Breaking

Sunday, January 13, 2019

ग्रेटर फरीदाबाद के 19 गांवों के किसानों ने मुआवजे के लिए किया प्रदर्शन, 5 साल से चल रहा आंदोलन

Farmers of 19 villages of Greater Faridabad have performed for compensation, movement running for 5 years

फरीदाबाद(abtaknews.com दुष्यंत त्यागी)13 जनवरी,2019; कोर्ट द्वारा पांच साल से बढाए गए मुआवजे की मांग को लेकर ग्रेटर फरीदाबाद के 19 गांवों के सैंकड़ों किसानों ने प्रदर्शन किया। बुढैना में किसान संघर्ष समिति के प्रधान अमरचंद चंदीला की अध्यक्षता में एक पंचायत बुलाई गई। जिसका संचालन समिति संयोजक सतपाल नर्वत ने किया। आक्रोशित किसानों ने सर्वसम्मति से फैसला किया कि अब मंत्रियों के दरवाजे पर हाजरी नही लगांंएगें। आगामी चुनावों में नारा होगा मुआवजा नही तो वोट नहीं। किसान गांव गांव जाकर प्रत्येक रविवार को चुनावों तक मीटिंग करेंगें और किसान विरोधी नीतियों को जन जन तक पहुंचाएंगें। मीटिंग को किसान नेता रणबीर सिंह चंदेला ने संबोंधित करते हुए कहा कि वे एक किसान की हैसियत से मीटिंग में आए हैं न कि राजनैतिक नेता बनकर और किसानों की लडाई में किसान बनकर सबसे अग्रिम पंक्ति में खडे मिलेंगें। मीटिंग को बलजीत सिंह नर्वत, धीरज यादव, जगबीर सरपंच, लीलू चंदीला, हरिचंद नागर, सत्तपाल ब्लॉक सदस्य,मास्टर राजकुमार, बाबूराम ने भी संबोधित किया। 
समिति संयोजक सत्तपाल नर्वत ने बताया कि सैशन कोर्ट का बढा हुआ मुआवजा मई 2013 से एवं हाईकोर्ट का मुआवजा सितंबर 2015 से नही दिया गया है। इस दौरान मुआवजा न मिलने की वजह से किसानों ने कर्जा लेकर अपने बेटे-बेटियों की शादी की है। चुनावों के दौर में सभी पार्टियां किसानों को कर्जे माफ कर रही हैं, खटटर सरकार किसानों की पैंशन बांधने की योजना बना रही है लेकिन किसानों का खुद का पैसा सरकार नही दे रही है। जैसे सरकार किसानों के साथ जुमलेबाजी और वायदाखिलाफी कर रही है। वैसा ही जवाब चुनावों में किसान देगें। जंग छिड चुकी है। इसी कडी में आगामी रविवार 20 जनवरी को नीमका गांव में किसान मीटिंग करेंगेें।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages