Tuesday, July 31, 2018

पलवल में फसल अवशेष प्रबन्धन कृषि यंत्र प्रोत्साहन मेले का किया गया आयोजन

Organizing organized crop residual agricultural machinery promotion rally in Palwal

पलवल, 31 जुलाई(abtaknews.com) कृषि एवं किसान कल्याण विभाग द्वारा स्थानीय नेताजी सुभाष चन्द्र बोस स्टेडियम में मंगलवार को जिला स्तरीय मेले का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में डा. मनीराम शर्मा तथा विशिष्ट अतिथि मुख्यमंत्री के सुशासन सहयोगी अभिनव वत्स ने शिरकत की। 
उपायुक्त ने मेले में किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि फसलों में रासायनिक खाद की मात्रा कम करके जैविक खाद, कम्पोस्ट खाद, हरी खाद का प्रयोग करें और मिट्टी, पानी की जांच करवाकर भूमि की उपजाऊ शक्ति को बढाएं। हरियाणा सरकार की प्राथमिकता है कि किसानों की आय को दोगुना किया जाए। फूलों, फलों व सब्जियों की खेती की जाए। उपायुक्त ने किसानों को खेतों में फसल अवशेष व पराली न जलाने के बारे में जागरूक किया। फसल अवशेष जलाने के कारण भूमि में फसल मित्र कीट नष्ट हो जाते हैं जिसके कारण भूमि की उपजाऊ शक्ति क्षीण होती है। 
उपायुक्त डॉ. मनीराम शर्मा ने प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया। मेले में उपस्थित किसानों से आह्वान किया गया कि किसान फसल कटाई के बाद फसल अवशेष न जलाए, फसल अवशेषों का मेले में दर्शायी गई मशीनों द्वारा प्रबंधन करे ताकि अवशेषों को जमीन में मिलाकर भूमि की उर्वरा शक्ति तथा कार्बानिक कार्बन की मात्रा को बढाया जा सके।  
मेले में कृषि एवं किसान कल्याण विभाग पलवल के उपनिदेशक डा. विरेन्द्र देव आर्य ने मुख्य अतिथि सहित सभी का पुष्प गुच्छ व स्मृति चिन्ह भेट किया। डा. कृषि मेले में किसानों के लिए कृषि सम्बन्धित विभिन्न प्रकार के यंत्रों की प्रदर्शनी लगाई गई जिसमे लगभग 100 मशीनों का प्रदर्शन किया गया। मेले में किसानों को यंत्रों से सम्बन्धित जानकारी दी गई, और मौके पर ही किसानों के अनुदान फार्म भी जमा करवाए गए। 
 इस अवसर प्रदूषण विभाग की ओर से श्रीमती आकाक्षा तंवर ने किसानों को बताया कि फसल अवशेष जलाने से पर्यावरण दूषित होता है, तथा फाने जलाते पाए गए किसानों के विरुद्ध सरकार की ओर से दण्ड व्यवस्था पर प्रकाश डाला और किसानों से आग्रह किया कि फसल अवशेष न जलाए। 
मेले में उपस्थित डा रेखा दहिया पशु विज्ञान केन्द्र गुरुग्राम ने किसानों को विभाग से सम्बन्धित स्कीमों की जानकारी दी तथा किसानों को बताया कि 09300000857 व्हटसॉप नम्बर पर बिमार पशुओं के लक्षणों के बारे में व्हटसॉप पर संदेश भेजकर उपचार की जानकारी प्राप्त कर सकते है। इसके साथ ही दुग्ध उत्पादन सम्बन्धि (डेरी विकास) योजना की जानकारी किसानों से साझा की। 
इस मौके पर डा रजिन्द्र रमन, डा राजेन्द्र सिंह वैज्ञानिक कृषि विज्ञान केन्द्र, अशोक वर्मा जिला बागवानी अधिकारी, सुमेर सिंह सहायक भूमि सरंक्षण अधिकारी, दीपचन्द सहायक कृषि अभियन्ता, पलवल एवं कुलदीप तेवतीया उपमण्डल कृषि अधिकारी, पलवल ने भी किसानों को सम्बोधित किया। 
इस अवसर पर डा विरेन्द्र देव आर्य उपनिदेशक कृषि एवं किसान कल्याण विभाग पलवल द्वारा मेले में उपस्थित किसानों का धन्यवाद करते हुए किसानों बताया कि फसल अवशेष नहीं जलाने चाहिए क्योंकि कि इससे खेतों का उपजाऊपन कम हो जाता है। मिट्टी में उपस्थित मित्र कीट मर जाते है जिस कारण फसल के उत्पादन में कमी आती है। 
उपनिदेशक डा. विरेंद्र सिंह आर्य ने कहा कि सरकार ने एक नई स्कीम प्रोमोशन ऑफ एग्रीकल्चर मैकेनाईजेशन फॉर इन-सीटू मैनेजेन्ट ऑफ क्रोप रेजीडयू चलाई गई है। वर्ष 2018-19 में हरियाणा राज्य में कस्टम हायरिंग मशीनरी बैंक  की स्थापना की गई है। इस स्कीम का उददेश्य फसल अवशेषों के इन-सीटू (यथास्थान/खेत) प्रबंधन संबंधी मशीने किराये पर उपलब्ध करवाना है। उपनिदेशक पलवल ने बताया कि जिले में 25 कस्टम हायरिंग मशीनरी बैंकों की स्थापना की गई है तथा व्यक्तिगत स्तर 100 कृषि यंत्रों के फार्म भी भरे गए है।

loading...
SHARE THIS

0 comments: