करने पर आधारित था। राजकीय उच्च विद्यालय इंदिरा नगर के विद्यार्थियों ने कन्या भ्रूण हत्या पर डांस कार्यक्रम की प्रस्तुति दी। इसके अलावा बच्चों के साथ जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण की सचिव एवं मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी मोना सिंह भी खूब थिरकी। वहीं चार नंबर जोन की छोटी चौपाल में जिला करनाल की राजाराम पार्टी ने हरियाणवी लोकगीत, सांग राजा विक्रमाजीत, सांग धु्रव भक्त की रागनी, सांग पिंगला भरथरी, सांग नौटंकी सहित सांग हीर रांझा के लोकगीतों से समा बांधकर दर्शकों का मन मोह लिया।
पंजाब पुलिस के पंजाबी कलाकारों ने साढे दिल विच मैं बसजा तू गीत गाकर दर्शकों का मन मोह लिया। अंतर्राष्टï्रीय यूनिटि का परिचय हुआ और इसमें पंजाब पुलिस, इथोपिया व साउथ सुडान के कलाकारों ने शानदार कार्यक्रम प्रस्तुत किया।
-------------------------------------------------------------
सूरजकुंड (फरीदाबाद), 09  फरवरी। 33वे अंतर्राष्ट्रीय सूरजकुण्ड क्राफ्ट मेले में शुक्रवार को फेस पेंटिंग का आयोजन किया गया। फेस पेंटिंग प्रतियोगिता में भाग लेने वाले प्रतिभागियों ने बेहतर प्रतिभा का प्रदर्शन किया। यह प्रतियोगिता जूनियर एवं सिनियर दो वर्गों में आयोजित की गई। नाटयशाला में आयोजित फेस पेंटिंग के जूनियर वर्ग में सैंट जॉन्स स्कूल सेक्टर-7 ए के विद्यार्थी धु्रव रावत व अमिया रावत ने प्रथम, इसी स्कूल के विद्यार्थी हितेश विरमानी व नितेश कुमार ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया। होली चाइल्ड पब्लिक स्कूल सेक्टर 29 के विद्यार्थी सुविधा व ऋतिका तथा होली चाइल्ड पब्लिक स्कूल जवाहर कॉलोनी के विद्यार्थी तनिष्क व मयंक तृतीय स्थान पर रहे। इस प्रतियोगिता में भाग लेने वाले प्रतिभागियों को सांत्वना पुरूस्कार भी दिए गए, जिसमें सरस्वती शिशु सदन बल्लभगढ के विद्यार्थी ऋषभ व कपिल तथा सैंट जॉन्स स्कूल सेक्टर-7 ए के विद्यार्थी यथार्थ व यशिका राठी शामिल हैं।
काइट फ्लाइंग प्रतियोगिता दो वर्गों में आयोजित की गई। इस प्रतियोगिता के जूनियर वर्ग (लडकियां) में होली चाइल्ड पब्लिक स्कूल जवाहर कॉलोनी की छात्रा वैष्णवी व प्रियंका काइट कटिंग में तथा महारानी वैष्णों देवी हाई स्कूल की छात्रा शलिनी व काजल हाई फ्लाइंग में प्रथम स्थान पर रहीं। सीनीयर वर्ग में महारानी वैष्णों देवी हाई स्कूल की छात्रा संजना और राधा काइट कटिंग में प्रथम व श्री सनातन धर्म वरिष्ठï माध्यमिक विद्यालय की छात्रा ईशा व सिमरन ने हाई फ्लाइंग में प्रथम स्थान हासिल किया।
काइट कटिंग प्रतियोगिता जूनियर वर्ग (लडके) में सत्यम शिवम पब्लिक स्कूल के विद्यार्थी योगेश व अश्विनी ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। इसी प्रतियोगिता के हाई फ्लाइंग में मॉडर्न बी.पी. पब्लिक स्कूल के विद्यार्थी कृष्ण व अजय ने प्रथम तथा सरस्वती शिशु सदन के विद्यार्थी अकशत और सिद्धार्थ ने द्वितीय स्थान पाया।  सिनियर वर्ग में श्री सनातन धर्म स्कूल के विद्यार्थियों ने काइट कटिंग में कुलदीप व ऋतिका ने प्रथम स्थान हासिल किया। इसी प्रतियोगिता में हाई फ्लाइंग में सिरडी सांई बाबा स्कूल के विद्यार्थी संदीप व कार्तिक ने प्रथम स्थान हासिल किया।
-------------------------------------------------------------------
33वां अंतरराष्ट्रीय सूरजकुण्ड शिल्प मेला विशिष्टजनों की आवाजाही से मेला में दिन भर रही रौनक

सूरजकुंड (फरीदाबाद), 09 फरवरी। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के समीप हरियाणा में फरीदाबाद में चल रहा 33वां सूरजकुण्ड अंतरराष्ट्रीय शिल्प मेला में शुक्रवार को हरियाणा के शिक्षा एवं पर्यटन मंत्री रामबिलास शर्मा, उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री विपुल गोयल, शहरी स्थानी निकाय, महिला एवं बाल विकास मंत्री कविता जैन, महिला एवं बाल विकास निगम की चेयरपर्सन सुनीता चौहान सहित अनेक विशिष्टजन पहुंचे। एक दिन पहले मौसम में आए बदलाव के बावजूद शुक्रवार को दिन भर धूप खिली रही। जिसके चलते बड़ी संख्या में पर्यटक भी मेला देखने पहुंचे। महिला एवं बाल विकास मंत्री कविता जैन ने मेला में आए शिल्पकारों की स्टालों का अवलोकन करते हुए खरीददारी भी की। हरियाणा की पूर्व मुख्य सचिव प्रोमिला इस्सर, आस्ट्रीया एंबेसी से मेगिट लायडाल्ट, कैरिन टायफल सहित नई दिल्ली में अनेक विदेशी दूतावासों व उच्चायुक्तों के प्रतिनिधियों की आवाजाही भी दिन भर रही।
----------------------------------------------------------------

33वां अंतरराष्ट्रीय सूरजकुण्ड शिल्प मेला बोल रहा शिल्पकारों का हुनर, तांबे-पीतल में छिपी सोने सी चमक

सूरजकुंड (फरीदाबाद), 09 फरवरी। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के समीप हरियाणा में फरीदाबाद में 33वां सूरजकुण्ड अंतरराष्ट्रीय शिल्प मेला में देश भर से आए शिल्पकार अपने बेहतरीन उत्पादों के साथ पहुंचे हैं। इस वर्ष मेला के थीम राज्य महाराष्ट्र के शिल्पकारों की सबसे अधिक भागीदारी है। महाराष्ट्र के जलगांव से विलास सोनवने तांबे व पीतल के बर्तनों, दीपक व सजावटी सामान लेकर पहुंचे हैं। रायगढ़ के किले की प्रतिकृति को जाने वाली सीढिय़ों के समीप अपनी विलास सोनवने की स्टाल पर रखे तांबे व पीतल के उत्पाद सहज ही मेला में आने वाले पर्यटकों का सहज ही ध्यान आकर्षित करते हैं। 
पीढ़ी दर पीढ़ी चला रहा तांबा-पीतल के बर्तनों का काम
विलास सोनवने ने बताया कि उनके परिवार में तांबा व पीतल के बर्तन बनाने का काम पीढ़ी दर पीढ़ी चला आ रहा है। पहले अधिकतर काम हाथ से होता था लेकिन बाजार की मांग के अनुरूप अब मशीन का इस्तेमाल भी होने लगा है। उन्होंने बताया कि तांबा से बनने वाली मंदिर में जलाए जाने वाली ज्योति व गिलास हाथ से तैयार की जाती है जबकि पीने के पानी की बोतल को तैयार करने में मशीन का इस्तेमाल होता है। उन्होंने बताया कि तांबा से बनने वाली बोतल में मीनाकारी भी होने लगी है। 
अमेरिका तक में प्रदर्शित किए उत्पादमहाराष्ट्र सरकार की मदद से विलास के परिवार की महिलाओं ने पूजा स्वयं सहायता समूह का गठन किया है। घर पर उत्पाद तैयार करने में महिलाओं की विशेष भूमिका रहती है। विलास ने बताया कि सूरजकुण्ड आना उनके लिए बेहद अच्छा अनुभव रहा है। हरियाणा सरकार का विशेष आभार जताते हुए विलास ने बताया कि वे यहां पहली बार आए है इससे पहले राजधानी दिल्ली के प्रगति मैदान तथा दिल्ली हाट में अपने उत्पाद प्रदर्शित कर चुके हैं। उन्होंने यह भी बताया कि हाल में महाराष्ट्र सरकार की ओर से उन्हें अमेरिका जाने का भी अवसर मिला। अमेरिका के तीन बड़े शहरों में उन्होंने अपने उत्पाद प्रदर्शित किए।
स्वास्थ्य के लिए गुणकारी है तांबे के बर्तनों का इस्तेमाल
तांबे के बर्तनों का इस्तेमाल स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभप्रद माना गया है। अगर तांबे के बर्तन में रात भर रखे गए पानी को सुबह पीने से पेट के विकार दूर होते हैं। सूरजकुण्ड मेला में तांबे के बर्तनों की बड़ी वैरायटी आपको देखने को मिलेगी। ऐसे में सूरजकुण्ड मेला घूमने आए तो आप मोलभाव के जरिए खरीददारी में अपनी कुशलता भी साबित कर सकते हैं।


No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages