Wednesday, October 10, 2018

तिहाड जेल से बाहर आते ही बोले दीपक गौड्जा,जातिगत आरक्षण,एससी एक्ट जैसे काले कानूनों का विरोध करता रहूंगा




नई दिल्ली (abtaknews.com) 10 अक्टूबर।आरक्षण विरोधी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक दीपक गौड़ ने कहा कि कुछ जातिवादी ताकतें राष्ट्रवादी लोगों को बदनाम करने की साजिस रच रहीं हैं। लेकिन वो अपने मंसूबों में कामयाब नहीं हो पाएंगे। पुलिसिया कार्यवाही  देखकर लग रहा है जैसे लोकतंत्र में सरकार की नीतियों का विरोध करने वालों को जेल मे डाल दिया जाता है, क्योंकि अंगेजों की तरह कार्यवाही की गई, गोरे अंग्रेज चले गए और काले अंग्रेज आ गए है। उन्होंने कहा कि जनता इस कार्यवाही का जबाव 2019 में देगी। तिहाड जेल से दो महीने की कैद काटकर निकले दीपक गौड् ने पै्रस को जारी एक बयान में ये बात कही है।
गौरतलब है कि दीपक गौड पिछले 9 अगस्त के सर्वणों के भारत बंद के दौरान कथित तौर पर हिंसा भडकाने, संबिंधान जलाए जाने और एस्ट्रोसिटी एक्ट के झूठे आरोप में पिछले 11 अगस्त से तिहाड जेल में बंद थे। करीब दो महीने बाद दिल्ली हाईकोर्ट से मिली जमानत के बाद आज उन्होंने कहा कि दिल्ली की संसद मार्ग पुलिस ने पुलिसिया कार्यवाही करते हुए कुछ राजनैतिक लोगों के दबाव में उनके खिलाफ झूठी और मनगढंत एफआईआर दर्ज कर उन्हें जेल भेजने का काम किया है। गौड ने कहा है कि गिरफ््तारी के दौरान संसद मार्ग पुलिस ने उनको उनके परिवार की सुरक्षा खतरे में पड़ जाने जैसी धमकियां भी दी, लेकिन दीपक गौड़ ने देश के संबिधान में दिए समानता के अधिकार और अपनी न्याय व्यवस्था पर पूरा भरोशा होने की बात कह कर पुलिस की डिमांड ठुकरा दी थी, उन्होंने सरकार और कोर्ट से मांग की है कि इस पूरे मामले की जांच सीबीआई से होनी चाहिए, क्योंकि दिल्ली पुलिस बदले की भावना से काम कर रही है। उन्होंने बाकायदा पुलिस से परमिशन लेकर संसद मार्ग पर शांतिपूर्वक धरने और प्रर्दशन का आयोजन किया था, संसद भवन पर हुए किसी भी कथित घटना के लिए जिम्मेदारी मेरी नहीं थी, बल्कि दिल्ली पुलिस जिम्मेदार थी संसद मार्ग पुलिस के डीसीपी, एसीपी और एसएचओ को सस्पेड करके उन्हेें जेल भेजना चाहिए, मुझे क्यूं बली का बकरा बनाया गया है।
उन्होंने संसद में एससी-एसटी एक्ट में संसोधन का मसौदा पास किए जाने की भी कडे शब्दों ने निन्दा की, उन्होंने कहा कि बीजेपी और कांग्रेस को इस काम केे लिए 2019 लोकसभा चुनाव में जबाव जनता देगी। वोट बैंक के लालची सांसदों ने माननीय सुप्रींम के फैसले को पलटने की साजिस की जा है, जिससे पता चलता है कि ये नेता देश में जाति और धर्म के नाम पर राजनीति कर रहे हैं। दीपक गौड़ ने कहा कि एसीसी एक्ट में र्निदोश लोगों को फसाया जा रहा है जिसका जीता और जागता उदाहरण में खुद भी हूं। मै आरक्षण और एससी एक्ट जैसे दोहरे कानूनों को बिलकुल खत्म करके एक नागरिक एक कानून बनाए जाने की मांग करता रहा हूं और करता रहूंगा। 



loading...
SHARE THIS

0 comments: