Wednesday, August 22, 2018

पर्यावरणमंत्री के उद्घाटन के बाद भी उड रही एनजीटी के आदेशों की धज्जियां,गंदा पानी खुले में


फरीदाबाद-22 अगस्त(abtaknews.com)17 करोड की सीवर लाईन डिस्पोजल का उद्घाटन करने के बाद ग्रेडर फरीदाबाद का गंदा पानी नहर और खुली जगहों पर फेंका जा रहा है, सरकार की मोटी रकम खर्च करने वाले खुद पर्यावरण मंत्री विपुल गोयल ने सीवर लाईन डिस्पोजल का उद्घाटन किया था, उसके बाद एनजीटी के आदेशों की धज्जियां पर्यावरण मंत्री के सामने ही उडाई जा रही हैं। मंत्री साहब ने आधे अधूरे प्रोजेक्ट का उद्घाटन करके वाहवाही तो लूट ली मगर भूल गये कि इसके दुष्परिणाम भी हो सकते हैं।

ग्रेटर फरीदाबाद की सडकों के बीचों बीच पाईप डालकर जुगाड करने के बाद गंदे पानी को खुले में फैंका जा रहा है, जो कि खुले आम एनजीटी के आदेशों की धज्जियां उडाने वाला दश्य है,, और ये सब खुद हरियाणा के पर्यावरण मंत्री विपुल गोयल के सामने हो रहा है, क्योंकि मंत्री साहब ने हाल ही में ग्रेटर फरीदाबाद के गंदे पानी की निकासी के लिये 17 करोड की लागत से सीवर लाईन डिस्पोजल का उद्घाटन किया, मगर उन्होंने आधे अधूरे प्रोजेक्ट का ही उद्घाटन करने के बाद जनता की वाहवाही लूट ली और उनके समर्थकों ने उनका अभार व्यक्त करने के लिये बडे बडे होडिंग बोर्ड भी लगा दिये। मगर जब जनता को इस बारे में पता लगा तो वह मंत्री साहब पर भडक उठे और कहा कि पर्यावरण मंत्री को एनजीटी के आदेशों की धज्जियां उडाना शोभा नहीं देता, सरकार के 17 करोड खर्च करने के बाद भी गंदे पानी को खुले में फेंका जा रहा है ये कैसा प्रोजेक्ट है और आधे अधूरे प्रोजेक्ट का ये कैसा उद्घाटन है।
तिगांव विधानसभा के कांग्रेसी विधायक ललित नागर ने कहा कि मंत्री विपुल गोयल जनता को चुनावी लॉलीपॉप देने के लिये आधे अधूरे प्रोजेक्टों का उद्घाटन कर रहे हैं, ग्रेटर फरीदाबाद की जनता पूरी तरह से त्रस्त है, जिनकी आवाज उन्होंने विधानसभा में भी उठाई जहां मुख्यमंत्री ने कहा था कि ग्रेटर में कोई भी असुविधा नहीं है, अगर असुविधा नहीं है तो 17 करोड की लागत से सीवर लाईन डिस्पोजल का उद्घाटन क्यों किया गया है जिसे करने के बाद भी सुविधा नहीं मिल रही है।वरिष्ठ कांग्रेसी नेता लखन सिंगला ने कहा कि 17 करोड रूपये खर्च करने बाद भी ग्रेटर फरीदाबाद की सोसाईटियों का पानी टेंकरों के द्वारा नहर में खुले आम डाला जा रहा है, सीवर लाईन डिस्पोजल का उद्घाटन मात्र चुनावी दिखावा है।

loading...
SHARE THIS

0 comments: