Breaking

Tuesday, July 3, 2018

हरियाणा स्टेट इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड वर्कर यूनियन का धरना तीसरे दिन भी रहा जारी


Haryana State Electricity Board Workers Union continues to remain on the third day


फरीदाबाद 03 जुलाई 2018(abtaknews.com )हरियाणा स्टेट इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड वर्कर यूनियन के बैनर तले पूर्व में घोषित कार्यक्रमों में जारी दो घन्टे के रोष प्रदर्शन के लगातार तीसरे चरण में बिजली निगम मैनेजमेंट अधिकारियों के मनमाने रविये के चलते दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम में एचएसईबी वर्करज यूनियन की केंद्रीय कमेटी के आव्हान पर पूरे डीएचबीवीएन हरियाणा के सर्कलों में चल रहे विरोध प्रदर्शन में निराधार तथ्यों पर निलम्बित हिसार सर्कल के पाँच कर्मचारियों पर कथित झूठे केसों में किसी षड्यंत्र के तहत फँसाये जाने पर व निलम्बन वापिस लिये जाने तक तथा पाँचों कर्मचारियों के मानसम्मान की बहाली होने तक विरोध प्रदर्शन कर कर्मचारियों ने अधिकारियों की खिलाफत में नारेबाजी की । इसी रोष प्रदर्शन के अग्रिम पड़ाव में फरीदाबाद सर्कल की चारों डिवीजनों में बल्लभगढ़ डिवीजन, एनआईटी डिवीजन, ग्रेटर व ओल्ड फरीदाबाद डिवीजनों में रोष प्रदर्श कर बिजली कर्मचारियों ने नाराजगी जताई । ओल्ड फरीदाबाद के बिजली कर्मचारी यूनियन प्रधान लेखराज चौधरी व एनआईटी के प्रधान बलबीर कटारिया एवं बल्लभगढ़ के प्रधान कर्मवीर यादव ने कड़े शब्दों में कहा कि जिस प्रकार मैनेजमेंट ने इन पाँच बेकसूर कर्मचारियों बिना किसी आधार पर सस्पेंड किया है वह इस अफसरशाही का जीता जागता सबूत है कि ये अधिकारी अपने मनमाने तौर तरिकों के अलावा किसी अन्य की बात को नही सुनते जिसे बर्दाश्त करना अब निन्दनीय है । सर्कल सचिव सन्तराम लाम्बा ने यूनियन के माध्यम से माँग की कि इस पूरे मामले को गम्भीरता से लेकर किसी ऐसे अधिकारी से जाँच कराई जाये जिस पर किसी प्रकार का दवाब इस बिजली निगम का ना हो क्योंकि अब तक निगम के अधिकारियों ने जिस झूठ के आधार पर इन कर्मचारियों को शोषित किया व अपने एसडीओ सातरोड सांगवान, एक्शन डिवीजन नम्बर दो लाम्बा तथा अन्य अधिकारियों का बचाव करते हुए सिर्फ यूनियन के पाँच पदाधिकारियों को निलंबित किया है ना इन अधिकारियों को भी । जो कि एक तरफा सुनियोजित फैसला है इस पर एचएसईबी वर्करज यूनियन फरीदाबाद के वरिष्ठ कर्मचारी नेता सुनील खटाना ने स्पष्ट शब्दों में अधिकारियों को चेतावनी दी कि जब तक उक्त मामले की निष्पक्ष जाँच नही होती है इसमें दोषी उन अधिकारियों को भी निलंबित किया जाये क्योंकि उक्त अधिकारी दवाब की नीति अपनाते हुए भष्टाचार को छिपाने की कोशिश कर रहे हैं । जिससे यह प्रतीत होता है कि ये अधिकारी सीएमडी महोदय को अपनी चिकनी चुपड़ी बातों में बरगला कर गुमराह कर रहे हैं । इस पर यूनियन माँग करती है इस पर कमेटी गठित कर रिटायर्ड जज से इस मामले की जाँच कराई जाये ताकि दूध का दूध और पानी का पानी सामने आ सके । जिस पर कड़ा संज्ञान लेते हुए एचएसईबी वर्करज यूनियन ने दो घंटे टूल व पेन डाउन करने का फैसला लिया यदि अभी भी कोई न्यायउचित फैसला नही लिया तो अग्रिम कार्यवाही में यूनियन किसी बड़े आन्दोलन को करने में बाध्य होगी जिससे उत्पन्न किसी भी प्रकार की औद्योगिक अशान्ति के लिये बिजली निगम, प्रदेश का प्रशासन व बोर्ड मैनेजमेंट जिम्मेदार होगा । इस धरने प्रदर्शन में प्रधान लेखराज चौधरी, बलबीर कटारिया, पूर्व प्रधान बृजपाल शर्मा, मोनिका राणा, शेरसिंह, राजबीर, जयभगवान आंतिल, विनोद, मुकेश शर्मा, वीरसिंह रावत, जगदीश पेरवाल, मनीष, जेई देशराज नागर, मोहन, जिलेसिंह, धीरज भगत,चन्दरमोहन फोरमैन, शब्बीर अहमद, हनीफ खान, लक्ष्मण शर्मा, जेई मुरारीलाल, हुकुमसिंह,  जेई सुखबीर, विनोद शर्मा व जेई अमित कौशिक आदि सैंकड़ों कर्मचारियों ने बिजली विभाग के अधिकारियों के खिलाफ नाराजगी जताते हुए रोष प्रदर्शन में भाग लेते हुए घोर भत्सर्ना की । 

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages