Monday, October 8, 2018

पाठ्यक्रम को विद्यार्थियों की भावी जरूरतों के अनुरूप तैयार करेंः कुलपति प्रो. दिनेश कुमार

Start a short-term course on 'Course Execution'
फरीदाबाद, 8 अक्तूबर(abtaknews.com) पाठ्यक्रम क्रियान्वयन प्रक्रिया को प्रभावी बनाने तथा शिक्षण व अध्ययन संसाधनों की पहचान करने के उद्देश्य से जेसी बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए फरीदाबाद एक सप्ताह का शॉर्ट टर्म कोर्स आयोजित कर रहा है। कोर्स का आयोजन विश्वविद्यालय के इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग विभाग द्वारा राष्ट्रीय तकनीकी शिक्षक प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान (एनआईटीटीटीआर) के सहयोग से किया जा रहा है। कोर्स में विश्वविद्यालय तथा अन्य शिक्षण संस्थानों के लगभग 50 प्रतिभागी हिस्सा ले रहे है।
आज से प्रारंभ हुए कोर्स के उद्घाटन सत्र में एनआईटीटीटीआर, चंडीगढ़ के पाठ्यक्रम विकास केन्द्र के अध्यक्ष डॉ. ए.आर. गुप्ता मुख्य वक्ता रहे। सत्र की अध्यक्षता कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने की। सत्र का संचालन डॉ. शैलजा जैन व ललित राय द्वारा किया गया।सत्र को संबोधित करते हुए कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने कहा कि किसी भी पाठ्यक्रम की कार्यसाधकता इस बात से आंकी जाती है कि वह विद्यार्थियों को भविष्य के व्यवसाय के लिए आकर्षित करने तथा व कौशल विकास में कितना सफल रहा, जिसकी आज सबसे ज्यादा जरूरत है। पाठ्यक्रम न केवल तकनीकी कौशल प्रदान करने में सक्षम हो अपितु विद्यार्थियों को जीवन की चुनौतियों का सामना करने में भी सक्षम बनाये। उन्होंने आशा जताई कि शॉर्ट टर्म कोर्स ऐसे पाठ्यक्रमों के क्रियान्वयन में लाभदायक होगा, जिनके लिए अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद् के दिशानिर्देश उपलब्ध नहीं है।
डीन अकादमिक डॉ. विक्रम सिंह ने बताया कि एनआईटीटीटीआर, चंडीगढ़ के सहयोग से आयोजित किया जा रहा यह लगातार पांचवां कोर्स है और ऐसे तीन अन्य कोर्स मार्च, 2019 तक करवाये जायेंगे। सत्र को इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग विभाग के अध्यक्ष डॉ. मुनीष वशिष्ट ने भी संबोधित किया।कार्यक्रम संयोजक श्री ललित राय ने बताया कि कोर्स के आयोजन का मुख्य उद्देश्य इंजीनियरिंग विद्यार्थियों की औद्योगिक जरूरतों के अनुसार पाठ्यक्रम विकसित करना है ताकि औद्योगिक व अकादमिक अंतराल को कम किया जा सके।

loading...
SHARE THIS

0 comments: