Friday, July 6, 2018

एमडीयू के नए आदेश के खिलाफ युवा आगाज ने कॉलेज छात्रों संग किया प्रदर्शन, दिया ज्ञापन


फरीदाबाद-06 जुलाई(abtaknews.com)एमडीयूके आदेश के खिलाफ युवा आगाज संगठन ने कॉलेज छात्रों के साथ प्रदर्शन किया और सिटी मजिस्ट्रेट को शिक्षा मंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।सेक्टर 12 लघु सचिवालय पर एकत्रित हुए कॉलेज के सैंकड़ो छात्रों का नेतृत्व युवा संगठन के संयोजक जसवंत पवार ने किया। नारेबाजी करते छात्रों को मुख्यालय पर तैनात भारी पुलिस बल ने अंदर आने से रोका तो छात्रों की पुलिस से नौकझोक हुई मामला बिगड़ता देख पुलिस ने छात्रों के 8 सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल को अंदर जाने दिया।इसके उपरांत युवा आगाज ने नेहरू कॉलेज प्रिंसिपल प्रीता कौशिक को भी ज्ञापन सौंप। कॉलेज की एड्मिशन संबंधित समस्यायों के समाधान के लिए युवा आगाज ने एक वाट्सअप ग्रुप बनाया है जिसका नंबर -9911677648 पर है जिसको पचास परसेंट रूल हटाओ नाम दिया गया है। छात्र इस पर संपर्क कर सकते हैं। 
युवा आगाज संगठन के संयोजक जसवंत पवार ने बताया कि एमडीयू के नए आदेश के अनुसार तीसरे सेमेस्टर में दाखिला लेने के लिए पहले सेमेस्टर के 50% विषय में पास होना अनिवार्य है और पांचवें सेमेस्टर में दाखिला के लिए पहले सेमेस्टर के सभी विषयों में उत्तीर्ण होना अनिवार्य है दाखिले के समय छात्रों को इस तरह के नियम के बारे में जानकारी नहीं दी गई थी इस तरह का नियम लागू करके छात्रों को परेशान किया जा रहा है जसवंत पवार ने कहा कि तीन सालों में लगातार इस तरह के नियम एमडीयू यूनिवर्सिटी रोहतक द्वारा बनाए जा रहे हैं और हर साल छात्रों को इसी तरह परेशान किया जाता है। छात्र धरने-प्रदर्शन और आंदोलन करते हैं फिर जाकर बाद में यह नियम वापस ले लिए जाते है या तो सरकार या एमडीयू इस सेमेस्टर सिस्टम को खत्म करें या फिर छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करना बंद करें। इस नए नियम के विरोध में युवा आगाज शनिवार को उद्योग मंत्री विपुल गोयल को मुख्यमंत्री मनोहर लाल और शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा के नाम का ज्ञापन सौंपेंगे। 
आज के प्रदर्शन एवं ज्ञापन के समय युवा आगाज के संयोजक जसवंत पवार, छात्र नेता अजय डागर, मनोज, सुनील, अंकित शर्मा, योगेश, अभिषेक, चंद्रपाल, अर्जुन, आनंद, हिमांशु भट्ट, संजीव शर्मा, पुष्कर यदुवंशी, बलजीत, पवन, दीपक, हर्ष, राजू शौरयाण, पिंटू, कमल भड़ाना, कपिल शर्मा, अरुण  मौजूद थे। 


loading...
SHARE THIS

0 comments: