Breaking

Monday, February 25, 2019

कच्चे कर्मचारियों को पक्का कराने के लिए एकजुट हुए कराचारियों ने लघु सचिवालय पर किया प्रदर्शन

फरीदाबाद(abtaknews.com)25 फरवरी,2019; सरकार पर कच्चे कर्मचारियों को पक्का कराने का दबाब बढाने के लिए सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के आहवान पर आज जिला प्रधान अशोक कुमार की बध्यक्षता में सैकड़ों कर्मचारियों ने सैक्ट्रर-12 लघुसचिवाल पर धरना दिया। आज से शुरू हुए विधान सभा के बजट सत्र में रेगुलराइजेशन बिल पास कर कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने की मागं की है।  संघ  ने बजट सत्र में  पुरानी पेंशन बहाल करने का प्रस्ताप पारित कर केन्द्र सरकार को भेजने की भी मांग की है। सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा   के राज्य वरिष्ठ उपप्रधान नरेश कुमार शास्त्री ने  धरने को सम्बोधित करते हुए बताया कि सरकार ने पिछले साल माननीय हाईकोर्ट द्वारा २०१४ में अधिसूचित रेगुलराइजेशन की नी तियों रद़द कर दिया था। सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा ने इस निर्णय से प्रभावित कर्मचारियों को सेवा सुरक्षा प्रदान करने और अनुबन्ध कर्मियों को पक्का करने के लिए विधायी शक्तियों का प्रयोग करने की मांग को लेकर लम्बा आन्दोलन चलाया था। मुख्यमंत्री व मुख्यमत्री के प्रधान सचिव से हुई बातचीत में मानसून सत्र में रेगुलराइजेशन बिल लाने का निर्णय लिया गया था। जिसका ड्राफट भी सरकार की तरफ से सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा को भेजा गया था। संघ ने भी अपने सुझााव  सरकार को दिए थे। लेकिन अंतिम समय में सरकार ने मानसून सत्र में रेगुलराइजेशन बिल नहीं लाने का निर्णय लिया था। जिसको लेकर कर्मचारियों ने १० दिसम्बर को विधानसभा का घेराव किया था और कर्मचारियों  पर लाठीचार्ज,वाटर कैनन व आश्रूगैस का ख्ुालकर प्रयोग किया था। काग्रेस व इनेलो ने इस मामले को विधानसभा में जोरदार ढंग से उठाया था।
सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के जिला प्रधान अशोक कुमार ,सचिव युद्धवीर सिंह खत्री  ने बताया की विश्वविद्यालयों, कालेजों , आईटीआई,एनएचएम,बिजली,जनस्वास्थ्य अभियाङ्क्षत्रकी आदिी अनेक विभागों में सभी औपचारिक्ताए पुरी करते हुए पारदर्र्शी तरीके से अनुबल्ध आध्धर पर कर्मचारी लगें हुए हैं। उन्होने बताया कि सरकार न तो इनकी सेवाए नियमित कर रही है और न ही उनको समान काम समान वेतनमान दे रही है। उन्होने बताया कि सरकार न तो चुनावी घोषणा पत्र में किए वादों पर अमल कर रही है और न ही कर्मचारियों की अन्य मागों का समाधान कर रही है। कर्मचारियों की मागों का समाधान करना तो दूर सत्ता के नशे मे चुर सरकार बातचीत तक करने को तैयार नहीं है। सरकार कर्मचारियों का जमकर दमन एवं उत्पीडऩ कर रही है जिसका खमियाजा सरकार को चुनाव में भुगतना पड़ेगा।
धरने को  धर्मवीर वेष्णवध्बलबीर बालगुहेर, सतपाल नरवत,यूएमखान,करतार सिंह ,श्रीनन्द ढकोलिया,मास्टर भरत सिंह नागर,वजीर सिंह, रोडवेज नेता रविन्द्र नागर,बिजली के नेता सब्बीर अहमद,रमेशचन्द्र कर्मचन्द नागर,ख्ुार्शीद अहमद,मुकेश बैनिवाल,सुनिल चिडालिया,अतर सिंह केशवाल,गांधी सहरावत,डिगम्बर डागर,टीकाराम, आदि ने भी सम्बोधित किया।



No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages