Monday, September 10, 2018

एशियन अस्पताल में आंशिक घुटना प्रत्यारोपण को लेकर संगोष्ठी का आयोजन

Organizing seminar on partial knee transplantation at Asian Hospital

फरीदाबाद, 10 सितम्बर(abtaknews.com): एशियन अस्पताल के सीनियर ऑर्थोपेडिक्स व ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जन डॉक्टर आशुतोष श्रीवास्तव ने होटल अभिनंदन में संगोष्ठी का आयोजन किया। डॉ. आशुतोष ने  बताया कि मरीज सही समय पर डॉक्टर के पास पहुंचे तो वह पूरा घुटना बदलवाने की प्रक्रिया से बच सकता है और आंशिक घुटने के बदलने के फायदे भी बहुत हैं । यह क्षतिग्रस्त घुटने के जोड़ों को बदलने के लिए शरीर को सबसे कम छेद कर या चीरकर की जाने वाली सर्जरी है। सर्जन द्वारा घुटने के जोड़ों पर काम करने के लिए पूरे घुटने के रिप्लेसमेंट की तुलना में छोटे चीरे बनाए जाते हैं । घुटने के जोड़ों के क्षतिग्रस्त भाग को सर्जरी द्वारा हटाया जाता है और एक कृत्रिम अंग को उसकी जगह लगाया जाता है। सर्जन यह सुनिश्चित करता है कि सर्जरी के पूरा होने से पहले कृत्रिम अंग बिल्कुल सही तरह से लग जाए। घुटने के प्रभावित हिस्से पर धातु से बना एक नी- कैप (घुटनों पर लगाया एक ढक्कन जैसा आकार) रखा जाता है । उसको जगह पर बनाए रखने के लिए बोन सीमेंट से भरा जाता है। इसके बाद चीरे को सिला जाता है। इस सर्जरी में केवल खराब हिस्से को ही बदला जाता है  और पेशेंट ऑपरेशन के बाद पहले दिन से ही चल फिर सकता है। इस सर्जरी में चीरा बहुत ही छोटा आता है और मरीज सर्जरी के कुछ दिनों के बाद पालथी मारकर भी बैठ सकता है। डॉक्टर आशुतोष ने सभी फिजियोथेरेपिस्टों को घुटने प्रत्यारोपण से संबंधित कुछ जरूरी जानकारियां दी, जिससे माध्यम से ऑपरेशन के उपरांत अच्छे परिणाम हासिल किए जा सके और मरीजों को लाभ पहुंचाया जा सके। इस संगोष्ठी में फरीदाबाद के वरिष्ठ फिजियोथेरेपिस्टों डॉ. सौरव त्यागी, डॉ. योगेश भाटिया, डॉ. राकेश अत्रे, डॉ. सुनील, डॉ. आनंद, डॉ. राठी आदि ने भाग लिया।

loading...
SHARE THIS

0 comments: