Friday, April 13, 2018

केंद्रीय राज्यमंत्री कृष्ण पाल गुर्जर तिमोर लेस्टे के 5 दिवसीय दौरे से भारत लौटे

Union Minister of State Krishna Pal Gujjar returned to India from Timor Leste on a four-day visit

पलवल,13अप्रैल,2018(abtaknews.com)केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्यमंत्री कृष्ण पाल गुर्जर ने भारत सरकार के विशेष दूत के रूप में 7 से 10 अप्रैल तक तिमोर लेस्टे का दौरा किया। इस यात्रा का उद्देश्य भारत और तिमोर लेस्टे के बीच दोस्ती के बंधन को और अधिक सुदृढ़ बनाना है।अपनी यात्रा के दौरान केंद्रीय राज्य मंत्री ने भारत के राष्ट्रपति का तिमोर लेस्टे के राष्ट्रपति एच.ई. डॉ फ्रांसिस्को गुटेर्स लू ओलो को भारत आने का निमंत्रण दिया, जिसे तिमोर लेस्टे के राष्ट्रपति ने स्वीकार करते हुए कहा कि भारत का यह निमंत्रण तिमोर लेस्टे के लोगों के लिए सम्मान की बात है। दोनों देशों के संबंध के मद्देनजर केंद्रीयराज्य मंत्री की यह यात्रा काफी कारगर रही। 
Union Minister of State Krishna Pal Gujjar returned to India from Timor Leste on a four-day visit

केंद्रीय राज्य मंत्री ने तिमोर लेस्टे के प्रधानमंत्री एच.ई. डा. मारी बिन अबुदे अल्कातीरी को भी भारत आने का निमंत्रण दिया। उन्होंने विदेशी मामलों एवं सहयोग मंत्री एच.ई. प्रो. डा. ऑरेलियो गुटेर्स और न्याय मंत्री एच.ई. मारिया एंजेला गुटेर्स  विगास कारसकालो से भी मुलाकात की। उन्होंने इस अवसर पर पर्यटन मंत्री एच.ई. मैनुअल वोन और शिक्षा  एवं संस्कृति मंत्री एच.ई. प्रो. डा. फर्नांडो हंजाम के साथ भी विचार-विमर्श किया। तिमोर लेस्टे नेतृत्व के साथ अपने विचार-विमर्श में, मंत्री ने तिमोर लेस्टे के साथ इसकी सामाजिक-आर्थिक विकास परियोजनाओं में तिमोर लेस्टे के साथ भागीदार की भारत की मजबूत इच्छा व्यक्त की और तिमोर लेस्टे पक्ष से उनकी प्राथमिकता आवश्यकताओं के मूल्यांकन के आधार पर परियोजनाएं का सुझाव देने को कहा।

दोनों देशों के बीच सहयोग के क्षेत्रों को बढ़ाने एवं विस्तार करने की आवश्यकता को स्वीकार करते हुए, दोनों पक्षों ने सहमति दी कि दोनों देशों के बीच मित्रता के संबंधों को और अधिक मजबूत करने के लिए द्विपक्षीय संस्थागत तंत्रों के माध्यम से विचार-विमर्श बढ़ाया जाए। श्री गुर्जर ने गोवा और तिमोर लेस्टे के बीच ऐतिहासिक संबंधों को भी याद किया और एक प्रतिनिधिमंडल को उनके पैतृक और विरासत के संबंधों का पता लगाने के लिए गोवा का दौरा करने का निमंत्रण दिया।केंद्रीय राज्य मंत्री ने मार्च 2018 में नई दिल्ली में अंतर्राष्ट्रीय सौर एलायंस (आईएसए) शिखर सम्मेलन के  सफल आयोजन के बारे में  तिमोर लेस्टे नेतृत्व को संक्षिप्त रूप में बताया और गठबंधन में शामिल होने के लिए आईएसए के संभावित  सदस्य देशों में से एक होने के कारण तिमोर लेस्टे को आमंत्रित किया।

यात्रा के दौरान, दोनों देशों के बीच हेल्थ केयर और सार्वजनिक स्वास्थ्य के क्षेत्र में समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। समझौता ज्ञापन जो 5 वर्षों से अधिक विचारधीन था, तिमोर लेस्टे के लोगों के लिए सर्वसुलभ स्वास्थ्य सेवा के विस्तार में सहयोग के नए रास्ते खोलेगा। भारत ने टेलिमेडिसिन के माध्यम से हेल्थ केयर के साथ सूचना प्रौद्योगिकी को सम्मिलित कर अपने अनुभव और विशेषता को साझा करने की पेशकश की।तिमोर लेस्टे पक्ष ने अपनी विकास संबंधी प्राथमिकताओं पर मंत्री को जानकारी दी और अवसंरचना के निर्माण, आईटी और अंग्रेजी भाषा सहित शिक्षा क्षेत्र, अवैध फिशिंग एवं मत्सय पालन तथा कृषि क्षेत्र के विकास के मुद्दे के समाधान हेतु सामुद्रिक क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने की इच्छा व्यक्त की।

तिमोर लेस्टे पक्ष ने आसियान के सदस्य देश के रूप में शामिल होने के उनके प्रयासों के बारे में मंत्री को जानकारी दी। दोनों पक्ष दोनों विदेश कार्यालयों के बीच प्रशिक्षण सहयोग को और आगे बढ़ाने के लिए सहमत हुए ताकि आसियान में तिमोर लेस्टे के शामिल होने तक पर्याप्त मानव संसाधन तैयार किए जा सके। मंत्री ने भारतीय विदेश नीति और मोदी नोमिक्स विषय पर विदेश मामलों एवं सहयोग मंत्रालय में एक सार्वजनिक व्याख्यान देते हुए अपनी यात्रा संपन्न की। भारत और तिमोर लेस्टे के लोगों के बीच ऐतिहासिक सांस्कृतिक संबंध को पुनर्जीवित करने और भारत और तिमोर लेस्टे के बीच लोकतांत्रिक, बहुलवाद, समावेशन और कानून के प्रति सम्मान की सांझा प्रतिबद्धता के आधार पर  रूचि के अभिसरण की पुष्टि करते हुए यह यात्रा काफी सफल रही।




loading...
SHARE THIS

0 comments: