Saturday, April 14, 2018

सरस्वती महिला महाविद्यालय, पलवल में एक और सुधार नामक कार्यक्रम का आयोजन

Organizing another program called Saraswati Women's College, Palwal

पलवल 14 अप्रैल,2018(abtaknews.com)सरस्वती महिला महाविद्यालय, पलवल  के सभागार में एक और सुधार नामक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि हरियाणा के प्रोजैक्ट निदेशक रॉकी मित्तल रहे।कार्यक्रम में सरस्वती महिला महाविद्यालय की प्रिंसीपल डा. अल्का शर्मा, प्रोफेसर शशी शर्मा, प्रोफेसर सविता मनचंदा, प्रोफेसर  सोनिया भारद्वाज, महिला थाना इंचार्ज कमला देवी, अतिरिक्त उपायुक्त पलवल कार्यालय के जिला कार्यक्रम अधिकारी नजमुस साकिब सहित विभिन्न गांवों के सरपंच, आंगनवाडी कार्यकर्ता, एएनएम, अध्यापिका, महिला सिपाही, छात्राएं मौजूद थी। 

प्रोजैक्ट निदेशक रॉकी मित्तल ने कहा कि आजादी के बाद देश ने सभी क्षेत्रो में बड़ी तेजी से विकास किया है लेकिन महिला सुरक्षा के मामले में अपेक्षाओं के अनुरूप कार्य नही हो पाया है। इसी के दृष्टिगत हरियाणा सरकार ने हरियाणा के प्रत्येक जिले में एक और सुधार कार्यक्रम आयोजित करके महिलाओं के सुझाव आमंत्रित करने के लिए यह अभियान चलाया है। इसी कड़ी में आज इस जिला स्तरीय कार्यक्रम में महिलाओं के सुझाव आमंत्रित किए जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम से पुर्व सरकार ने किसानों के लिए एक और सुधार कार्यक्रम चलाया था, जिसके बेहतर नतीजे सामने आए हैं और उसी कार्यक्रम के आधार पर हरियाणा के सभी जिलों में अंत्योदय भवन बनवाए जा रहे हैं ताकि अंतिम पंक्ति में खड़े गरीब व्यक्ति का भी विकास सुनिश्चित हो सके। उन्होंने कहा कि आज जो महिलाएं अपने सुझाव देंगी उनकी रिकॅार्डिंग मौके पर ही की जाएगी और यह रिकॉर्डिंग हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल के समक्ष रखी जाएगी और महिलाओं के सुझावों को बनाए जानी वाली योजनाओं में शामिल किया जाएगा। सरकार महिलाओं को सुरक्षा के मामले में पूरी तरह सक्षम बनाना चाहती ह। प्रदेश सरकार ने 12 साल तक की बालिकाओं के साथ बलात्कार करने वाले व्यक्ति को फासी देने की सजा का कानून बनाया है ताकि महिला समाज को सुरक्षित बनाया जा सके। इस अवसर पर बाल कल्याण परिषद पलवल की ओर से कार्यक्रम अधिकारी सुरेखा डागर व सुपरवाइजर आशा ने मुख्य अतिथि को एक और कदम कौशल विकास की कलाकृति भेट की।

इस तरह के संवाद कार्यक्रमों से नए सुझाव सामने आते हैं जो नई योजनाएं बनाने के लिए कारगर होते हैं। कार्यक्रम को सामाजिक कार्यकर्ता अल्पना मित्तल, जनाचौली गांव की सरपंच गीता देवी, लेक्चरर ज्योति रावत, जैंदापुर की सरपंच ममता, लेक्चरर सोनू , प्रोफेसर रीना सिंह, छात्रा मीनू रावत, एएनएम सुमन रावत, भैंडोली की सरपंच उर्मिला, छात्रा प्रिती मंगला, गीता, ज्योति सहित अनेक छात्राओं, महिलाओं ने भी महिला सुरक्षा से सम्बंधित अनेक सुझाव मौके पर दिए।

loading...
SHARE THIS

0 comments: