Wednesday, July 25, 2018

आखिर कितने साल और कितनी सरकारें लगेंगी हरियाणा के सरकारी स्कूलो को सुधारने में ?

After all, how many years and how many governments will take in improving the government schools of Haryana

फरीदाबाद(abtaknews.com दुष्यंत त्यागी)25 जुलाई,2018; बेहतर शिक्षा देने की बात करने वाली सरकार में बच्चों के लिये पीने को पानी तक नहीं हैं, फरीदाबाद स्थित गांव सागरपुर के राजकीय उच्च विद्यालय से दुर्लभ तस्वीरें सामने आई हैं। भीषण गर्मी में बच्चे जान जोखिम में डालकर बंद दरवाजे और दीवार के उपर चढकर एक मकान में कूदकर पानी पीने के लिये मजबूर हैं। करीब 8 फीट उंची दीवार पर चढकर जोखिम उठाने के बाद बच्चों की प्यास बुझती है।  हैरान करने वाले तस्वीरें कैमरे में कैद हुई हैं जिनमें दीवार पर चढकर बच्चे पानी के लिये मारामारी कर रहे हैं और स्कूल प्रबंधन आराम से दफ्तर में बैठकर अपना समय पूरा कर रहा है।

अभी तक आपने पानी के लिये कालोनियों में महिलाओं को आपस में लडते झगडते हुए देखा होगा, मगर आज हम आपको ऐसी दुर्लभ तस्वीरें दिखा रहे हैं जिन्हें देखकर आप भी हैरान हो जायेंगे, बेहतर शिक्षा देने की बात करने वाली भाजपा सरकार में बच्चों के लिये पीने को पानी तक नहीं हैं। ये तस्वीरें हैं फरीदाबाद के गांव सागरपुर के राजकीय उच्च विद्यालय की, जहां पिछले कई दिनों से पीने के पानी की किल्लत बनी हुई है जिसके चलते बच्चों को सडक पार करने के बाद स्कूल के सामने बने एक मकान से पानी पीना पडता है।
 ये तस्वीरें उसी मकान की हैं जिसपर जान जोखिम में डालकर बच्चे पानी पीने के लिये 8 फीट उंची दीवार पर चढते हैं और फिर मकान के उसपार कूदकर पानी पीकर अपनी प्यास बुझाते हैं। जैसा कि आप देख पा रहे हैं कि बच्चे किस कदर पानी के लिये दरवाजे और दीवार पर लटकर मारामारी कर रहे हैं। लेकिन इस ओर किसी भी स्कूल प्रबंधन का कोई ध्यान नहीं हैं।

इस समस्या को लेकर स्कूल के अंदर पानी की व्यवस्था के बारे में जानकारी ली गई तो वहीं पानी की टंकी सूखी पडी हुई मिली जिसमें से पानी नहीं आ रहा था,, इस विकराल समस्या के बारे में स्कूल की प्रधानाचार्या से बात करने की कोशिश की गई तो उन्होंने साफ तौर पर मीडिया को कुछ बताने से इंकार कर दिया।बच्चों ने मीडिया को बताया कि स्कूल में खारा पानी आता है इसलिये मजबूरन उन्हें 8 फीट की दीवार और लोहे के गेट चढकर पानी पीना पडता है।जब इस बारे में जिला शिक्षा अधिकारी सतेन्द्र कौर वर्मा से जानने के लिये उनके कार्यालय सेक्टर 16 पहुंचे तो वहां मैडम साहिबा नदारद मिली, पूछने पर पता चला कि कहीं किसी मीटिंग में गई हुई हैं। जबकि सूत्रानुसार पता चला कि आज के दिन कहीं पर कोई मीटिंग नहीं थी। कई बार फोन कॉल करने के बाद भी मैडम साहिबा ने कोई जबाब नहीं दिया।सरकारी  स्कूल से आई इन दुर्लभ तस्वीरों को देखकर लगता है कि अगर इन बच्चों के साथ कोई हादसा हो जाता है तो इसका जबाब कोन देगा, क्या बच्चों को स्कूल में पीने के पानी के लिये अपनी जान तक जोखिम में इसी प्रकार डालनी पडेगी। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: