Sunday, July 1, 2018

गलत सूचना देने पर पीएमओ आफिॅस के जन सूचना अधिकारी को नोटिस जारी

Notice to the Public Information Officer of PMO Offices on giving false information
फरीदाबाद 01 जुलाई,2018(abtaknews.com)शिक्षा के व्यवसायिकरण पर रोक लगाने के बारे में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा दिये गये एक बयान की सत्यता जानने के लिये मंच के प्रदेष महासचिव कैलाश शर्मा द्वारा पीएमओ में लगाई गई आरटीआई का संतोशजनक जवाब न देने पर केन्द्रीय सुचना आयोग (सीआईसी) में दायर द्वितीय अपील को स्वीकार करते हुये सीआईसी ने पीएमओ आफिॅस के जन सूचना अधिकारी को नोटिस जारी कर २३ जुलाई को सीआईसी आफिॅस में पर्सनल हियरिंग के लिये पेष होने को कहा है। नोटिस की एक प्रति आवेदक को भेजकर उसे भी इस तारिख में पेष होकर अपना पक्ष रखने को कहा गया है। मंच के प्रदेष महासचिव कैलाश शर्मा ने प्रेस को जारी बयान में बताया कि उत्तर प्रदेष में विधानसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री ने २० नवम्बर २०१६ को आगरा में आयोजित महा परिवर्तन रैली में कहा था कि ज्ज्आज जब गरीब और मध्यम वर्ग के लोग बच्चों को प्रवेश दिलाने स्कूल जाते हैं तो उनसे नोट मांगे जाते हैं। ऐसे में इन्हें अपना सफेद धन भी काला करके देना पड़ता है। नहीं देते तो बच्चों को प्रवेश नहीं मिलता। पर अब यह व्यवस्था नहीं चलेगी। इसके लिए सरकार उपाय करने जा रही है।ज्ज् मंच की ओर से २९ जुन २०१७ को पीएमओ में एक आरटीआई लगाकर पूछा गया था कि प्रधानमंत्री का उपरोक्त बयान सही है और प्रधानमंत्री के बयान के मद्देनजर केन्द्र सरकार ने षिक्षा के व्यवसायीकरण को रोकने के लिये अब तक क्या उचित कार्यवाही की है उसकी त्थ्यों सहित जानकारी प्रदान की जाये। पीएमओ के जनसूचना अधिकारी व प्रथम अपील अधिकारी ने आरटीआई का संतोशजनक जवाब न देकर कहा कि मांगी गई जानकारी सूचना की परिभाशा नहीं आती है। उन्होनें इस जवाब से असहमति प्रकट करते हुये २ नवम्बर २०१७ को केन्द्रीय सूचना आयोग के पास द्वितीय अपील दायर की है जिसे स्वीकार करने की सूचना नवम्बर २०१७ में प्राप्त हो गयी थी, लेकिन पर्सनल हियरिंग के लिये नोटिस जारी करने का पत्र अब ३० जून को प्राप्त हुआ है। कैलाष षर्मा का कहना है कि वे पर्सनल हियरिंग में अपना पक्ष मजबूती से रखेंगे और सीआईसी से अपील करेंगे की पीएमओ आफिॅस में दायर की गई आरटीआई में मांगी गई जानकारी जनसूचना अधिकारी से दिलवाये। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: