Tuesday, November 20, 2018

दुधौला के आस-पास सैकड़ों ग्रामीण पीएम मोदी द्वारा रिमोट से शिलान्यास समारोह के बने साक्षी

पलवल, 20 नवंबर,2018(Abtaknews.com) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरूग्राम के सुलतानपुर में आयोजित जनसभा से रिपोर्ट से बटन दबाकर जिले के गांव दुधौला में बनने वाले श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय की आधारशिला रखी। इस कार्यक्रम का सीधा प्रसारण वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से दुधौला में आयोजित कार्यक्रम में दिखाया गया, जहां दुधौला के आस-पास के सैकड़ों गांवों के ग्रामीण शिलान्यास समारोह के साक्षी बने। इस कार्यक्रम में केंद्रीय लघु, सूक्ष्म एवं मध्यम उद्यम राज्यमंत्री गिरिराज सिंह, उद्योग मंत्री हरियाणा विपुल गोयल, विधायक टेकचंद शर्मा, उपायुक्त डा. मनीराम शर्मा, कुलपति राज नेहरू व गांव के सरपंच सुंदर सिंह उपस्थित थे। 
प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि हरियाणा की पहचान हिम्मत व हौसला के रूप में जानी जाती है। उन्होंने कहा कि श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय हरियाणा को नई पहचान देगा। इस विश्वविद्यालय में ऐसे कोर्स जिससे युवाओं को रोजगार व स्वरोजगार के लिए हुनरमंद बनाया जाएगा। उन्होंंने कहा कि कनैक्टिविटी के नेटवर्क से रोजगार के अवसर बढते हैं। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने भी श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय के निर्माण पर कहा कि यह विश्वविद्यालय युवाओं को रोजगार से जोडने का सशक्त माध्यम बनेगा तथा भविष्य में विभिन्न क्षेत्रों में हुनरमंद युवाओं की आवश्यकता की पूर्ति करेगा।
विश्वविद्यालय स्थल पर आयोजित शिलान्यास कार्यक्रम में पहुंचे केंद्रीय सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि विश्व में उन देशों ने अधिक तरक्की की है, जिसका कौशल विकास का प्रतिशत अधिक रहा है। श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय से ऐसे हुनरमंद युवा निकालेगा जो विभिन्न क्षेत्रों में देश के विकास में भागीदार बनेंगे। उन्होंने कहा कि हर छोटे-बडे कार्य के लिए तकनीक की आवश्यकता है। हमारी सरकार ने ऐसी नीति बनाई है कि पशुओं के गोबर से भी कागज, पैंट, डिस्टेंपर जैसी आवश्यक चीजें बनाई जा सके। उन्होंने कहा कि देश के प्रधानमंत्री ने अब रोजगार की परिभाषा को ही बदल दिया है। आज युवाओं के सामने स्वरोजगार अपनाने के अपार अवसर हैं, जिसके लिए वे थोड़े समय में ही बैंक से ऋण प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि युवाओं की मदद के लिए उद्योगो में सामान्य सुविधा केंद्र स्थापित किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस विश्वविद्यालय के विद्यार्थी गांव के लोगों को भी विभिन्न क्षेत्रों में हुनरमंद बनाने के लिए उन्हें प्रशिक्षण देंगे। उन्होंने कहा कि चीन जैसे देश की विकास दर तभी बढ पाई जब वहां पर महिलाओं को भी अधिक रोजगार के अवसर दिए गए। अब जरूरत है कि ऐसे काम शुरू किए जाएं, जिससे भारत में घर बैठे महिलाएं भी 10 से 15 हजार रुपये तक मासिक आमंदनी ले सके। उन्होंने कहा कि उनके विभाग ने उद्यमियों को एक से दो करोड़ के ऋण उपलब्ध करवाए हैं। उन्होंने कहा कि युवाओं के उज्ज्वल भविष्य के लिए टेकनोलोजी सेंटर खोले जा रहे हैं, जिसके तहत 15 नए टेकनोलोजी सेंटरों के निर्माण पर कार्य श्ुारू हो गया है तथा प्रधानमंत्री के इच्छा के अनुसार प्रत्येक प्रदेश में एक टेकनोलोजी सेंटर खोला जाएगा। अभी 20 नए टेकनोलोजी सेंटर खोलने की दिशा में भी कार्य किया जाएगा। 
हरियाणा के उद्योग मंत्री विपुल गोयल ने कहा कि गांव दुधौला की पंचायत ने एक रुपये के टोकन पर 83 एकड़ भूमि श्री विश्वकर्मा विश्वविद्यालय को प्रदान करके इस क्षेत्र के विकास में महत्वपूर्ण सहयोग करने का कार्य किया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री का सपना है कि देश के 65 युवाओं को सक्षम बनाकर उन्हें आगे बढाया जाए। अगर युवा शक्ति आगे बढेगी तो देश आगे बढेगा। उन्होंने स्टार्टअप इंडिया, मेक इन इंडिया के तहत देश के युवाओं को नई राह दिखाई है। ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के तहत प्रदेश में उद्योगों को ऐसा माहोल दिया, जिसके दम पर हरियाणा उत्तर भारत में पहले तथा पूरे देश में तीसरे नंबर पर आ गया है। उन्होंने कहा कि उद्योगों में सक्षम व हुनरमंद लोगों की जरूरत है जो कौशल विकास विश्वविद्यालय द्वारा पूरी की जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री का सपना है कि हर हाथ को दक्ष बनाया जाए ताकि वह रोजगार के अवसर प्राप्त कर सके। उन्होंने कहा कि इस विश्वविद्यालय में पढने वालो बच्चों को स्टाइफंड भी दिया जाएगा तथा स्नातक व स्नातकोत्तर के कोर्स करवाए जाएगे, जिससे उद्योगों में मजदूर स्तर का व्यक्ति भी सीईओ बनने तक की स्थिति में आ जाएगा। उन्होंने कहा कि आज प्रधानमंत्री ने तीन बड़ी परियोजनाओं की सौगात देकर हरियाणा के लोगों को उन्नति की राह बढाने का काम किया है। बल्लभगढ तक मैट्रो तथा केएमपी एनसीआर क्षेत्र के विकास में नई इबारत लिखने का काम करेंगे। केएमपी के साथ-साथ पांच नए शहर बसाए जाएंगे जो एनसीआर क्षेत्र की जनसंख्या के दबाब को भी कम करेंगे।
विधायक टेकचंद शर्मा ने कहा कि इस विश्वविद्यालय के बनने से इस क्षेत्र के युवाओं का सीखो, कमाओ व पहचान बनाओ का सपना पूरा होगा। उन्होंने कहा कि यह विश्वविद्यालय गांव दुधौला व पृथला क्षेत्र को नई पहचान देगा। उन्होंने कहा कि दुधौला गांव की पंचायत ने जहां 83 एकड़ जमीन विश्वविद्यालय को दी वहीं सात एकड़ जमीन 185 करोड़ रुपये की रैनीवेल परियोजना के लिए भी दी। उन्होंने कहा कि आज पृथला में प्रदेश सरकार की ओर से करीब 16 नई परियोजनाएं व संस्थान देने का कार्य किया है, जिसमें बीएससी नर्सिंग कॉलेज व आईटीआई शामिल हैं। विश्वविद्यालय के कुलपति राज नेहरू ने कहा कि आज इस क्षेत्र के लोगों को श्री विश्वकर्मा स्किल यूनिवर्सिटी के रूप में नायाब तोहफा मिला है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुग्राम जन विकास रैली स्थल से विश्वविद्यालय की नींव रखी हैं, जोकि इस क्षेत्र के लोगों के लिए बड़ी खुशी की बात है। यह देश का इस तरह का पहला कौशल विश्वविद्यालय है। कुलपति ने बताया कि कार्यक्रम के लिए कई उद्योगों के प्रतिनिधियों और क्षेत्र के सैंकड़ों लोगों ने भाग लिया। दुधौला में खुलने वाला यह श्री विश्वकर्मा विश्वविद्यालय क्षेत्र के लोगों के जीवन सुधार और रोजगार के अवसर देने के मामले में वरदान साबित होगा। इससे पहले उन्होंने केंद्रीय मंत्री का पुष्प गुच्छ देकर स्वागत किया। गांव के सरपंच सुंदर सिंह ने उनके गांव में बनने वाली विश्वविद्यालय को सरकार का सराहनीय कदम बताया तथा गांव में पहुंचने पर सभी अतिथियों का पगडी बांधकर स्वागत किया।
कार्यक्रम के दौरान कौशल विकास को विशेष रूप से तैयार किए गए एक नाटक का मंचन भी किया गया और हरियाणवी नृत्य व रागनी सहित कई सांस्कृतिक कार्यकर्मो का आयोजन किया गया। इस अवसर पर वाईएमसीए के कुलपति दिनेश कुमार, एसवीएसयू की रजिस्ट्रार ऋतु बजाज व जयभारत मारूति के कार्यकारी निदेशक निशांत आर्य भी उपस्थित थे। 



loading...
SHARE THIS

0 comments: