Sunday, April 1, 2018

धार्मिक आयोजनों से होता है मनुष्य का मन-मस्तिष्क बेहतर : लखन सिंगला

Religious celebrations happen with human mind-brain: Lakhan Singh

फरीदाबाद 01 अप्रैल,2018(abtaknews.com)ओल्ड फरीदाबाद में 12वां श्री चैत्र पूर्णिमा हनुमान जन्मोत्सव हर्षाेल्लास के साथ सम्पन्न हुआ। इस धार्मिक कार्यक्रम की शुरुआत सेक्टर-16 स्थित भूमिया मंदिर से एक भव्य शोभा यात्रा की शुरुआत से हुई, जो ओल्ड बाजार होते हुए नहरपार स्थित हनुमान कुटीर पर समाप्त हुई। शोभा यात्रा को वरिष्ठ कांग्रेसी नेता लखन कुमार सिंगला ने झंडी दिखाकर रवाना किया। इस यात्रा में ‘लाईव हनुमान’ जहां आकर्षण का केंद्र रहे वहीं राधा-कृष्ण, हनुमान जी, खाटू श्याम बाबा, भगवान राम-सीता व शिव-पार्वती की मनमोहक झांकियों ने लोगों का मन मोह लिया। शोभायात्रा का ओल्ड फरीदाबाद में जगह-जगह व्यापारियों ने फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया, जिससे पूरा माहौल भक्तिमय बन गया। इस मौके पर उपस्थितजनों को संबोधित करते हुए लखन सिंगला ने कहा कि  संकट मोचन श्री हनुमान की अराधना करने से मनुष्य के सभी दुख-दर्द दूर हो जाते है और आज उनकी जयंती पर भव्य शोभा यात्रा निकालने से समाज में सुख-समृद्धि का आगमन होता है। उन्होंने कहा कि हनुमान राम जी के भक्त थे और उनकी भक्ति भावना ने उन्हें देश ही नहीं बल्कि पूरे संसार में विख्यात किया और प्रतिदिन हनुमान जी की अराधना करने से मनुष्य का मन और मस्तिष्क बेहतर होता है और हमें अच्छे कार्य करने की प्रेरणा मिलती है इसलिए हनुमान जी का स्मरण करना चाहिए। श्री सिंगला ने इस धार्मिक कार्यक्रम के सफल आयोजन पर आयोजकों की भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुए कहा कि वह हर वर्ष यह कार्यक्रम आयोजित करके एक पुण्य का कार्य कर रहे है। इस दौरान श्री सिंगला ने शोभा यात्रा में शामिल कलाकारों की हौंसला अफजाई करते हुए उन्हें पुरस्कार देकर सम्मानित किया। अंत में कार्यक्रम मेें मौजूद गुरु स्वामी विजय विष्णु दास जी महाराज से लोगों ने आर्शीवाद लिया। इस मौके पर  शिवशंकर भारद्वाज, रोहताश पहलवान, पूर्व पार्षद रोहित सिंगला, अंशुल भारद्वाज, दीवान गांधी, जयकिशन टुटेजा, बबली त्यागी, राज लूकरा, विपुल कौशिक, सुभाष पांचाल, बालकिशन वशिष्ठ, प्रवीन गांधी, बॉबी पाराशर, रवि त्यागी, करण सिंह, संदीप वर्मा, सतीश ठाकुर, सूरज डेढा, ललित शर्मा, संजय सचदेवा, नितिन टुटेजा, नीरज सेठी सहित अनेकों श्रद्धालुगण मौजूद थे। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: