Saturday, February 9, 2019

फरीदाबाद की तहसील का दौरा कर पाराशर ने किया करोड़ों के भ्रष्टाचार का खुलासा


फरीदाबाद(abtaknews.com) 08 फरवरी: शहर की तहसीलों में कैसे कैसे काण्ड हो रहे हैं इस बारे में हर रोज अब चौंकाने वाले खुलासे होने लगे हैं। फरीदाबाद की तहसीलों में फर्जी रजिस्ट्री, एक ही स्टैम्प से दो रजिस्ट्री और फर्जी रजिस्ट्री पर लोन लेने का धंधा तो फल फूल ही रहा है कई अन्य तरह के गड़बड़झाले पर सरकार को जमकर चूना लगाया है रहा है। फरीदाबाद के कई विभागों में चल रहे भ्रष्टाचार के खिलाफ 25 फरवरी को जंतर-मंतर पर धरने का एलान कर चुके बार एसोशिएशन के पूर्व प्रधान एवं न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के अध्यक्ष एडवोकेट एल एन पाराशर ने कहा कि एक दिन पहले मैंने फरीदाबाद की तहसील का दौरा किया और वहाँ कुछ गड़बड़ देख मैंने थाना सेन्ट्रल की पुलिस बुलाया और पुलिस एक युवक को पकड़ कर ले गई थी जिसके पास 24 से ज्यादा रजिस्ट्री थी। वकील पाराशर ने बताया कि उस शाम का वीडियो सोशल मीडिया पर वाइरल हुआ और वीडियो देखने वाले एक युवक का फोन आया कि उस शाम फरीदाबाद की तहसील के उस वीडियो में दिखाई दे रहे कुछ अन्य लोग भी कई तरह के गड़बड़झाले कर रहे हैं। पाराशर ने बताया कि फोन करने वाले युवक को मैंने अपने पास बुलाया तो उसने कई चौंकाने वाली बताईं। 

पाराशर के मुताबिक़ युवक ने उन्हें बताया कि फरीदाबाद के सेक्टर 49 में बड़ा रजिस्ट्री काण्ड कर सरकार को करोड़ों का चूना लगाया गया है। पाराशर के मुताबिक़  प्लाट नंबर 4825 अवं 4829 की रजिस्ट्री में बड़ा घोटाला हुआ है। उन्होंने बताया कि इन रजिस्ट्रियों को फर्जी तरीके से कराया गया है बने प्लाट को खाली दिखाकर रजिस्ट्री करवा ली गई। सवा करोड़ की रजिस्ट्री को खाली प्लाट दिखाकर 37 लाख 50 हजार में करवाकर सरकार को बड़ा चूना लगाया गया। ये रजिस्ट्री 18 जुलाई 2018 को हुई थी। उसके बाद 20 दिसंबर 2018 को कम्प्लीशन दिखाकर प्लाट को फ्लैटों में डिवाइड दिखाकर फिर रजिस्ट्री कर दी गई। इस रजिस्ट्री में पेमेंट डिटेल छुपाई गई और 2012 का कंप्लीशन दिखाया गया जबकि इन प्लाटों को जुलाई में खाली दिखाया गया था। पाराशर ने बताया कि एक प्लाट पर 87 लाख 50 रूपये की राशि छुपाई गई और इस तरह एक दो नहीं कुल रजिस्ट्रियां हुईं और सरकार को करोड़ों रूपयों का चूना लगाया गया। पराशर ने कहा कि ये रजिस्ट्रियां बड़खल तहसील में हुईं थीं। 

पाराशर ने कहा कि इस गड़बड़झाले में तहसीलदार, नगर निगम फरीदाबाद सहित कई विभाग के अधिकारी शामिल हैं। उन्होंने कहा कि मैंने कई महीने से आवाज उठा रहा हूँ कि फरीदाबाद की तहसीलों में बड़ा भ्रष्टाचार हो रहा है लेकिन जिला अधिकारी खामोश बैठे हैं और इस मामले की शिकायत को जिला अधिकारी से भी की गई थी लेकिन उन्होंने कोई कार्यवाही नहीं करवाई जिसे देख लगता है कि सरकार को चूना लगाने वालो के साथ वो भी मिले हुए हैं। पाराशर ने वीरेंद्र भड़ाना ने इस मामले में आरटीआई के माध्यम से जानकारी माँगी थी और नगर निगम ने उस आरटीआई का जो जबाब दिया वो संलग्न है।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages