Tuesday, November 6, 2018

गजब है हंगामा, कर्मचारियों का एक ही जिले में एक स्थान से दूसरे स्थान पर ट्रांसफर बना गुनाह!

Roadways employees transfer, union angry in faridabad
फरीदाबाद,06 नवम्बर(abtaknews.com) गजब है हंगामा, कर्मचारियों का एक ही जिले में एक स्थान से दूसरे स्थान पर ट्रांसफर बना गुनाह! जी हां हम बात कर रहे हैं कर्मचारी नेताओ के एक प्रेस नोट की जिसमें कुछ कर्मचारी नेताओं के ट्रांसफर किए गए हैं जिस पर यूनियन उबाल खा रही है।  रोड़वेज जीएम ने बदले की भावना से हड़ताल में अग्रणी पंक्ति में रह कर काम करने वाले 5 कर्मचारी नेताओं को बल्लभगढ़ मैन बस अड्डे से सिटी में ट्रांसफर कर दिया है। जीएम की तानाशाहीपूर्ण कार्यप्रणाली से पुनः कर्मचारियों व जीएम के बीच में टकराव होने की प्रबल संभावना बन गई है। पांचों कर्मचारियों ने बिना किसी कारण बताए किए गए इन तबादलों पर कड़ी नाराजगी जताते हुए इन्हें वापस लेने की मांग की है। इन नेताओं द्वारा लिखित में जीएम को दिए पत्र में कहा गया है कि इन आदेशों में वरिष्ठता व कनिष्ठता को भी पुरी तरह दरकिनार किया गया है। उन्होंने केवल यूनियन के आदेशानुसार हड़ताल में किए गए कार्यों के कारण बदले की भावना से यह तबादले करने का आरोप लगाया गया है। तबादला किए नेताओं में रविन्द्र नागर, जितेंद्र धनखड़, शहजाद खान, प्रदीप सिंह व विरेन्द्र कुमार है।
 सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के महासचिव सुभाष लांबा ने बताया कि जीएम ने हड़ताल शुरू होने से पहले ही दस नेताओं को निलंबित कर दिया था और यूनियन के कार्यालयों को बंद कर वेल्ड करा दिया था। जिसके कारण फरीदाबाद में 16 अक्टूबर की बजाय 15 अक्टूबर से ही हड़ताल शुरू हो गई थी। हड़ताल समाप्त के बाद हाईकोर्ट के निर्णय के बावजूद जीएम ने इन नेताओं को ड्यूटी ज्वाइन करवाने से ही मना कर दिया था। जिन्हें बाद में दबाव में ज्वाइन करवाया गया था।
सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के महासचिव सुभाष लांबा व वरिष्ठ उपाध्यक्ष नरेश कुमार शास्त्री ने जीएम की तानाशाही एवं टकराव की नीति की घोर निंदा की है। उन्होंने कहा कि जीएम हाईकोर्ट के आदेशों को भी मानने को तैयार नहीं है। उन्होंने कहा कि 12 नवम्बर को विभाग के एसीएस के साथ होने वाली मीटिंग और 14 नवम्बर को माननीय हाईकोर्ट में जीएम की कार्ययोजना प्रणाली का मुद्दा प्रमुखता से उठाया जाएगा। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही जीएम की तानाशाही पूर्ण कार्य प्रणाली की लिखित शिकायत उपायुक्त व पुलिस आयुक्त को सौंपी जाएगी। मुख्य संगठनकर्ता वीरेंद्र सिंह डंगवाल, जिला प्रधान अशोक कुमार व सचिव युद्धवीर सिंह खत्री ने नेताओं के तबादले आदेश तुरंत प्रभाव से वापस लेने की मांग जीएम से की है। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर जीएम ने बदले की भावना से किए गए तबादले आदेश वापस नही लिया तो रोड़वेज व अन्य सभी विभागों के कर्मचारी जीएम का घेराव करने पर मजबूर होंगे।


loading...
SHARE THIS

0 comments: