Thursday, June 21, 2018

विधायक नागेंद्र भड़ाना के नेतृत्व में ग्रामीणों ने पाली में बनाए जा रहे बूचडखाने में की तोडफ़ोड़

Under the leadership of legislator Nagendra Bhadana, the villagers broke into the slaughter house

           
फरीदाबाद(abtaknews.com)गुरूग्राम रोड़ पर पाली में बनाए जा रहे बूचडख़ाने को आज सैकड़ो ग्रामीणों ने तहस नहस कर दिया। इस बूचडख़ाने का गांव वाले पिछले काफी समय से विरोध कर रहे थे लेकिन हर बार आश्वासन मिलने के बाद आखिरकार आज उनका सब्र का बांध्र टूट गया और सैकडों की संख्या में ग्रामीण विधायक नगेन्द्र भड़ाना,पूर्व चेयरमेन रामबीर भड़ाना,सुन्दर सरपंच,रघबर प्रधान,धर्मबीर भड़ाना,आजाद भड़ाना,महेन्द्र ठेकेदार,पप्पू सरपंच मोहबताबाद,श्रद्वा मैम्बर,जयवीर चेयरमेन,ओमप्रकाश मैम्बर,श्यामबीर ब्लाक समिति सदस्य,कपिल भड़ाना व होराम मास्टर जी के नेतृत्व में मौके पर पहुंचे और उन्होनें ना केवल काम रूकवाया ब्लकि दिवारों और स्टोर रूम को गिरा दिया। इस मौके पर नगेन्द्र भड़ाना ने कहा कि बूचडख़ाना किसी भी हालत में नहीं बनने दिया जाएगा और इसके लिए कोई भी कीमत चुकानी पड़ी तो वो पीछे नहीं हटेगें।

उन्होनें जोर देकर कहा कि अगर उन्हें विधानसभा की सदस्यता से अगर इस्तीफा भी देना पड़ा तो वे पीछे नहीं हटेगें। उन्होनें कहा कि बूचडख़ाना यहां ना लगाने के लिए वे स्वंय मुख्यमंत्री से मिलेगें और उनसे अनुरोध करेगें कि कि जनभावनाआं को देखते हुए इसे यहां ना लगाया जाए। उन्होनें कहा कि इस बारे में केन्द्रीय राज्यमंत्री चौ. कृष्णपाल गुर्जर से भी बात की थी और उनका पूरा सहयोग मिल रहा है। नगेन्द्र भड़ाना ने कहा कि हमें एकजुट होकर इस लड़ाई को लडऩा है यदि हमने अभी मिलकर इसका विरोध नहीं किया तो आने वाली पीडिय़ा हमें कभी माफ नहीं करेगीं। इस मौके पर श्यामवीर ने कहा कि हमने जिन्दगी में पहला विधायक देखा है जो लोगों के दुख दर्द को समझते हुए सबसे पहले मौके पर पहुंचा और जिसने खुद इस बुचडख़ाने की दिवार की पहली ईंट गिराकर यह संदेश दिया है कि वो जनता के कितने हितैशी है। उन्होनें कहा कि विधायक नगेन्द्र भड़ाना वाकई में जनता के सेवक है जो एयरकडीशन कमरों में ना बैठकर सीधा जनता से संवाद करते है। 
इस अवसर पर ग्रामीणों ने सरकार को दी चेतावनी किसी भी कीमत पर यहां बूचचडख़ाना नहीं बनने दिया जाएगा चाहे इसके लिए कोई भी कुर्बानी क्यों ना देनी पड़े।


loading...
SHARE THIS

0 comments: