Thursday, October 18, 2018

फरीदाबाद में दो दिवसीय हरियाणा रोडवेज की हड़ताल को बिजली कर्मचारियों ने दिया समर्थन

फरीदाबाद 18अक्टूबर,2018(abtaknews.com ); एचएसईबी वर्कर यूनियन ने हरियाणा कर्मचारी महासंघ के आव्हान पर समस्त हरियाणा प्रदेश में दो दिवसीय हरियाणा रोडवेज की हड़ताल के समर्थन में फरीदाबाद सर्कल बिजली बोर्ड के प्रत्येक कार्यलयों पर सुबह नौ से ग्यारह बजे दो घंटे का विरोध प्रदर्शन किया व दो दिन कि रोडवेज की हड़ताल को और आगे बढ़ाने का समर्थन किया। इस अवसर पर बिजली बोर्ड के वरिष्ठ नेता सुनील खटाना व फरीदाबाद सर्कल सचिव सन्तराम लाम्बा ने अपने सैंकड़ों बिजली कर्मचारी साथियों के साथ सरकार मिलकर के खिलाफ रोडवेज कर्मचारी साथियों को अपना पूर्ण समर्थन दिया और कहा कि सरकार 720 बसों को किलोमीटर स्कीम के तहत जो ठेके पर देने का काम कर रही हैं और यह ठेका कही न कही अप्रत्यक्ष रूप से सरकार के मंत्रियों व उनके के चहेतो को दिया जा रहा है । जिसका रोडवेज के साथियों ने विरोध किया तो सरकार ने दमनकारी नीति से आंदोलनरत कर्मचारियों पर एस्मा जैसा काला कानून लगाकर सैकड़ो कर्मचारियों को जेल भिजवाने का काम किया सैकड़ो कर्मचारियों को सस्पेंड किया गया व 2016 के बाद के चालक व परिचालकों को बर्खास्त के नोटिस दिये गये ताकि कर्मचारियों मे भय का माहौल बनाया जा सके व निकाले गये साथियो के स्थान पर कर्मचारियों मे झगड़ा करवाने व शांति व्यवस्था को भंग करने के लिये विज्ञापन जारी कर नये 930 परिचालकों व 500 नये चालको के पद भरने के लिये ऑउटसोर्सिग पॉलिसी-।। के तहत विज्ञापन जारी कर दिया जो कहीं ना कहीं टकराव की स्तिथि पैदा करेगा । बिजली कर्मचारी यूनियन के प्रधान लेखराज चौधरी व बलबीर कटारिया ने कहा भाजपा सरकार के मंत्री जानते हैं कि इस भाजपा सरकार से अब जनता का मोह भंग हो चुका है इसीलिये सरकार जाने पहले इसके मंत्री खुद का बिजनेस खड़ा करने के लिये रोडवेज विभाग को कौड़ियों के भाव बेचने व अपनी निजी बसें परिवहन के बेड़े में उतारने पर उतारू हैं । हम सरकार से पूछना चाहते है कि क्या यह वही सरकार है जो सत्ता में आने से पूर्व दो लाख बेरोजगार युवाओं को रोजगार देने की बात करती थीं और प्रदेश के सभी कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने की बात करती थी आज सरकार के चार साल बीत जाने के बाद इसका असली चेहरा सबके सामने बेनाकब हो गया है दस साल के काँग्रेस राज से पूर्व में इसी एनडीए की सरकार ने कर्मचारियों के हकों पर डाका डाल उनकी पेंशन खाई थी और अब कर्मचारियों का स्थाई रोजगार खाना चाहती है । इससे कर्मचारियों में भारी रोष व्याप्त है और आने वाले समय मे लोकसभा व विधानसभा चुनाव में सरकार को इसका भारी खामियाजा भुगतना पड़ेगा क्योंकि जिस भी सरकार ने प्रदेश के कर्मचारियों से टकराना चाहा वह दुबारा सत्ता की गद्दी पर आसीन नही हुई । बल्लभगढ़ से प्रधान कर्मवीर यादव ने कहा कि आज सरकार के पास समय है व समय रहते कर्मचारियों की सुध लेले मगर कल जब समय निकल जायेगा पूर्व की सरकार की भाँति पछताना पड़ेगा मगर तब तक देर हो चुकी होंगी इसलिये सरकार को अपनी हटधर्मिता छोड़कर कर्मचारियों की मांगों को मान लेना चाहिये नही तो निकट भविष्य में इसके परिणाम गम्भीर होंगे । विरोध प्रदर्शन में एक्ससाइज टैक्सेशन विभाग से बजरंगलाल जांगड़ा, भरतसिंह नेगी व जनस्वास्थ्य विभाग से रामसरन, योगेश की अध्यक्षता में सैंकड़ों कर्मचारियों ने नारेबाजी की इस अवसर पर राजराम ठाकुर, जयभगवान, श्रवण, बृजपाल, ईश्वर, विनोद, सुनील, बीरसिंह, पन्नालाल, अशोक राठी, राजेश तेजपाल, असगर, लक्ष्मण,  हनीफ, खुर्शीद, बृजपाल, मुकेश, यशपाल, वीरेंदर त्यागी, राजबीर, शेरसिंह, आजाद, नरेश, राजेश, पंकज, श्रीभगवान, बिसनदेव आदि सैंकड़ों की संख्या में सभी ने अपने अपने कार्यालयों पर सरकार के प्रति अपना रोष जाहिर में नारेबाजी के माध्यम से दो घंटे काम बंद कर सरकार की खिलाफत की । 


loading...
SHARE THIS

0 comments: