Saturday, February 2, 2019

आम बजट में पुरानी पेंशन बहाल न होने और अनुबंध कर्मियों को पक्का न करने से भारी नाराजगी; सुभाष लाम्बा


फरीदाबाद,2 फरवरी(abtaknews.com ) कर्मचारियों ने आम बजट में पुरानी पेंशन बहाल न होने और अनुबंध कर्मियों को पक्का न करने से भारी नाराजगी प्रकट की है। सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के महासचिव सुभाष लांबा आयकर छूट की सीमा बढ़ाकर 5 लाख करने से भी कर्मचारियों को आंशिक राहत ही मिल पाएंगी। क्योंकि धोषणा के अनुसार सिर्फ पांच लाख तक की आय वाले कर्मचारियों को ही इसका लाभ होगा। जबकि हकीकत यह है बहुमत कर्मचारी पांच लाख की वार्षिक आमदनी से ज्यादा वेतन पाने वाले है और उनके लिए आयकर के स्लैब में कोई बदलाव नही किया गया है।  उन्होंने बताया कि अपनी मांगों की बजट में अनदेखी से नाराज़ देश भर के कर्मचारी अखिल भारतीय राज्य सरकारी कर्मचारी फैडरेशन के आह्वान पर 21 फरवरी को संसद घेराव करेंगे। उन्होंने एनपीएस में सरकार के अंशदान को बढ़ाकर 14 प्रतिशत करने की धोषणा को भी सिरे से खारिज कर दिया और पुरानी पेंशन बहाल करने की मांग की। 


संघ के महासचिव सुभाष लांबा ने बताया कि अनुबंध पर लगे कर्मचारियों को बजट में न तो समान काम समान वेतनमान देने की घोषणा की गई और न ही न्यूनतम वेतनमान बढ़ाने का निर्णय लिया गया। आयकर छूट की सीमा बढ़ाने का कोई लाभ अनुबंध कर्मियों को कोई लाभ नही मिलेगा, क्योंकि उनकी वार्षिक आय करीब 1से1.20 लाख ही है। उन्होंने बताया कि अखिल भारतीय राज्य सरकारी कर्मचारी फैडरेशन ने प्रधानमंत्री व वित्त मंत्री को पत्र लिखकर आम बजट में पुरानी पेंशन बहाल करने, अनुबंध कर्मियों को पक्का करने, आयकर छूट की सीमा बढ़ाकर दस लाख करने,18 हजार रुपए न्यूनतम वेतनमान देने, जीपीएस व सीपीएफ की ब्याज दर बढ़ाने की मांग की थी। लेकिन बजट में लगभग सभी मांगों की अनदेखी की है। 


2 comments:

  1. the shared news by you is really so helpful. i love these all articles
    Check all latest Central & State Govt. Scheme at https://pmil.in/

    ReplyDelete
  2. अनुबंध पर लगे कर्मचारियों को बजट में न तो समान काम समान वेतनमान देने की घोषणा की गई और न ही न्यूनतम वेतनमान बढ़ाने का निर्णय लिया गया

    ReplyDelete

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages