Thursday, July 5, 2018

एनएसयूआई फरीदाबाद ने तुगलकी फरमान की प्रतियां जलाकर किया विरोध प्रदर्शन



NSUI Faridabad protests by burning copies of the Tuqqani decree

फरीदाबाद(abtaknews.com)आज एनएसयूआई फरीदाबाद के कार्यकर्ताओं ने सेक्टर 16 प० जवाहरलाल नेहरू कॉलेज के गेट पर एमडीयू के नए तुगलकी फरमान की प्रतियां जलाकर प्रदर्शन किया । प्रदर्शन हरियाणा एनएसयूआई के प्रदेश सचिव कृष्ण अत्री के नेतृत्व में किया गया । छात्रों ने जमकर एमडीयू प्रशासन और खट्टर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।इस दौरान हरियाणा एनएसयूआई प्रदेश सचिव कृष्ण अत्री ने कहा कि फरीदाबाद के समस्त छात्रों ने एमडीयू के तुगलकी फरमान को नकार दिया है । छात्रों में इस नियम को लेकर काफी रोष है ।
NSUI Faridabad protests by burning copies of the Tuqqani decree

यूनिवर्सिटी प्रशासन हर साल अपनी मनमानी पर उतारू होकर कोई न कोई तुगलकी फरमान जारी करता है जोकि बिल्कुल निराधार होता है । पिछले 3 वर्षों में भी इसी तरह का फरमान जारी किया गया था जिसके तहत तीसरे सेमेस्टर में दाखिला लेने के लिए पहले सेमेस्टर के 50% विषय मे पास होना जरूरी था लेकिन इस साल तीसरे सेमेस्टर के साथ साथ पाँचवे सेमेस्टर पर भी नियम लागू कर दिया है जिसके तहत पाँचवे सेमेस्टर में दाखिला लेने के लिए पहले सेमेस्टर के सभी विषयों में पास होना अनिवार्य है ।अत्री ने बताया कि पिछले वर्षों में भी एनएसयूआई फरीदाबाद टीम ने प्रशासन के सामने नियमो को लेकर राय रखी थी जिसमे उन्होंने कहा था कि अगर यूनिवर्सिटी कोई नियम लागू करना चाहती है तो प्रदेश के प्रत्येक कॉलेज से छात्रों का एक डेलिगेशन बुलाया जाए तथा उनसे विचार विमर्श करके नियमों को लागू किया जाए । लेकिन हर बार यूनिवर्सिटी प्रशासन बिना विचार विमर्श के नियम लागू कर देता है औऱ छात्रों को काफी परेशानी उठानी पड़ती है ।

वही जिला महासचिव रूपेश झा ने कहा कि इस नियम के कारण हजारो छात्र दाखिला लेने से वंचित रह रहे है । उन्होंने कहा कि एनएसयूआई फरीदाबाद छात्रों की लड़ाई जब तक जारी रखेगी, जब तक की यह नियम वापिस नही हो जाता ।इस मौके पर मुख्य रूप से रोहित कबीरा, यतिन पंडित, शिवम सैनी, नवीन चौधरी, आसिफ खान, वैभव आनंद, निलेश, सचिन, विक्की ठाकुर, देव चौधरी, चंकी, गुलशन, सोनू, नरेश, लक्ष्मण कुमार, अभिषेक, सोनू प्रजापति, रवि चौटाला, मुकेश कुमार आदि मुख्य रूप से मौजूद थे ।

loading...
SHARE THIS

0 comments: