Saturday, November 10, 2018

फरीदाबाद सिविल अस्पताल में महिला की तड़प-तड़प कर मौत, लापरवाही का वीडियो वायरल

In Haryana, carelessness of the health department, the death of the woman in Civil Hospital - 2
फरीदाबाद(abtaknews.com) 10 नवंबर,2018: क्या ऐसे होगा आयुष्मान भारत? हरियाणा में स्वास्थ विभाग की लापरवाही का सिविल अस्पताल के अंदर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें एक महिला बेड के पास अस्पताल के फर्श पर तड़प रही है उसके आस -पास न तो कोई डॉक्टर है और न तो कोई नर्स है महिला के मुँह और नाक से खून निकल रहा और महिला की कुछ ही देर में तड़प - तड़प मौत हो जाती है ,जी हाँ ये दिल दहला देने वाला वीडियों  इन दिनों सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है और इस वीडियो के साथ -साथ एक मैसेज भी वायरल हो रहा है जिसमे लिखा है की क्या इस लापरवाही के मामले में अस्पताल के पीएमओ सीएमओ और अस्पताल की नर्स पर गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज कर उन्हें नौकरी से निकाल देना चाहिए। इस वायरल वीडियो और मैसेज को देखने के बाद जब इस वीडियो की पड़ताल की तो पाया की यह वीडियों फरीदाबाद के बल्लभगढ़ की रहने वाली 54 वर्षीय मीना का है जिसका फरीदाबाद के सबसे बड़े  सिविल अस्पताल में ईलाज चल रहा था। जिसके बाद अस्पताल के डाक्टरों और मृतक महिला के परिजनों से इस वीडियो की हकीकत जानने की कोशिश की। 

फरीदाबाद के सिविल अस्पताल के फर्श पर तड़पते तड़पते महिला मरीज के मुँह और नाक से खून आता रहा लेकिन उसके आस-पास न तो कोई डॉक्टर है और न ही कोई नर्स है ऐसा वीडियो सोशल साइट पर तेजी से वायरल हो रहा है। सिविल अस्प्ताल बादशाह खान में पहले से भर्ती एक मरीज के अटेंडेंट ने अबतक न्यूज़ पोर्टल टीम को बताया की यह वीडियो बीते 4 नवम्बर का है,उसके मुताबिक महिला यहाँ इलाज के लिए भर्ती थी और उसका बेटा उसे टॉयलेट के लिए लेकर जा रहा था की तभी अचानक उसकी तबियत बिगड़ी और वह फर्श पर गिर गई जिसके बाद उसके मुँह और नाक से खून आने लगा आनन ,फानन में  उसका बेटा नर्स को बुलाने के लिए तीसरी मंजिल पर दौड़ा  क्योकि जिस दूसरी मंजिल पर वह एडमिट थीं वहां पर कोई नर्स का स्टाफ बैठता ही नहीं है ,इसलिए उन्हें आने में समय लग गया और जब तक वह नर्स आई तबतक उनकी मौत हो चुकी थी। 
घटना के चश्मदीद सचिन ने पूरा हाल अपनी आँखों से देखा था। मृतक महिला के बेटे अजीत के  मुताबिक़ वह अपनी माँ को ईलाज के लिए सिविल अस्पताल में लेकर गया था जहाँ डाक्टरों ने माँ की हालत गम्भीर बता कर उसे भर्ती कर लिया और उसे बताया की उसकी माँ को टीबी है भर्ती करने के बाद वह अपनी मर्जी से उसकी माँ का इलाज करते रहे डॉक्टर आते और टेस्ट लिख कर चले जाते लेकिन नर्स ने उन्हें  किस टेस्ट के बारे में नहीं बताया और जब वह नर्स से कोई भी बात पूछने जाते थे तब वह उन्हें झाड़ कर भगा देती थी, इतना ही नहीं उसने बताया की जिस वार्ड में उसकी माँ एडमिट थी उस वार्ड में हर प्रकार की बीमारी का पेसेंट एडमिट था। अब वह चाहता है की उसकी माँ तो गई लेकिन अस्पताल के स्टाफ के खिलाफ उचित करवाई होनी चाहिए ताकि किसी और मरीज की जिंदगी के साथ कोई खिलवाड़ न करने पाए।  
लापरवाही के इस मामले में जब अस्पताल के सीनियर मेडिकल ऑफिसर डॉ जयंत आहूजा से बात की तो उन्होंने बताया की महिला यहाँ 29 अक्टूबर से इलाज के लिए भर्ती थी और उसे टीबी के साथ-साथ सांस की भी प्रॉब्लम थी जिसके बारे में उसके परिजनों को बता दिया गया था और टीबी के कारण ही उसके मुँह से ब्लड आया और उसकी मौत हो गई। डॉ के मुताबिक महिला का पूरा इलाज चल रहा था उन्होंने बताया कि महिला गिरी नहीं थी बल्कि उसके बेटे ने ही उन्हें उल्टी के लिए बैठाया था ,जिसके बाद वह जमीन पर लेट गई और उसके मुँह से खून आने लगा। तुरंत नर्स वहां पहुंच गई थी,जिसका किसी ने वीडियो बना लिया। उनके मुताबिक इस घटना के बाद एक बोर्ड बना कर इसकी जांच की गई उनके यहाँ किसी प्रकार की कोई लापरवाही नहीं हुई है। 


loading...
SHARE THIS

0 comments: