Breaking

Friday, February 15, 2019

यह शादी का डांस नहीं जनाब सूरजकुंड मेले की मस्ती है, बंजारी के ढोल पर जमकर ठुमके लगाते हैं दर्शक


फरीदाबाद(abtaknews.com) 15 फरवरी,2019; ये शादी का डांस नहीं साहब, मेले में आए पर्यटकों की मस्ती का आलम है। अरावली की पहाडिय़ों में चल रहे 33 वें अंतरराष्टï्रीय सूरजकुंड क्राफ्ट मेला पूरे शबाब पर है और मेले का जादू इस कदर छाया है कि यहां आने वाले युवा व बच्चे थकावट के बावजूद थिरकने से नहीं कतराते। मेले में कोई बीन की धुन पर तो कोई ढोल की थाप में नृत्य कर रहा हैं। बंचारी के मशहूर ढोल नगाड़े की धमक मेला दर्शकों को थिरकने पर मजबूर कर रही है । 
हरियाणा के अंतिम छोर पर बसा हुआ बंचारी गांव ब्रजभूमि में आता है जिसमें होली पर ढोल नगाड़ा के साथ बरसाने की तरह रसिया गाकर होली मनाई जाती है। यह चलन सदियों से इस गांव में चलता रहा है जिसे अब गांव से बाहर निकाल कर प्रदेश में ही नहीं देश दुनिया में भी विख्यात कर दिया है । ढोल नगाड़े बजाने वाले कलाकारों की मानें तो उनके पूर्वज सिर्फ होली के त्यौहार पर ही ढोल नगाड़े बजाकर रसिया के साथ होली खेलते थे मगर अब उन्होंने अपने पूर्वजों की धरोहर को प्रख्यात कर दिया है और दुबई अबू धाबी सहित कई देशों में इस ढोल नगाड़े की धमक पर लोगों को ठुमकने के लिए मजबूर किया है । यह कला उन्होंने अपने पूर्वजों से ही सीखी है जिसका आज उन्हें भरपूर प्यार सहित लाभ मिल रहा है । 

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages