Sunday, May 6, 2018

बच्चों के विरुद्ध यौन हिंसा रोकने के लिए दौड़ रहा युवक

The young man running to stop sexual violence against children


फरीदाबाद(abtaknews.com)बच्चों के विरुद्ध हो रही यौन ङ्क्षहसा से व्यथित गोवा के युवक द्वीप मुलवी ने देश में अलख जगाने के लिए ङ्क्षसगल मेराथन का सहारा लिया। वह गोवा से दिल्ली दौड़ते हुए निकला। फरीदाबाद पहुंचने पर मुलवी ने श्री सिद्धदाता आश्रम में अपना पड़ाव डाला और अधिपति स्वामी श्री पुरुषोत्तमाचार्य जी महाराज से आशीर्वाद प्राप्त किया।

पेशे से मॉडल एवं फिटनेस फ्रीक द्वीप मुलवी अपने दो साथियों सुधीर पांडे ओर ब्राजील गोम्स के साथ गोवा से दिल्ली तक दौड़ कर रहे हैं। वह कहते हैं कि इस दौड़ के जरिए उन्होंने लोगों को बच्चों के विरुद्ध यौन ङ्क्षहसा पर जागृत करने का प्रयास किया है। गोवा से दिल्ली के बीच करीब दो हजार किलोमीटर की दूरी करीब 28 दिनों में तय करने वाले द्वाप मुलवी रात में दौड़ते हैं और इस दौरान उनके दोनों साथी मोटरसाइकिल पर उनके साथ साथ चलते हैं।

मुलवी ने यहां साथियों सहित श्री सिद्धदाता आश्रम में अपना पड़ाव डाला और यहां के बारे में जानकारी प्राप्त की। उन्होंने आश्रम के अधिपति श्रीमद जगदगुरु रामानुजाचार्य स्वामी श्री पुरुषोत्तमाचार्य जी महाराज से चर्चा में कहा कि यह धर्म स्थलों के कारण असंख्य लोग धार्मिक आचरण कर रहे हैं। धार्मिक केंद्रों की इसमें बड़ी भूमिका है। यदि धार्मिक केंद्र लोगों को जागरुक न करें तो स्थिति बहुत खराब हो सकती है। वहीं स्वामी पुरुषोत्तमाचार्य जी महाराज ने कहा कि मुलवी जैसे युवा जब इतने बड़े विचार को लेकर निकलते हैं तो समाज में बड़े परिवर्तन आते हैं। हम मुलवी के विचारों को सफलता प्राप्त होने की कामना करते हैं। उन्होंने कहा कि समाज में बुराईयां निरंतर आती हैं और उनको दूर करने के प्रयास भी निरंतर होते हैं तभी समाज चल रहा है। समाज में सुधार के कार्य निरंतर चलते रहें इसके लिए हम भी निरंतर प्रयास करते हैं और ऐसे प्रयासों में साक्षी बनते हैं।
मुलवी ने बताया कि इससे पहले इसी मुद्दे पर वह गोवा से पुणे तक की दौड़ पूरी कर चुके हैं। उनके इस काम में स्थानीय विधायक सुदिन धवलीकर बड़ी मदद करते हैं वहीं कुछ कंपनियों ने भी उनके इस आयोजन में मदद की है। मुलवी अपना एक फेसबुक पेज भी चलाते हैं जिसके जरिए वह अपने पूरे आयोजन में लोगों से जुड़े रहते हैं और जगह जगह लोगों को बच्चों के विरुद्ध यौन हिंसा रोकने के लिए प्रेरित करते हैं।

loading...
SHARE THIS

0 comments: