Wednesday, August 1, 2018

जिला प्रशासनिक अधिकारी व कर्मचारी राहत कार्यों को मुस्तैद, यमुना जलस्तर पर पैनी नजर


फरीदाबाद(abtaknews.com) 01 अगस्त,2018 ; यमुना नदी का जलस्तर बढ़ना रूक गया है। खादर के  बाढ़ की आशंका वाले गांवों में ग्रामीणों ने राहत की सांस ली है। हालांकि जिला प्रशासन के मद्देनजर क्षेत्र में अभी भी हाईअलर्ट घोषित है। सभी प्रशासनिक अधिकारी और कर्मचारी मुस्तैदी से अपनी अपनी ड्यूटी दे रहें हैं और समय समय पर ग्रामीणों को संभावित खतरों के प्रति जागरूक भी कर रहे हैं। अधिकारियों ने स्वयं बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में जाकर जायजा लिया है। अधिकारी पुरे इंतजाम के साथ दिन रात यमुना किनारे स्थिति पर नजर रखे हुए हैं। जिला उपायुक्त अतुल कुमार द्विवेदी ने यमुना के साथ लगते गांव बसंतपुर से महावतपुर पुस्ता के साथ-साथ अन्य जगह का दौरा किया। हालाँकि सत्तारूढ़ के जनप्रतिनिधि अभी बाढ़ पीड़ितों की सुध लेने  नहीं पहुंचे हैं। तिगांव से कोंग्रेसी विधायक ललित नागर की सक्रियता जरूर इलाके में चर्चा बनी हुई है। 

उपायुक्त अतुल कुमार ने कहा कि बाढ़ संबंधी राहत व अन्य प्रबंधों के बारे में प्रशासन पूरी तरह तैयार है। जो भी लोग बाढ़ की चपेट में आ सकते हैं, उन्हें उस स्थान से जल्द खाली कराकर सेहतपुर, अगवानपुर, इस्माइलपुर और नजदीक के सरकारी स्कूलों में पहुंचाने की व्यवस्था की गई है। राहत कैंपों में प्रभावित लोगों के लिए खाने-पीने की व बिजली की व्यवस्था की गई है। उन्होंने खादर में बसे हुए लोगों से अपील की है कि वह प्रभावित स्थान को छोड़कर सुरक्षित स्थानों पर चले जाएं। उधर जिला शिक्षा अधिकारी ने गांव सेहतपुर, अगवानपुर, बसंतपुर स्कूलों की 3 दिन की छुट्टी की घोषणा की है।  प्रशासन के सभी अधिकारियों व कर्मचारियों की छुट्टियों को रद्द कर दिया गया है। जब तक स्थिति सामान्य नहीं हो जाती तब तक कोई भी अधिकारी या कर्मचारी अपना स्टेशन नहीं छोड़ेगा। उन्होंने डिजास्टर मैनेजमेंट को भी सतर्क रहने को कहा है। डीसी के अनुसार बाढ़ संभावित इलाकों में सोमवार से ही सरपंच से लेकर एसडीएम तक को मौके पर भेजा गया है। 

24 घंटे क्षेत्र की निगरानी करने और जरूरत पड़ने पर तत्काल उचित प्रबंध करने के लिए कहा गया है। हालात सामान्य न होने तक किसी भी अधिकारी व कर्मचारी की छुट्टी मंजूर नहीं की जाएगी। यमुना खादर में बसे गांवों में ग्राम सचिव, नायब तहसीलदार, तहसीलदार, बीडीपीओ और एसडीएम कैंप किए हुए हैं। अधिकारी फैजूपुर खादर, माेहना, छांयसा, मंधावली, ददसिया आदि गांवों का लगातार दौरा कर रहे हैं। यमुना का जलस्तर बढ़ने से नावों की सवारी करने पर रोक लगा दी गई है। बाढ़ प्रभावित स्थानों पर पुलिस फोर्स की व्यवस्था की है ताकि जरूरत पड़ने पर फंसे हुए लोगों को जल्द निकाल कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा सके। उन्होंने इन जगहों पर नाव व भोजन की व्यवस्था भी सुनिश्चित करने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए। एसडीएम फरीदाबाद सतबीर मान के अनुसार यमुना में पहाड़ों से अधिक पानी आने से बाढ़ संभावित क्षेत्रों में डीसी के आदेश पर धारा 144 लागू कर दी गई है। बाढ़ के दौरान यमुना नदी में अवैध रूप से नावों व किश्तियां आदि के चलने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। फरीदाबाद में तहसीलदार, नायब तहसीलदार, सिंचाई विभाग, खण्ड विकास एवं पंचायत अधिकारी फरीदाबाद व बल्लभगढ़ तथा सचिव जिला रेडक्रास सोसायटी के अधिकारी गांवों में मुनादी कर रहे हैं। 



loading...
SHARE THIS

0 comments: