Sunday, January 27, 2019

फरीदाबाद के किसानों की नहीं सुन रहा मोदी का मंत्री, चुनाव में किसान दबाएंगे नोटा

Modi's minister not hearing farmers of Faridabad, farmers will not press for election

फरीदाबाद(abtaknews.com)27जनवरी,2019;मुआवजा नहीं तो वोट नहीं, नोटा का करेंगे इस्तमाल की मुहिम को लेकर गाँव-2 में किसान संघर्ष समिति नहरपार फरीदाबाद द्वारा पंचायतो का सिलसिला जारी है!इस कड़ी में जाट बहुल्या गाँव खेड़ी कलां मास्टर बलबीर की अध्यक्षता में परमहंस स्कूल में पंचायत रखी गई! जिसका संचलन समिति के संयोजक सत्यपाल नरवत ने किया! इसी कड़ी में अगली पंचायत गाँव फरीदपुर में रखी जायगी!पंचायत में सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के महासचिव सुभाष लाम्बा ने किसा नो की मांगो का समर्थन करते हुए कहा की सरकार लोकसभा के चुनावो से पहले मुआवजे का भुगतान करे और बातचीत करके समस्या का समाधान करे!
नहरपार के किसान अपनी जमीन के पैसे मांग रहे है जो पिछले पांच साल से लम्भित पड़े है! किसान सरकार से कर्जा माफ़ नहीं करा रहे! पंचायत को पलवली से राजकुमार आर्य, नचौली से सतेंदर नागर, बलजीत सिंह नरवत, संदीप खेड़ी, हरेराम शर्मा, उदयवीर नागर एडवोकेट, मवई से धर्मपाल शर्मा, नीमका से जगवीर सरपंच, वजीरपुर से जयचंद नम्बरदार, अरुण त्यागी, भटोला से करतारसिंह, मिर्जापुर से भूपसिंह, खेड़ीकलां के पूर्व सरपंच जिलेसिंह, बाबू बुढ़ैना, परमानन्द आदि ने सम्बोधित किया! सयोजक सत्यपाल नरवत ने बताया की खेड़ी कलां का सर्किल रेट डेढ़ करोड़ प्रति एकड़ था जो कि मौजूदा सरकार में घटाकर एक करोड़ बीस लाख कर दिया गया जबकि आर-जॉन के अंदर नगर निगम की सीमा से बहार के सभी गाँव का रेट डेढ़ करोड़ है! 2031 के प्लान में जमीन अधिग्रहण होगी तो खेड़ी कलां के किसानो को प्रति एकड़ लगभग एक करोड़ का नुकसान होगा! रिवाज, ददसिया, महावतपुर, पलवली आदि गांवो में फसल बीमा होने के बाबजूद फसल बर्वाद होने पर मुआवजा नहीं दिया गया! 
मजबूरन किसानो को कोर्ट की शरण में जाना पड़ा! नरवत के अनुसार सत्ताधरी नेताओ ने अभी तक उन्हें बुलाकर उनकी जायज मांग को गंभीरता से सुना ही नहीं है! समिति बातचीत से समस्या का समाधान चाहती है! लेकिन कोई सुनने व समझने को तैयार ही नहीं है! 

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages