Friday, November 16, 2018

मानव रचना के छठे दीक्षांत समारोह में छात्रों को डिग्री एवं पदक द्वारा सम्मानित किया गया




फरीदाबाद,16 नवंबर,2018(abtaknews.com)मानव रचना इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड स्टडीज (पूर्व में रूक्रढ्ढ)ने २०१७ और २०१८ के उत्तीर्ण अकेडमिक सत्रों के लिए अपना छठा दीक्षांत समारोह आयोजित किया।अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद के अध्यक्ष प्रोफेसर अनिल डी सहस्रबुद्धि ने समारोह मेंमुख्य अतिथि के रूप में अध्यक्षता की। इस अवसर के लिए अतिथि पीजे एमिल्सन, कार्यकारीअध्यक्ष,कुनस्कैप्सस्कोलन एजुकेशन भी आमंत्रित थे।मानव रचना एजुकेशनल इंस्टीट्यूशंस  के अध्यक्ष डॉ प्रशांत भल्ला डॉ अमित भल्ला, उपाध्यक्ष , डॉ संजय श्रीवास्तव, प्रबंध संचालक, डॉएन.सी. वाधवा, कुलपति, डॉ एमके सोनी, प्रो-वीसी,  और अन्य वरिष्ठ गणमान्यअतिथिगण भी उपस्थित थे डॉ एन.सी. वाधवा ने वार्षिक विवरण देते हुए मानव रचना की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत पर जोर दिया।उन्होंने विशेष रूप  से मानव रचना की उपलब्धियों का व्याख्यान करते हुए बताया की मानव रचना न सिर्फशिक्षा अपितु विज्ञान, आविष्कार एवं खेल में भी अव्वल रहा है। 

प्रोफ सहस्रबुद्धि ने मानव रचना के हरे भरे कैंपस को खूब सराहा तथा विशेष रूप से कैंपस में मौजूद विभिन्नप्रकार की सुविधाओं का उल्लेख किया 7 उन्होंने कहा की मानव रचना ने वाकई में रचना की है न सिर्फ शिक्षाके क्षेत्र में बल्कि अन्य सभी क्षेत्रों में 7 यहाँ के छात्रों के लिए एक मज़बूत नींव का निर्माण हो चुका है औरउसपे एक इतिहास की रचना वो कर पाएं इसकी भी संपूर्ण व्यवस्था है  7 उन्होंने विशेष रूप से भल्ला परिवारकी सराहना की तथा उनके विशेष योगदान को नमन किया। 
पेजे एमिल्सन ने इस महान दिन का हिस्सा बनने में अपना आभार और सम्मान व्यक्त किया। उन्होंने कहा, "आज के उत्तीर्ण स्नातक के पास न सिर्फ नव्य तकनीक बनाने की क्षमता है  बल्कि  भविष्य के पीढ़ियों के लिए एक बेहतर कल का निर्माण करने का भी एक स्वर्ण अवसर है"7 कुल २३१९ स्नातक छात्र,४६८ स्नातकोत्तर छात्र, ३८  डॉक्टरेट के छात्रों को सभी कार्यक्रमों के लिए डिग्री सेसम्मानित किया गया। दोनों अकादमिक सत्रों के टॉपर्स को उनके आदर्श प्रदर्शन के लिए स्वर्ण पदक एवंसर्टिफिकेट साथ दिया गया था। ६७ छात्रों में पदक का वितरण किया गया। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: