Wednesday, September 12, 2018

विधानसभा कूच में निहत्थे कर्मचारियों पर किए गए लाठीचार्ज के खिलाफ आज होगा प्रदर्शन

Today will be demonstrated against lathi charge on unarmed employees in the assembly journey
फरीदाबाद 12 सितम्बर(abtaknews.com)हरियाणा विधानसभा कूच के दौरान निहत्थे कर्मचारियों पर किए गए बर्बरतापूर्ण लाठीचार्ज के खिलाफ आज बुधवार को प्रदेश के कर्मचारी सडक़ों पर उतर कर सरकार को करारा जवाब देगें। सरकार कर्मचारियों पर लाठीचार्ज करके, एस्मा तहत केस दर्ज कर बड़े पैमाने पर गिरफ्तारियां एवं सेवाऐं निलम्बन कर आन्दोलन को रोकने में सफल नहीं होगी। यह चेतावनी सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रदेश महासचिव सुभाष लाम्बा ने  मंगलवार को फरीदाबाद के अरावली गोल्फ क्लब में आयोजित प्रैस वार्ता के दौरान दी। पत्रकार वार्ता के दौरान सर्व कर्मचारी संघ के वरिष्ठ उपप्रधान नरेश कुमार शास्त्री, फरीदाबाद जिला प्रधान अशोक कुमार व खण्ड के प्रधान करतार सिंह मौजूद थे।
श्री लाम्बा ने पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए कहा कि सरकार के इशारे पर यूटी चण्डीगढ़ पुलिस ने सर्व कर्मचारी संघ, हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष धर्मवीर फौगाट, वरिष्ठ उपप्रधान नरेश कुमार शास्त्री, प्रदेश महासचिव सुभाष लाम्बा, ऑडिटर सतीश सेठी, पंचकूला के जिला सचिव सरवन कुमार जागड़ा व अन्य कर्मचारियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 147, 148, 149, 188, 323, 353, 427 व 506 के तहत मामला मनी माजरा थाने में दर्ज किया है। उन्होंने बताया कि सरकार के दमनात्मक रवैये, कर्मचारियों की मांगों की अनदेखी और चुनावी वायदों पर अमल न करने के खिलाफ कर्मचारी विधानसभा कूच के लिए जा रहे थे। सुबह 11 बजे से सायं 5 बजे तक विभिन्न विभागों के लगभग 50 हजार कर्मचारी पंचकूला में प्रदर्शन करते रहे, लेकिन सरकार का कोई प्रतिनिधि तक कर्मचारियों की सुध लेने नहीं पहुंचा। जिससे नाराज कर्मचारियों ने विधानसभा की ओर कूच करने का प्रयास किया तो चण्डीगढ़ व हरियाणा पुलिस ने निहत्थे कर्मचारियों पर वाटर कैनन, आंसू गैस के गोले दागे तथा जी न भरने पर लाठीचार्ज भी किया। इस घटना में करीब 50 कर्मचारियों को गंभीर चोटें आई है तथा 100 से ऊपर मामूली रूप से घायल भी हुए है।
सुभाष लाम्बा ने कहा कि प्रदेश के कर्मचारी बुधवार को दमन विरोधी दिवस मनाते हुए सभी जिलो में आक्रोश प्रदर्शन करेगें। आन्दोलन की अगली कड़ी में एस्मा के तहत रोड़वेज व स्वस्थ विभाग के कर्मचारियों पर की गई कार्यवाही को वापिस करवाने और हाईकोर्ट के निर्णय से प्रभावित कर्मचारियों की नौकरी बचाने और सभी प्रकार के कच्चे कर्मचारियों को पक्का करवाने की मांग को लेकर 18 सितम्बर को जेलभरो आन्दोलन के तहत सभी जिलो में सामूहिक गिरफ्तारियां देगें तथा दो अक्टूबर को महात्मा गांधी के जन्मदिवस पर सुबह नौ बजे से सायं पांच बजे तक सत्याग्रह करेगें।
आन्दोलन की अगली कड़ी में 23 अक्टूबर को प्रदेश के सभी कैबिनेट मंत्रियों के आवासों पर प्रदर्शन किए जाएगें। इसके बावजूद भी सरकार ने कर्मचारियों की मांगों का बातचीत से समाधान नहीं किया तो 15 नवम्बर को प्रदेशव्यापी हड़ताल करके सरकारी विभागों का कामकाज ठप किया जाएगा।


loading...
SHARE THIS

0 comments: