Sunday, April 1, 2018

महावतपुर में नाटक "जहर - इस देश ने बचा लो" का शानदार मंचन

The drama "poison - save this country" dramatized in Mahavatpur

फरीदाबाद 01अप्रैल,2018(abtaknews.com) बृज नट मण्डली के नाटकीय मंचनों से फरीदाबाद में ख्याति प्राप्त गांव महावतपुर में एक बार फिर शानदार रंगमंच का आयोजन किया गया। इस बार डॉ. जगबीर राठी द्वारा लिखित एवं निर्देशित नाटक "जहर - इस देश ने बचा लो" का आयोजन गांव के राजकीय उच्च विद्यालय में किया गया। नाटक की कहानी ने समाज में गिरते जा रहे मानवीय मूल्यों पर करारी चोट की। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अथिति के रूप में श्याम सुन्दर शर्मा (अध्यक्ष जिला ब्राह्मण सभा फरीदाबाद), प्रह्लाद शर्मा (भाजपा नेता) एवं चौधरी करतार सिंह भड़ाना पूर्व कैबनेट मंत्री (हरियाणा सरकार) की तरफ से प्रतिनिधि के तौर पर उनके भतीजे मौजूद रहे। यह प्रस्तुति संस्कृति मंत्रालय (भारत सरकार) के द्वारा प्रदत्त अनुदान से बृजनट मंडली (फरीदाबाद) एवं हरियाणा सांस्कृतिक संगठन (रोहतक) के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित की गई। 
जहर राजनीति में ही नहीं अपितु समाज की सोच में हैं : डॉ. जगबीर राठी
नाटक के लेखक एवं निर्देशक डॉ. जगबीर राठी ने बताया कि यह नाटक हमारे समाज में व्याप्त तमाम कुरीतियों एवं गिरते नैतिक मूल्यों पर करारा व्यंग है। समाज में मूल्यों में आई गिरावट, चारित्रिक पतन, संयुक्त से एकल परिवार की ओर बढ़ता समाज प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से शिक्षा प्रणाली एवं संस्कार हीनता को भी दर्शाता है। इसके साथ-साथ हमारे ही देश में शहीद की शहादत को, उसके परिवार को भी भुला दिया जाता है यह बहुत ही शर्मनाक बात है।

उन्होंने कहा कि इस नाटक में इन तमाम पहलुओं को बहुत ही शानदार अभिनय के माध्यम से मंचित किया गया है। डॉ. राठी ने कहा कि आज समाज में बाप-बेटी के रिश्तों में भी बहुत गिरावट आ गई है। गुरु-शिष्य परम्परा का भी पतन हो रहा है। हमें इस ओर बहुत ही गंभीरता से सोचने की परम आवश्यकता है। लिहाजा समाज को अपनी सोच बदलनी ही होगी अन्यथा समाज और संस्कृति का नाश होने में देर नहीं है।
धरातल पर सोचने को मजबूर कर गया नाटक : बृज मोहन भारद्धाज
बृज नट मंडली के अध्यक्ष बृज मोहन भारद्वाज ने बताया कि इस तरह के आयोजनों से रंगमंच की विधा न केवल ग्रामीण आंचल के लोगों को रोमांचित करती है बल्कि उनके मानसिक व बौद्धिक विकास को पोषित कर सामाजिक कुरीतियों पर कुठाराघात भी करती है। यह नाटक भी इसी कडी का एक अहम हिस्सा है। उन्होंने कहा कि आज भी भारत की आत्मा गांव में निवास करती है इसलिए समाज के सन्देश को लक्षित जनसमूह तक पहुंचाने के लिए रंगमंच का आयोजन गांव में करना बहुत जरुरी भी है।
नाटक के अंत में बृजमोहन ने कहा कि करीब दो घंटे चले इस नाटक को देखने के लिए स्कूल प्रांगण में हजारों की संख्या में उपस्थित दर्शकों का मैं हार्दिक आभार व्यक्त करता हूँ। बृज नट मण्डली की इस शानदार प्रस्तुति को देखने के लिए पुलिस अधिकारी राजेश चेची, अनशनकारी बाबा रामकेवल एवं महावतपुर के साथ-साथ आस-पास के गावों से आए गणमान्य व्यक्ति भी मौजूद रहे।

loading...
SHARE THIS

0 comments: