Thursday, January 24, 2019

अरावली पर अवैध खनन, अवैध कब्ज़ा, अवैध निर्माण जारी, फरीदाबाद की जनता को बेमौत मारने की तैयारी

Illegal mining, illegal possession, illegal construction, release of Faridabad people to unearth
फरीदाबाद(abtaknws.com) 24 जनवरी,2019: बार एसोशिएशन के पूर्व अध्यक्ष और न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के कहा है कि अरावली पर पत्थरों की सरेआम लूट और अवैध खनन, अवैध बोरिंग जारी है। उन्होंने कहा कि मुझे बुधवार रात्रि अवैध खनन की जानकारी मिली और मैं मौके पर गया लेकिन घोर अँधेरा और घना जंगल होने के कारण वहां की साफ़ तस्वीरें नहीं ले सका इसके बाद मैं गुरुवार सुबह  फिर मौके पर गया जहां कई लोग खनन कर अवैध कब्ज़ा कर रहे थे। मौके पर लगभग एक दर्जन मजदूर काम करते  दिखे और जंगल में एक मोटी दीवार भी बनाई जा रही है जो काफी लम्बी चौड़ी है। पाराशर ने कहा कि ये कब्ज़ा सूरजकुंड-पाली रोड के किनारे शराब के ठेके के पीछे घने जंगल में किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि काफी समय से यहाँ अवैध खनन और अवैध कब्ज़ा जारी है लेकिन खनन विभाग के अधिकारियों को शायद ये सब नहीं दिखा या वो जानबूझकर सोये हुए हैं। उन्होंने कहा कि अरावली पर पीएलपीए एक्ट कई वर्षों से लागू है जहाँ कोई एक ईंट भी नहीं लगा सकता और यहाँ तो लम्बी चौड़ी दीवार खड़ी की जा रही है और पत्थर भी चुराए जा रहे हैं। पाराशर ने कहा कि अरावली के आस पास के ग्रामीण अगर एक ईंट भी लगाते हैं तो उन पर एफआईआर दर्ज करवा दी जाते है और अगर कोई माफिया बड़े बड़े निर्माण या अवैध कब्ज़ा करता है तो अधिकारियों को सांप सूंघ जाता है। उन्होंने कहा कि यहाँ वन विभाग भी सोया हुआ है और जंगल में पेड़ काट अवैध निर्माण हो रहा है। 
उन्होंने कहा कि अरावली सरेआम लूट रही है और फरीदाबाद के सम्बंधित अधिकारी तमाशा देख रहे हैं और ऐसे ही चलता रहा तो अरावली पूरी तरह से तवाह हो जाएगी और हमारी आने वाली पीढ़ियों को ले अरावली पर्वत एक इतिहास बनकर रह जाएगा। हाँ पत्थर चोर जरूर मालामाल हो जायेंगे। पाराशर ने कहा जब अरावली का आस्तित्व ख़त्म हो जायेगा तब फरीदाबाद के लाखों लोग बेमौत मरेंगे और इसका फायदा शहर के अस्पताल वाले उठाएंगे और उठाने भी लगे हैं। बड़ी बड़ी अस्पतालों में मेला लगा रहता है जिसका प्रमुख कारण है कि अब फरीदाबाद की जनता को शुद्ध हवा पानी नहीं मिल रहा है और लोगों के गुर्दे फेफड़े असमय जबाब देने लगे हैं। दिल कब धड़कना बंद कर दे कोई पता नहीं है और इन सबका  कारण है अरावली का चीरहरण और चीरहरण के बाद बढ़ा शहर में प्रदूषण। उन्होंने कहा कि कुछ लोग सरेआम अरावली पर पत्थर चुरा रहे हैं और अवैध बोर कर जल दोहन कर रहे हैं और अरावली का पानी दिल्ली में बेंच रहे हैं।  उन्होंने कहा कि मैं देश के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और हरियाणा के मुख्य्मंत्री को पत्र लिख रहा हूँ और मौके के वीडियो उनके पास भेज रहा हूँ ताकि लापरवाह अधिकारियों पर तुरंत कार्यवाही कर अरावली को लुटने से बचाया जा सके और फरीदाबाद में प्रदूषण की कवच कही जाने वाली अरावली का अब कोई चीरहरण न कर सके।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages