Saturday, April 28, 2018

नरेंद्र मोदी ने देश की हालत जनमासे जैसी कर दी, कुरूक्षेत्र से किसान भरेंगे हुंकार : ऋषिपाल

Narendra Modi made the country's condition like Janmase, farmers will be filled with Kurukshetra: Husharpal Ambaravati

फरीदाबाद-27 अप्रैल(abtaknews.com)गांवों में बिजली नहीं, शहरों में पानी नहीं, युवाओं को रोजगार नहीं, और मंडियों में किसानों की फसल का सही दाम नही। ऐसी अनेक समस्याएं देश में अब भी हैं। भाजपा ने इन समस्याओं को दूर करने का वायदा किया था, और देश की सत्ता पर काबिज हो गई। मगर 4 साल बाद भी जनता को क्या मिला ? नोट बंदी, जीएसटी की मार, सैनिकों के शव और किसान को झूठे आश्वासन। 
भारतीय किसान यूनियन (अ) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौ. ऋषिपाल अम्बावता ने उक्त शब्द यहां आयोजित प्रदेशस्तरीय किसान महासभा को संबोधित करते हुए कहे। उन्होने कहा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश की हालत गांव के जनमासे जैसी कर दी है। जहां बारात आने तक रौनक रहती है, और बाद में सब उजड़ जाता है। कहीं कुल्लड पडे होते हैं तो कहीं टूटी चारपाईयां। पीएम मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह हर प्रदेश में भाजपा के बारातियों को लेकर जाते हैं, और अच्छे दिन आने के सपने दिखाकर जनता को धोखा दे रहे हैं। जबकि देश का पैसा लूटकर उद्योगपति विदेश भाग रहे हैं। उन्होने कहा दलितों के यहां खाने के नाम पर शाह दलितों का मजाक उडा रहे हैं, पहले से होटलों से खाना मंगा लिया जाता है, और ए.सी लगाकर दलित के यहां खाना खाने का ड्रामा किया जाता है। 
श्री अम्बावता ने कहा भारतीय किसान यूनियन (अ) ने अनेक बार मांग की है कि भाजपा किसानों की मांगों को माने नहीं तो भाजपा का सूपडा साफ हो जाएगा। उन्होने कहा आज किसान की हालत पहले से ज्यादा खराब है। किसान आत्म हत्याओं का आंकडा तेजी से बढा है। किसान की फसल का मुआवजा नहीं मिल रहा। फसलों के खराब होने पर भी अधिकारी सुध नहीं ले रहे। मंडियों में किसान के माल को कौडियों के भाव लिया जा रहा है, और बिचौलियों ने किसान की नाम में दम कर रखा है। 
उन्होने कहा हरियाणा में भाकियू प्रदेश अध्यक्ष शमशेर सिंह दहिया के नेतृत्व में 11 सदस्यी टीम गठित कर दी है जो सभी जिलों की मंडियों का औचक निरीक्षण करेंगी। मंडियों में जो कमियां मिलती हैं, उनको दूर करने के लिए अधिकारियों को मांग पत्र देंगे। इस कमेटी में प्रदेश सचिव इन्द्र स्वामी, बलविन्द्र सिंह बाजवा, दलजीत सिंह मट्टू, अतर सिंह, ऋषिपाल चौहान, गुरूमुख सिंह, पूर्व चेयरमैन सुनील भाटी, राजसिंह भाटी, भजन लाल और नरेश खटाना होंगे। उन्होने कहा यह कमेटी हरियाणा में होने वाली सभी किसान महापंचायतों की तैयारियों को भी पूरा करेंगे। 
श्री अम्बावता ने कहा सरकार हर चौक पर शराब की दुकानें खुलवा रही है, मगर किसान को अपनी इच्छानुसार मंडी में जाकर फसल बेचने का अधिकार नहीं है। उन्होने कहा भाकियू मांग करती है कि पूरे देश की मंडियों को आपस में जोडा जाए और कोई किसान कहीं जाकर माल बेचे ऐसी छूट मिलनी चाहिए। उन्होने कहा आगामी 31 मई को भाकियू हरियाणा के सीएम मनोहर लाल को पत्र लिखकर उनके समक्ष किसानों की मांगों को रखेगी, यदि सीएम ने यह मांगे नहीं मानी तो हरियाणा की पवित्र नगरी कुरूक्षेत्र से भाजपा के खिलाफ किसान हुंकार भरेंगे, और एक तीसरा फ्रंट बनाकर 90 सीटों पर पंचायती उम्मीदवारों को चुनाव लडाया जाएगा। उन्होने कहा भाकियू के साथ देश के दर्जनों किसान संगठन हैं। इन संगठनों ने किसान हितों के लिए 5 बडी मांगों पर अपनी सहमती दी है। इनमें प्रमुख रूप से 1. किसान आयोग का गठन। 2. स्वामी नाथन आयोग की रिपोट लाग होना। 3. किसान का कर्ज पूरा माफ हो, बिजली बिल हाफ। 4. किसान को 5 हजार पेंशन प्रति माह। 5. बिजली, टयूबवैल कनेक्शन, स्वास्थ्य और शिक्षा निशुल्क मिले। 
श्री अम्बावता ने कहा किसान की लडाई को और मजबूती देने के लिए समाजसेवी अन्ना हजारे उनके साथ हैं। उनके अलावा किसान मंच के विनोद ठाकुर, सिफा के सतनाम सिंह बैहरू, सेतकारी संगठन के रघुनाथ दादा पाटिल, किसान महासंघ के ललित रूनवाल, एमपी. से बी.राजगोपाल, महाराष्ट्र से जयवंत राय पाटिल, गुजरात से रवि जे. पटेल, यू.पी, पंजाब, हरियाणा, बिहार झारखंड, उत्तराखंड, आंध्र प्रदेश सहित पूरे देश के किसान नेता उनके नेतृत्व किसान विरोधी सरकार को उखाडने का काम करेंगे। इसकी शुरूआत दिल्ली और हरियाणा से आगामी मई में विशाल किसान महापंचायतें करके की जाएगी। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: