Saturday, November 3, 2018

हाईकोर्ट के दखल के बाद 19 दिन के बाद रोडवेज कर्मचारियों की हड़ताल समाप्त

फरीदाबाद 3 नवम्बर(abtaknews.com) पंजाब एण्ड हरियाणा हाईकोर्ट के दखल के बाद 19 दिन के बाद रोडवेज कर्मचारियों की हड़ताल समाप्त हो गई। हड़ताली कर्मचारियों ने सुबह गेट मीटिंग आयोजित कर हाईकोर्ट व हरियाणा कर्मचारी तालमेल कमेटी के निर्णय से कर्मचारियों को अवगत कराते हुए ड्यूटी ज्वाइन करने की घोषणा की। इस घोषणा के उपरांत सभी कर्मचारी अपनी-अपनी ड्यूटियों पर चले गए और बसें सडक़ों पर दौडऩे लगी और जनता ने राहत की संास ली। रोडवेज कर्मचारी नेताओं ने 19 दिन हुई तकलीफों के लिए आम जनता से माफी मांगते हुए हड़ताल में सहयोग करने वाले सभी कर्मचारी संगठनों, ट्रेड यूनियनों, छात्रों व राजनीतिक दलों का आभार प्रकट किया। 
5 कर्मचारी नेताओं को ड्यूटी पर नहीं लिया, पुन: टकराव के आसार : -सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के महासचिव सुभाष लाम्बा ने बताया कि माननीय हाईकोर्ट के आदेशानुसार फरीदाबाद के दोनों डिपो के हडताली कर्मचारी ड्यूटी पर चले गए। लेकिन हाईकोर्ट के निर्णय के बावजूद जीएम के निर्देश पर यूनियन के नेता जितेन्द्र धनखड, कर्मचन्द देशवाल, प्रदीप सिंह, विरेन्द्र सिंह व जयसिंह गिल को ड्यूटी पर नहीं लिया गया। उन्होंने बताया कि इन नेताओं ने बायोमैट्रिक हाजिरी दर्ज कर लिखित में अपनी ड्यूटी ज्वाइन करने का आवेदन दिया। लेकिन इसके बावजूद इन्हें ड्यूटी पर नहीं लिया गया। उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि महाप्रबंधक को शांति से डिपो चलाने में रूचि नहीं है और वह हाईकोर्ट के निर्णय को भी मानने को तैयार नहीं है। उन्होंने रोडवेज प्रशासन से माननीय हाईकोर्ट की मूल भावनाओं को ध्यान में रखते हुए सभी कर्मचारियों को ड्यूटी ज्वाइन करवाने की मांग की। 
6 कर्मचारी नेता अब भी जेल में :-एस्मा के तहत राम आसरे यादव, रविन्द्र नागर, शहजाद खान, सुरेश कुमार ,रविन्द्र कुमार व राजसिंह सौरोत को शुक्रवार को  दो दिन की न्यायिक हिरासत में नीमका जेल भेज दिया गया। जिसके कारण यह भी ड्यूटी ज्वाइन नहीं कर पाए। 


loading...
SHARE THIS

0 comments: