Thursday, October 11, 2018

भूपानी गांव का संकल्प "ना तो पराली जलाएंगे और ना ही किसी को जलाने देंगे "

The resolution of Bhupani village "will neither burn nor burn anyone"
फरीदाबाद(abtaknews.com) 11 अक्टूबर,2018 ; गांव भूपानी में " कृषि एवं किसान कल्याण विभाग "  की तरफ से किसानों को फसल अवशेष प्रबंधन के बारे में जानकारी के लिए एक कैंप का आयोजन किया गया.  जिसमें आस पास के गांव के किसानों को फसल अवशेष ( पराली ) ना जलाने के बारे में जानकारी दी गयी। वहीँ पराली को जलाने से होने वाले पर्यावरण के नुकसान के बारे में भी जानकारी दी.  कैम्प में बताया गया की किसानों को सरकार द्वारा फसल अवशेषों को नष्ट करने वाली मशीन खरीदने पर सरकार द्वारा 50% सब्सिडी दी जा रही है. वहीँ गांव के किसानो ने सामूहिक रूप से पराली को न जलाने की कसम भी खायी और उन्होंने कहा की ना तो वह खुद पराली जलाएंगे और ना ही किसी को जलाने देंगे। 

फरीदाबाद के भूपानी गावं का है जहाँ  " कृषि एवं किसान कल्याण विभाग "  की तरफ से किसानो को पराली न जलाने के लिए जागरूक किया गया वहीँ किसानो से सामूहिक रूप से कसम भी खिलवाई गयी की वह आज से पराली न तो जलाएंगे और न ही किसी को जलाने देंगे। कैम्प में जागरूक करने आये कृषि एवं किसान कल्याण विभाग अधिकारी डा आनंद प्रकाश ने बताया की फसल अवशेष प्रबंधन के तहत आज विभाग द्वारा एक जागरूकता कैम्प लगवाया गया है उन्होंने बताया की यह दूसरे फेस का कैम्प है जबकि इससे पहले भी जिले में 33 गावो में इस कैम्प का आयोजन पहले किया जा चुका है। इस बार कुल 16 गावो में यह कैम्प लगाए जा रहे है उन्होंने बताया की यह गांव बेहद ही संवेदनशील गांव है क्योंकि इन्ही गावो में पराली जलाने के मामले सबसे ज्यादा सामने आते है। ऐसे ही संवेदनशील गांवों में जागरूकता कैम्पो का आयोजन किया जा रहा है और किसान भाइयो को समझाया जा रहा है की यदि आप पराली नहीं जलाते हो तो आपको उसके कई तरह के फायदे होते है। जहाँ एक तरफ पर्यावरण शुद्ध रहता है वहीँ आग लगाने के कारण खेत खराब हो जाते है जिसके चलते खेतो की जमीन की उर्वरक शक्ति ख़तम हो जाती है. उन्होंने बताया की पराली को नष्ट करने वाली मशीनों पर सरकार ने विशेष छूट भी दी हुई है जिसके बारे में किसानो को डिटेल में जानकारी उनके विभाग के द्वारा दी जा रही है। जागरूकता के अगले चरण में कैम्प के माध्यम से उन मशीनों का डेमो भी किसानो को दिखाया जाएगा जिसमे यह बताया जाएगा की कैसे पराली को बिना जलाये नष्ट किया जा सकता है। 
गांव भूपानी सरपंच संजय भाटी ने बताया की उनके गांव में " कृषि एवं किसान कल्याण विभाग" की तरफ से ख़ास कैम्प लगाया गया जिसमे उन्हें बताया गया की उन्हें पराली न जलाने के लिए जागरूक किया वहीँ उन्होंने और उनके गांववासियो ने सामूहिक रूप से शपथ लेते हुए एकसाथ कहा कि वह ना तो पराली जलाएंगे और ना ही किसी को पराली जलाने देंगे। उन्होंने बताया की विभाग के द्वारा ऐसे जागरूकता शिविर समय समय पर लगाए जाते है जिसमे वह बढ़चढ़कर भाग लेते है।   



loading...
SHARE THIS

0 comments: