Friday, March 30, 2018

पलवल में नाबार्ड समर्थित प्रथम किसान उत्पादक कंपनी का शुभारंभ


Launch of NABARD supported first farming company in Palwal

पलवल, 30 मार्च(abtaknews.com)नाबार्ड ने पलवल जिले के प्रत्येक ब्लॉक में किसान उत्पादक संगठन की स्थापना और संवर्धन की परियोजना मंजूर की है, जिसके तहत जिले में पहली बार स्थापित पलवल किसान उत्पादक कंपनी (पलवल ब्लॉक) की स्थापना-बैठक होटल आर्या, पलवल में आयोजित की गई। पलवल किसान उत्पादक कंपनी का उद्घाटन नाबार्ड, हरियाणा क्षेत्रीय कार्यालय के उप महाप्रबंधक सुरेंदर सिंह ने किया। इस समारोह में बड़ी संख्या में जिले के किसान उपस्थित हुये। कार्यक्रम में नाबार्ड के सहायक महाप्रबंधक (जिला विकास)  सुबोध कुमार, भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (पूसा), दिल्ली के प्रधान वैज्ञानिक जेपीएस डबास, अग्रणी बैंक जिला प्रबंधक सत्यदेव आर्य, जिले के कृषि उप निदेशक पवन शर्मा, सर्व हरियाणा ग्रामीण बैंक के क्षेत्रीय प्रबन्धक आरपी शर्मा, जिला बागबानी अधिकारी अशोक वर्मा, ग्रामीण शिक्षा एवं सहायता एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरेन्द्र सिंह गहलोत, पलवल किसान उत्पादक कंपनी के अध्यक्ष राम प्रसाद समेत अनेक विशेषज्ञों और बैंकर्स ने सहभागिता की। 

कार्यक्रम के आरंभ में नाबार्ड के सहायक महाप्रबंधक (जिला विकास) सुबोध कुमार ने बताया कि कृषकों की आय को बढ़ाने के लिए नाबार्ड द्वारा किसानों के उत्पादक संगठन को काफी बढ़ावा दिया जा रहा है। उन्होने पलवल जिले में शुरू की जा रही नाबार्ड की इस परियोजना की रूप-रेखा पर प्रकाश डालते हुये रेखांकित किया कि जलवायु परिवर्तन, छोटी हो रही भू-जोतों, कृषि इनपुट और मशीनरी की ऊंची कीमतों, आदि कारणों से कृषि-कार्य छोटे किसानों के लिए लाभप्रद नहीं रहा है और चूंकि अकेला किसान संसाधनों के अभाव में वैज्ञानिक और उच्च लागत वाली खेती करने में सक्षम नहीं है, अत: किसानों के लिए यह परियोजना आरंभ की गई है, ताकि वे वैज्ञानिक तरीके से फसल उगाने के साथ-साथ खुद अपनी उपज का प्रसंस्करण और विपणन कर अधिकाधिक लाभ अर्जित कर सकें। उन्होंने कहा कि कृषक उत्पादक संगठन को कंपनी के रूप में पंजीकृत कराने से किसान पेशेवर तरीके से अपने उत्पाद के प्रसंस्करण, ब्रांडिंग और मार्केटिंग में सक्षम हो सकते हैं। 
कार्यक्रम में जिले के कृषि उप निदेशक पवन शर्मा ने पलवल जिले में नाबार्ड की इस पहल का स्वागत किया और किसान उत्पादक संगठनों को उनके विभाग की ओर से पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया। सर्व हरियाणा ग्रामीण बैंक के क्षेत्रीय प्रबंधक आरपी शर्मा ने कहा कि इन किसान उत्पादक संगठनों की ऋण संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए उनका बैंक सदैव तत्पर रहेगा।  

अग्रणी जिला प्रबंधक सत्यदेव आर्य ने कृषक उत्पादक संगठनों की महत्ता और उपादेयता पर चर्चा करते हुए नाबार्ड की इस परियोजना को जिले के विकास के लिए ऐतिहासिक और क्रांतिकारी बताया। जिला बागबानी अधिकारी अशोक वर्मा ने किसानों को विभाग द्वारा चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं की लाभदायक जानकारी मुहैया कराते हुये किसानों से फल-फूल उत्पादन, मशरूम उत्पादन, मधुमक्खी-पालन, सब्जी उत्पादन के लिए आगे आने का आह्वान किया। जे पी एस डबास ने किसानों को उन्नत और वैज्ञानिक तरीके से खेती करने के व्यावहारिक नुस्खे बताए और कहा कि प्रबंधन ही किसान उत्पादक संगठन की सफलता का मूल आधार है, जिसके लिए किसानों को सदैव अपना ध्यान केन्द्रित करना चाहिए। उन्होने किसानों को भारतीय कृषि अनुसंधान की ओर से हर तरह के सहयोग का आश्वासन दिया। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे नाबार्ड के उप महाप्रबंधक सुरेंदर सिंह ने नाबार्ड की परियोजना की विशेषताओं का उल्लेख करते हुये बताया कि किसान की व्यक्तिगत  कठिनाइयों को महसूस करते हुये नाबार्ड ने अपनी नीति और कार्ययोजना में किसान उत्पादक संगठन को बढ़ावा देने के कार्यक्रम को अपना फ्लैगशिप कार्यक्रम बनाया है। उन्होंने पलवल किसान उत्पादक कंपनी के निदेशकों और सदस्यों को इस मौके पर सम्मानित भी किया।  कार्यक्रम का संचालन ग्रामीण शिक्षा एवं सहायता एसोसिएशन के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुरेन्द्र सिंह गहलोत द्वारा किया गया और धन्यवाद ज्ञापन पलवल किसान उत्पादक कंपनी के अध्यक्ष राम प्रसाद द्वारा किया गया।

loading...
SHARE THIS

0 comments: