Thursday, May 10, 2018

जब बल्लभगढ़ एसडीएम राजेश बन बैठे स्कूल टीचर, चेकिंग पर टीचरों की निकाली गलती


When Balbagharda SDM Rajesh sat sitting school teacher, teacher's fault on the exit

फरीदाबाद(abtaknews.com दुष्यंत त्यागी) 10 मई,2018 ;जब एसडीएम बने खुद ही टीचर। लेकिन टीचर स्कूली बच्चों के लिए नहीं, बल्कि बच्चों को पढ़ाने वाले शिक्षकों किस सीट पर बैठ कर उन्होंने जहां बच्चों को शिक्षा का पाठ पढ़ाया वही टीचरों की गलतियां भी निकाली। आमतौर पर शिक्षकों को उनकी क्लास में पढ़ने वाले बच्चों की गलतियां निकालने का अधिकार है लेकिन यहां एसडीएम ने शिक्षकों की चेकिंग में कमियां निकाली और लाल पेन से अंडा लगाया। एसडीएम ने स्कूल की सफाई व्यवस्था के लिए भी अधिकारियों और स्कूल की प्रिंसिपल को कड़ी फटकार लगाई। इतना ही नहीं एसडीएम ने स्कूल के सभी शिक्षकों की परेड कराई और कक्षाओं के ब्लैक बोर्ड पर लिखवाकर उनका ज्ञान वर्धन किया।

फरीदाबाद के सेक्टर 10 स्थित सरकारी स्कूल में बल्लभगढ़ एसडीएम राजेश कुमार ने टीचरों की ली क्लास। इससे पहले उन्होंने स्कूल में फैली गंदगी को लेकर शिक्षकों का स्कूल की प्रधानाचार्य को जमकर फटकार लगाई और स्कूल में काम करने वाली चपरासी को रिटायरमेंट लेने तक के आदेश कर दिया। एसडीएम ने सफाई व्यवस्था को लेकर 24 घंटे का स्कूल प्रबंधकों को अल्टीमेटम दिया हैं। इस मौके पर कक्षा में टीचर की सीट पर बैठ कर बैठकर एसडीएम छात्र छात्राओं की कॉपी को चेक किया और उसमें से काफी गलतियां निकाली। गलतियां पाए जाने पर उन्होंने कक्षा की टीचर को आड़े़े हाथ लिया। 

एसडीएम राजेश कुमार ने बताया कि उन्हें गंदगी से बेहद नफरत है। शहर के सरकारी स्कूलों में जाकर स्कूलोंं को आधुनिक बनाने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहां की शिक्षा में गुणवत्ता लानेेे के लि सरकारी स्कूलों को प्राइवेट स्कूलों की तर्ज पर लाने का प्रयास कर रहे हैं। उनकी माने तो सरकारी स्कूल के शिक्षक प्राइवेट स्कूल के शिक्षकों से ज्यादा गुणवान है। लेकिन उनकी सोच के कारण है सरकारी स्कूल के बच्चेेे पिछड़ रहे हैं।कॉपरेटिव सोसायटी हरियाणा सरकार के चेयरमैन धनेश अदलखा ने बताया कि सरकारी स्कूल में शिक्षकों की कमी के कारण ही बच्चे पिछड़ रहे हैं। यदि सरकारी स्कूल के शिक्षक अपनी सोच में परिवर्तन लाए तो सरकारी स्कूलों मेंं शिक्षा का स्तर सुधारा जा सकता है।

loading...
SHARE THIS

0 comments: