Breaking

Sunday, February 17, 2019

फरीदाबाद में 33 वें अन्तर्राष्ट्रीय सूरजकुंड मेले का समापन, रामबिलास शर्मा ने शिल्पकारों को किया सम्मानित


Finishing of 33rd International Surajkund Fair in Faridabad, Rambilas Sharma honored the artisans
सूरजकुंड (फरीदाबाद), 17 फरवरी(abtaknews.com )हरियाणा के पर्यटन एवं शिक्षा मंत्री राम बिलास शर्मा ने कहा कि राज्य सरकार पर्यटन को बढावा देने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। देश विदेश के हस्तशिल्पियों की कला को निखारने के साथ-साथ सूरजकुंड मेला उनके जीवन स्तर को भी ऊंचा उठाने में मील का पत्थर साबित हो रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार पानीपत की लड़ाई में शहीद होने वाले मराठा शूरवीरों की याद में कालाआम्ब (पानीपत) में अंतरराष्टï्रीय स्तर का स्मारक बनाएगी।

पर्यटन मंत्री राम बिलास शर्मा रविवार को 33वें सूरजकुंड अंतरराष्टï्रीय हस्तशिल्प मेले के समापन अवसर पर उपस्थित जनसमूह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सूरजकुंड मेला अंतरराष्टï्रीय स्तर पर अपनी विशेष पहचान बना चुका है। मेले में विभिन्न देशों ने हस्तशिल्प संबंधी स्टॉलें लगाकर एवं सांस्कृतिक गतिविधियों में भाग लेकर अपने-अपने देश की सांस्कृतिक विरासत का प्रचार एवं प्रसार किया है। उन्होंने कहा कि इस मेले के माध्यम से हमारे देश की संस्कृति का विदेशों में प्रचार एवं प्रसार करने में मदद मिल रही है। 33वें सूरजकुंड अंतरराष्टï्रीय हस्तशिल्प मेंले में करीब 17 लाख लोग मेला देखने के लिए पहुंचे। मेले में विभिन्न देशों एवं देश के अलग-अलग राज्यों द्वारा हस्तशिल्प से संबंधित स्टॉलें लगाई गई। मेला के समापन अवसर पर उन्होंने कहा कि विदाई का अवसर है और विदाई के क्षण बड़े कठिन और कष्टïदाई होते हैं। 

शिक्षा मंत्री राम बिलास शर्मा ने कहा कि इस मेला में विभिन्न 31 देशों के लोगों ने भाग लिया, जिनमें मिश्र, क्रिगीस्तान, इथोपिया, दक्षिण अफ्रीका, घाना, तजाकिस्तान, जिम्म्बावे, जांबिया, बुरूंड़ी, टूनिशिया, केनिया, थाइलैंड, उजबेस्तिान, भूटान, हॉलैंड, सीरिया, यूगांड़ा, अफगानिस्तान, बांगला देश सहित अनेक देश शामिल हैं। उन्होंने कहा कि भारत वर्ष के भी अनेक राज्यों के हस्तशिल्पियों द्वारा भी मेले में अपनी स्टॉलें लगाई गई। इन स्टॉलों में लोगों ने घरेलू सामान की खरीददारी की। उन्होंने कहा कि सूरजकुंड मेला सुचारू ढंग से चला, जिसका श्रेय पुलिस विभाग के अधिकारियों, जिला प्रशासन और पर्यटन विभाग के अधिकारियों को जाता है, जिन्होंने दिन-रात अपना कार्य पूरी निष्ठïा और लग्र के साथ पूरा किया। 
पर्यटन मंत्री ने कहा कि देश की एकता एवं अखंड़ता को कायम रखने के लिए जम्मू-श्रीनगर राष्टï्रीय राजमार्ग पर हुए आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 41 बहादुर जवान शहीद हो गए। उन्होंने कहा कि समूचा राष्टï्र इस दु:ख की घडी में शहीद परिवारों के साथ खड़ा है। हम शहीदों की शहादत को नमन करते हैं और देश इन वीर शहीदों को सदैव याद रखेगा। 
पर्यटन मंत्री ने 33वें सूरजकुंड अंतरराष्टï्रीय हस्तशिल्प मेला-2019 अवॉर्ड के लिए 21 व्यक्तियों को अलग-अलग क्षेत्रों परंपरागत, कालारत्ना, कालामणी, कला निधि और कलाश्री के लिए स्मृति चिन्ह एवं नगद राशि देकर सम्मानित किया। सम्मानित होने वाले व्यक्तियों में परंपरागत में राजस्थान के मोहन लाल गुर्जर, कालारत्ना में सीरिया के इस्कंदर इस्टिफन अल्हलाबी तथा कालामणी में गुजरात के हरिजन तेजसी धाने, राजस्थान के नंदकिशोर शर्मा, पश्चिमि बंगाल की मि_ïू रानी जाना, मध्य प्रदेश की कांता खाडसे, उडीसा की यू पासी भूई, उजबेकिस्तान के मिरसैड निगमाटोव, हरियाणा के चंद्रकांत बोंडवाल, अफगानिस्तान के हुमायून नूर शामिल हैं। 
उन्होंने कला निधि के लिए महाराष्टï्र के संदीप, हिमाचल प्रदेश के ओम प्रकाश मल्होत्रा, कर्नाटक के शाह रसीद अहमद क्वादरी, राजस्थान की दिशा शेखावत, गुजरात के माधुरी बेन पंकज भाई, जम्मू कश्मीर के शब्बीर अहमद धार तथा उत्तर प्रदेश के नसीब अहमद को स्मृति चिन्ह एवं नकद राशि देकर सम्मानित किया गया। कलाश्री में पश्चिम बंगाल के खोकान नंदी, हरियाणा के खेमराज सुंदरियाल, तेलंगाना के जेला वेंक्टेशा, पश्चिम बंगाल के उदय शंकर शामिल हैं। 
मेले के समापन अवसर पर महाराष्टï्र के पर्यटन विभाग के निदेशक आशुतोष राठौर ने कहा कि सूरजकुंड मेला उत्साह व उमंग से भरा रहा। शिल्पकारों व संस्कृति के प्रचार प्रसार से जुडे कलाकारों व देश के विभिन्न कोनो से आने वाले पर्यटकों, विदेशी पर्यटक इस मेले में पूरी तरह से घुल मिल गए थे। हरियाणा की मिट्टïी से मिले प्यार प्रेम को महाराष्टï्र के शिल्पकार व कलाकार सदैव याद रखेंगे। सूरजकुंड परिसर में रायगढ का किला बनाया गया है, जिसका रख रखाव समय-समय पर किया जाएगा। महाराष्टï्र द्वारा आयोजित फैशन-शो की भी मेले में धूम रही। 
हरियाणा पर्यटन विभाग के चेयरमैन जगदीश चौपड़ा ने अपने संबोधन में कहा कि सूरजकुंड मेला हमारे देश की बहुत बड़ी धरोहर है। यह मेला विश्व में ख्याति प्राप्त है और हस्तशिल्प के क्षेत्र में इस मेले ने देश के साथ-साथ विदेशों में भी अपनी पहचान बनाई है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार पर्यटन के क्षेत्र में प्रदेश को आगे बढाने के लिए कारगर कदम उठा रही है। 
पर्यटन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव विजय वर्धन ने 33वें सूरजकुंड अंतरराष्टï्रीय हस्तशिल्प मेला में शिक्षा मंत्री राम बिलास शर्मा, पर्यटन विभाग के चेयरमैन जगदीश चौपड़ा, थीम स्टेट महाराष्टï्र के प्रतिनिधि आशुतोष राठौर सहित जनप्रतिनिधियों, विभिन्न विभागों के अधिकारियों एवं गणमान्य नागरिकों का स्वागत किया। कार्यक्रम में लोक कलाकार महावीर गुड्डïू व गजेंद्र फोगाट ने पुलवामा के शहीदों की याद में देशभक्ति गीतों की प्रस्तुति के माध्यम से उनकी शहादत को नमन किया।
शिक्षा एवं पर्यटन मंत्री राम बिलास शर्मा को सूडान के राजदूत ने सम्मनित किया। शिक्षा मंत्री ने विधायक मूलचंद शर्मा व सीमा त्रिखा, जिला परिषद पलवल की चेयरपर्सन चमेली देवी, पर्यटन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव विजय वर्धन, पुलिस आयुक्त संजय कुमार, उपायुक्त अतुल कुमार द्विवेदी, प्रबंध निदेशक विकास यादव, आईपीएस निकिता गहलौत, मेला के नोडल अधिकारी राजेश जून, जिला अध्यक्ष गोपाल शर्मा सहित अनेक गणमान्य लोगों को सम्मानित किया गया।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages