Wednesday, July 4, 2018

लैण्ड एक्सचैन्स पॉलिसी के तहत नहर पार के किसानो को मिले फायदा ; शिवदत्त वशिष्ठ

Benefits of canal cross farmers under Land exchanges policy; Shivdutt Vashisht

फरीदाबाद (abtaknews.com)नहर पार ग्रैटर फरीदाबाद में पांच गांवो की कुल 350 एकड अधिग्रहित जमीन का पिछले 9 वर्षो से तत्कालीन सरकार व वर्तमान सरकार ने कोई हल नही निकाला जबकि सरकार के नुमाईदो से कई दौर की मुलाकाते हो चुकी है। नहर पार के किसानो ने बैठक सैक्टर-9 कार्यालय में आयोजित की जिसकी अध्यक्षता किसान संघर्ष समिति ग्रैटर फरीदाबाद के अध्यक्ष शिवदत्त वशिष्ठ एडवोकेट ने की उन्होने कहा कि जिन किसानो की जमीन जबरदस्ती अधिग्रहित हुई थी वो सभी किसान अपनी जमीन को लैण्ड एक्सचैन्ज पॉलिसी में शामिल करवाने के लिए तैयार हो सकते है।

हरियाणा प्रदेश की वर्तमान सरकार लैण्ड एक्सचैन्स पॉलिसी बनाई है इस पॉलिसी को अमल में लाने के लिए नोटिफिकेसन जारी हो चुका है। जिसका एक उदाहरण सोनीपत जिले के गांव बडखालसा में लगभग 70 किसानो की 22 एकड जमीन एक्सचैन्ज कर दी गई है। इसी की तर्ज पर नहर पार के किसान भी मांग करते है कि अगर अधिग्रहित जमीन की मुआवजा सरकार पांच करोड रूपये प्रति एकड के हिसाब से नही दे सकती और ना ही सरकार किसानो को जमीन को डवलप करने के लिए सी$एल$यू नही दे सकती है तो सरकार को तुरन्त नहर पार के किसानो की जमीन के बदले उससे लगती जमीन के पास जमीन दे दी जाए तो कोई एतराज नही होगा। इस बैठक में सैकडो किसान मौजूद थे।


loading...
SHARE THIS

0 comments: