Tuesday, April 24, 2018

वाईएमसीए में ‘बौद्धिक संपदा अधिकारों तथा पेटेंट प्रक्रिया’ पर कार्यक्रम का आयोजन

Organizing program on 'Intellectual Property Rights and Patent Processing' in YMCA

फरीदाबाद, 24 अप्रैल(Abtakews.com)बौद्धिक संपदा अधिकारों की उपयोगिता को लेकर वाईएमसीए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय द्वारा राष्ट्रीय तकनीकी शिक्षक प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान (एनआईटीटीटीआर), चंडीगढ़ के सहयोग ‘बौद्धिक संपदा अधिकारों तथा पेटेंट प्रक्रिया’ पर एक सप्ताह से चलने वाले लघु अवधि के प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है।

कार्यक्रम का शुभारंभ कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने किया तथा इसकी अध्यक्षता एनआईटीटीटीआर, चंडीगढ़ के उद्यमिता विकास तथा औद्योगिक समन्वय विभाग के अध्यक्ष तथा प्रोफेसर डॉ. जे.एस. सैनी ने की। कार्यक्रम का समन्वयन अधिष्ठाता (अकादमिक) डॉ. विक्रम सिंह, एलुमनी व कार्पोरेट सेल के निदेशक डॉ. संजीव गोयल तथा इंडस्ट्री रिलेशन्स सेल की निदेशक डॉ. रश्मि पोपली द्वारा किया जा रहा है।

अपने संबोधन में कुलपति ने नवाचार में बौद्धिक संपदा अधिकारों की भूमिका तथा महत्व और इन्हें संरक्षित करने की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि वैश्विकरण के दौर में बौद्धिक संपदा की बढ़ती प्रासंगिकता के कारण शिक्षाविद्ों, शोधकर्ताओं, वैज्ञानिकों तथा तकनीकीविद्ों को बौद्धिक संपदा की भूमिका को समझना होगा। उन्होंने बताया कि बौद्धिक संपदा के संरक्षण की दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाते हुए विश्वविद्यालय द्वारा बौद्धिक संपदा अधिकार प्रकोष्ठ गठित किया गया है।

इस अवसर पर संबोधित करते हुए डॉ. जे.एस सैनी ने कार्यक्रम की संक्षिप्त रूपरेखा प्रस्तुत की तथा बौद्धिक संपदा अधिकारों तथा इसके संरक्षण के महत्व के बारे में बताया। कार्यक्रम के तकनीकी सत्रों को भगत फूलसिंह महिला विश्वविद्यालय, खानपुर कलां में विधि विभाग के बौद्धिक संपदा अधिकार अध्ययन केन्द्र के समन्वयक डॉ. प्रमोद मलिक, एडवोकेट व पेटेंट अटार्नी वरूण शर्मा, दिल्ली में पंजीकृत पेटेंट एजेंट नूपुर गोयल भी संबोधित करेंगे। कार्यक्रम के दौरान प्रतिभागियों को राष्ट्रीय अनुसंधान विकास निगम, दिल्ली तथा प्रौद्योगिकी सूचना, पूर्वानुमान तथा आकलन परिषद्, दिल्ली का दौरा भी करवाया जायेगा। 

कार्यक्रम के दौरान बौद्धिक संपदा अधिकारों के संरक्षण, पेटेंटिंग प्रक्रिया, सूचना तथा खोज, अकादमिक व औद्योगिक साझेदारी में नवाचार तथा अनुसंधान, ट्रेडमार्क तथा कॉपीराइट संरक्षण तथा अनुसंधान के प्रकाशन तथा पेटेंटिंग के संदर्भ में अनुसंधानकर्ताओं के लिए जरूरी बातों पर चर्चा की जायेगी। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: