Breaking

Wednesday, April 18, 2018

जीवा आयुर्वेद में क्षारसूत्र चिकित्सा पर डाॅक्टर्स की सी एम ई का आयोजन


 फरीदाबाद18अप्रैल,2018(abtaknews.com); श्रेष्ठ आयुर्वेदिक उपचार व औषधि उपलब्ध कराने में निरन्तर अग्रणी जीवा आयुर्वेद ने 14 अप्रैल 2018 को जीवा आयुर्वेद पंचकर्म सेन्टर, सैक्टर-21बी, जीवा मार्ग पर इसकी वार्षिक सीएमई में क्षार सूत्र चिकित्सा परिचर्चा का आयोजन किया। जीवा आयुर्वेद द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम का उद्ेश्य जीवा डाॅक्टर्स व प्राइवेट प्रैक्टिशनर्स को इस विधि की जानकारी प्रदान करना था।

फरीदाबाद में कार्यरत 80 से अधिक डाॅक्टर्स ने सीएमई में हिस्सा लिया जिनके लिए क्षारसूत्र चिकित्सा विधि की विशेषता को समझना व अपने ज्ञान में वृ़ि़द्ध करने का एक अनोखा अवसर था। जीवा आयुर्वेद के डायरेक्टर डाॅ प्रताप चैहान ने, वरिष्ठ आयुर्वेदाचार्य डाॅ0 सपना भार्गव और नीरजा चैहान के साथ, इस चिकित्सा के प्रभाव और फायदे के बारे में जानकारी दी। डाॅ0 चैहान ने जीवा आयुर्वेद की अन्य उपलब्धियों व डाॅक्टर्स के लिए सहभागिता के अवसरों के बारे में चर्चा की।

गुदा मार्ग संबंधी परेशानियों जैसे पाइल्स, फिशर व फिस्टुला के लिए क्षारसूत्र थैरपी एक प्रभावी, सुरक्षित व कम खर्चीली चिकित्सा पद्धति है। इस विधि में मिनिमल सर्जरी व नहीं के बराबर हाॅस्पिटलाइजेशन की जरूरत होती है।अन्य उपचार प्रणालियों की तुलना में, क्षारसूत्र के उपरान्त रोग के दुबारा उत्पन्न होने की संभावना काफी कम होती है। इस चिकित्सा के परिणाम दर्शाते हैं कि एनो-रेक्टल रोगों की एडवांस स्टेज मेें भी यह रोगियों को काफी आराम पहुँचाती है।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages