Wednesday, April 25, 2018

फरीदाबाद में नेशनल हाइवे नंबर दो पर तेज रफ़्तार के कहर से तीन की मौत

फरीदाबाद(abtaknews.com) 25 अप्रैल,2018 ; शहर में  22 /23 की बीती रात नेशनल हाइवे नम्बर -2 पर तेज रफ्तार के कहर ने तीन लोगो की जान ले ली । घटना  नेशनल हाइवे नम्बर -2 पर स्थित गुडईयर के समीप की है जहाँ एक कंटेनर ने i -10 कार को जबदस्त टककर मार दी। घटना में पत्नी और सास की घटना स्थल पर ही मौत हो गई थी। जबकि पति , ससुर और साला गंभीर रूप से घायल हो गए। तीनों घायलों को एक निजी अस्पताल में ईलाज के लिए भर्ती कराया गया था जहां पति (संदीप)  की भी मौत हो गयी। वहीँ पुलिस की माने तो कंटेनर को कब्जे में लेकर चालक की तलाश की जा रही है और कल ही दोनों की शवों का बादशाह खान अस्पताल में पोस्टमार्टम करवा कर परिजनों को सौंप दिया गया था और आज तीसरे मृतक का पोस्टमार्टम करवाया जा रहा है।  

नेशनल हाईवे नम्बर दो पर तेज रफ़्तार के कहर के बाद सामने आई इन तस्वीरो को देख कर आपका दिल दहल जाएगा। घटना  22 /23 की बीती रात नेशनल हाइवे नम्बर -2 पर तेज रफ्तार के कहर की है जिसने तीन लोगो की जान ले ली । मृतक परिवार की माने तो सेक्टर -21 डी निवासी संदीप  शर्मा अपनी पत्नी समां ,सास उषा,ससुर राकेश और साले अमित  के साथ नेशनल हाईवे नंबर दो स्थित धर्मा ढाबे पर खाना खा कर अपनी i -10 कार से  लौट रहे थे की तभी हाइवे नम्बर -2 पर स्थित गुडईयर चौक से यु टर्न ले रहे थे की अचानक बल्लभगढ़ की तरफ से आ रहे तेज रफ़्तार कैंटर ने उनकी कार में टक्कर मार दी। टक्कर इतनी जबरजस्त थी की मौके पर ही संदीप की पति समा और सास उषा की मौत हो गई और संदीप -ससुर राकेश शर्मा ,साला अमित गंभीर रूप से घायल हो गए। घटना के बाद दोनों मृतक महिलाओ के शव को सिविल अस्पताल की मोर्चरी में रखवा  कर तीनो घायलों को निजी  अस्प्ताल में भर्ती करवाया गया ,जहां आज घटना के दूसरे दिन संदीप की मौत हो गई।

पुलिस जांच अधिकारी सत्यपाल ने बताया कि कंटेनर को कब्जे में लेकर चालक की तलाश की जा रही है और कल ही दोनों के  शवों का बादशाह खान अस्पताल में पोस्टमार्टम करवा कर परिजनों को सौंप दिया गया था और आज तीसरे मृतक का पोस्टमार्टम करवाया जा रहा है। तेज रफ़्तार के कहर ने दो परिवारों को उजाड़ दिया इस घटना के बाद जहाँ संदीप और उषा की मौत के बाद उनके दोनों बच्चे अनाथ हो गए तो वहीँ ससुर राकेश के बुढ़ापे का सहारा उनकी पत्नी भी उन्हें इस दुनियां से हमेश -हमेशा के लिए छोड़ कर चली गई। तभी तो कहा जाता है देरी से पहुंचो लेकिन सुरक्षित पहुंचो घर पर कोई आपका इंतजार कर रहा है। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: