Friday, October 12, 2018

फरीदाबाद के लिए जन्नत है अरावली, इसे तवाह कर सकते हैं रामदेव जैसे लोग: पाराशर


फरीदाबाद(abtaknews.com): बार एसोशिएशन के पूर्व अध्यक्ष एवं न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के अध्यक्ष एल एन पाराशर ने गुरुवार को धौज उप तहसील का दौरा किया। वकील पराशर ने बताया कि अरावली पर तहसीलदारों की विशेष कृपा से अवैध रूप से लोग रजिस्ट्रियां करवा रहे हैं और अवैध निर्माण भी जारी हैं। वकील पाराशर ने बताया कि धौज उप तहसील के कुछ कर्मचारियों से पूंछतांछ के बाद मैं कोट गांव से होते हुए मांगर गया और कोट गांव से मांगर के बीच जंगल क्षेत्र और वहाँ के पहाड़ों पर मैंने चार दीवारी और तारफेंसिंग देखी और स्थानीय लोगों ने इसके बारे में बात की तो उन्होंने बताया कि परवीन शर्मा नाम का कोई प्रॉपर्टी डीलर वन विभाग की जमीनों की नोयडा से जीपीए करवाता है और कहता है कि पहाड़ की ये जमीन परवीन शर्मा बाबा रामदेव के लिए खरीद रहा है। वकील पाराशर ने बताया कि बाबा रामदेव के नाम पर अरावली पर 1500 एकड़ से ज्यादा जमीन खरीदी गई है। उन्होंने बताया कि पहाड़ों पर कई जगहों पर मैंने तारफेंसिंग देखी और लगा कि अरावली पर एक हजार से ज्यादा एकड़ जमीन को किसी न किसी ने खरीदा है। 
उन्होंने कहा कि बिना जमीन खरीदे कोई अरावली पर तारफिंसिंग नहीं कर सकता और न ही चार दीवारी खड़ी कर गेट लगा सकता है। उन्होंने कहा कि फरीदाबाद उर्फ़ फ़्रोडाबाद की तहसील के तहसीलदारों के कारण अरावली की इज्जत लूटी जा रही है। उन्होंने कहा कि अरावली पर फरीदाबाद की जन्नत है।  शहर के लोग कोट गांव के पास, मांगर के पास पहाड़ों पर जाएंगे तो दूर दराज के पहाड़ी क्षेत्रों में पिकनिक मनाने जाना भूल जाएंगे। 
वकील पाराशर ने कहा कि अगर सच में बाबा रामदेव ने यहाँ की हजार एकड़ से ज्यादा जमीन खरीदा है और आगे चलकर यहाँ कोई निर्माण हुआ तो फरीदाबाद की जन्नत तवाह हो जाएगी। उन्होंने कहा कि इसके लिए मुझे सुप्रीम कोर्ट जाना पड़े तो जाऊंगा लेकिन अरावली पर इतनी अंधेर नहीं होने दूंगा। उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार इस क्षेत्र को पर्यटन स्थल घोषित कर दे  तो  यहाँ बड़ी मात्रा में पर्यटक आएंगे। उन्होंने कहा कि इस मामले में फरीदाबाद प्रशासन की भी मिलीभगत लगती है तभी अरावली की हजारों एकड़ जमीन बेंच दी गई और अब भी बेंची जा रही है। उन्होंने कहा कि इस बारे में आरटीआई लगाकर जल्द पता करूंगा कि वास्तविक रूप में ये पहाड़ किसे बेंचा जा रहा है और कौन बेंच रहा है।

loading...
SHARE THIS

0 comments: