Saturday, April 21, 2018

सभी रिकार्ड तोड़ेगी आगामी 29 अप्रैल की कर्मचारियों की ललकार रैली ; नरेश शास्त्री


naresh-shashtri-employee-leader-faridabad

फरीदाबाद, 21 अप्रैल(abtaknews.com)कर्मचारी आन्दोलन के पिछले 20 वर्षों के सभी प्रदर्शन, जलसा व रैलियों के रिकार्ड तोड़ेगी आगामी 29 अप्रैल की ललकार रैली। यह दावा  सर्व कर्मचारी संघ, हरियाणा के प्रदेश महासचिव सुभाष लाम्बा व सर्व कर्मचारी संघ, हरियाणा के राज्य वरिष्ठ उपाध्यक्ष नरेश कुमार शास्त्री ने किया। उन्होंने कहा कि आगामी 29 अप्रैल को जींद के हुडा ग्राउण्ड में होने वाली ललकार रैली कर्मचारियों द्वारा की गई संगठनात्मक गतिविधियों में संख्या बल के आधार पर सबसे बड़ी कर्मचारी एवं मजदूर रैली होगी। श्री लाम्बा व शास्त्री ने कहा कि सरकार द्वारा विधानसभा चुनावों के दौरान कर्मचारियों से किए वायदों को पूरा न करने से नाराज कर्मचारी सरकार के खिलाफ अपनी एकजुटता का प्रदर्शन करते हुए ठेकाप्रथा समाप्त करने, कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने, समान काम-समान वेतन लागू करने, नई पेंशन स्कीम समाप्त कर पुरानी पेंशन स्कीम लागू करने, एक्सग्रेसिया स्कीम बहाल कराने, सातवें वेतन आयोग के अनुरूप भत्तों में बढ़ौतरी करने, पक्के व कच्चे कर्मचारियों को एक समान कैशलैस सुविधा देने व अन्य मांगों को मनवाने के लिए संघ रैली के मंच से ही  आगामी आन्दोलन का ऐलान करेगा।

आज प्रैस को बयान जारी करते हुए सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रदेश महासचिव सुभाष लाम्बा, सर्व कर्मचारी संघ के राज्य वरिष्ठ उपाध्यक्ष नरेश कुमार शास्त्री, सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के मुख्य संगठन कर्ता वीरेन्द्र सिंह डंगवाल ने कहा कि रैली की सफलता के लिए एसकेएस द्वारा राज्य स्तर के नेताओं के नेतृत्व में छह टीमों का गठन किया गया है। जो सभी जिलों और ब्लॉकों में जनसम्पर्क अभियान चलाकर सभी विभागों के अधिकारियों से सम्पर्क साधे हुए है। इसी प्रकार विभागीय यूनियनों के स्तर पर भी अपने-अपने विभागों में तूफानी दौरे कर जनसम्पर्क अभियान चलाया जा रहा है। रैली की तैयारियों के लिए वाल पोस्टर, पर्चे, स्टीकर, वाल राईटिंग, होग्डिस तथा सोशल मीडिय़ा के माध्यम से कर्मचारी नेता अपने-अपने विभागीय कार्यालयों व शहरों के मुख्य मार्गों पर प्रचार-प्रसार में जुटे है। वहीं संघ से संबंधित यूनियन रोडवेज, बिजली, मैकेनिकल वर्कर्स रजि-41, नगरपालिका कर्मचारी संघ, पर्यटन निगम, अध्यापक संघ, यूनिर्वसिटीज, हैल्थ वर्कर्स यूनियनर्स एण्ड एसोसिएशनस, हेमसा, पटवारी, बीज विकास निगम, आईटीआई सहित अन्य दर्जनों संगठनों व सीआईटीओ के संबंधित संगठन आशा वर्कर, आंगनवाड़ी, ग्रामीण सफाई कर्मचारी, मिडे-डे-मील वर्कर्स आदि यूनियनों द्वारा ललकार रैली को समर्थन देने से रैली की अभूतभूर्व व ऐतिहासिक होने के दावे अत्याधिक मजबूत हो जाते है।


loading...
SHARE THIS

0 comments: