Monday, April 2, 2018

फरीदाबाद की बेटी सोनम चौधरी ने गायकी के क्षेत्र में ग्लोबल लीडर अवार्ड जीता

Faridabad's daughter Sonam Chaudhary won the Global Leader Award in the field of singing

फरीदाबाद 2 अप्रैल(abtaknews.com) फरीदाबाद की बेटी सोनम चौधरी ने गायकी के क्षेत्र में ग्लोबल लीडर अवार्ड लेकर नया मुकाम हासिल किया है । ये अवार्ड उन्हें पॉप सिंगर शंकर साहनी के साथ एल्बम में "मूड है शायराना  में गाना गाने के लिए मिला है। इस अवार्ड के मिलने से परिवार में ख़ुशी का माहौल है। गायकी में एक अलग पहचान बनाने वाली सोनम के पिता जज हैं, जो फि़लहाल झज्जर जिले में एडीजे हैं। सोनम चौधरी के यहां तक पहुंचने के पीछे की कहानी भी कुछ कम दिलचस्प नहीं है , सोनम के पिता जज हैं और फिलहाल झज्जर में एडीजे हैं । करीब 4 साल पहले फरीदाबाद में ही गायन की ट्रेनिंग से शुरुआत करने वाली सोनम का कहना है कि उसे अपने पिता की तरह सरकारी बंधनों में बँधकर रहना पसंद नहीं है । उसे अपने गाने के बोल मूड है शायराना की तर्ज पर अपनी जिंदगी जीने की लालसा है और इसीलिए उसने गायकी के क्षेत्र को चुना है । सोनम को पॉप सिंगर शंकर साहनी के साथ फिल्माए गए गाने मूड है शायराना के लिए दिल्ली में ग्लोबल लीडर अवार्ड मिला है । उसके साथ ही बॉलीवुड से भी एक फिल्म में जाने के लिए ऑफर मिल गया । सोनम का कहना है कि 007 फिल्म जिसे कीर्ति डायरेक्ट कर रहे हैं उन्होंने यह ऑफर दिया है । जिसमें एक गाने को उन्हें गाना है ।उसकी फिलहाल तैयारियों में लगी हुई है । उन्हें उम्मीद है कि अगले 1 महीने में इस गाने को गाने के लिए मुंबई जाने चली जाएँगी। सोनम ने इससे पहले भी जिला स्तर पर कई पुरस्कार जीते हैं ।फरीदाबाद स्वर कला केंद्र की तरफ से भी 2018 का बेस्ट अवार्ड ले चुकी है । सोनम चौधरी का कहना है कि उनके पिता महेश जज हैं और वह खुद भी जज बनने की पहले सोचती थी और लॉ करना चाहती थी लेकिन जब उन्हें पता चला कि एक जज के लिए सरकारी तौर पर जो बंदिशें होती हैं , हर जगह जाने के लिए परमिशन तक लेनी पड़ती है तो उसके बाद उन्होंने अपना क्षेत्र गायकी का चुन लिया । क्योंकि उसे बंधन में रहना पसंद नहीं है । वह पूरे देश और विदेश में घूमना चाहती हैं ।इसलिए उन्होंने लॉ करने का विचार त्याग दिया । सोनम की इस सफलता के पीछे सोनम खुद अपने परिवार का और अपने दादा-दादी का सपोर्ट मानती हैं । अभी स्कूल में पढ़ाई कर रही सोनम का कहना है कि पढ़ाई के साथ-साथ गायकी भी सीखना इतना मुश्किल नहीं है दोनों के लिए ही अलग-अलग वक्त देती हैं । स्कूल में भी वह टॉपर रही है।

loading...
SHARE THIS

0 comments: