Wednesday, March 14, 2018

केंद्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर द्वारा गोद लिया आदर्श गांव तिलपत बना कैंसर वाला गांव


Cancer Village, a model village adopted by Union Minister of State, Krishnpal Gurjar

फरीदाबाद 14 मार्च(abtknews.com-दुष्यंत त्यागी)फरीदाबाद में केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर का गोद लिया गांव तिलपत आदर्श गांव बेशक न बना हो लेकिन अब कैंसर वाला गांव जरूर बन गया है, आदर्श गांव तिलपत इन दिनों कैंसर जैसी जानलेवा बिमारी की चपेट में है। ग्रामीणों का दावा है कि गांव के हर पांचवें घर में एक कैंसर का मरीज है। जिनका दिल्ली एनसीआर के अस्पतालों में इलाज चल रहा है। पिछले कुछ सालों में दर्जनों पुरूष और महिलाओं की मौत भी हो चुकी है। यहां साल 3 से 4 नए मरीजों की पहचान हो रही है। गांव में कुछ लोग कैंसर का कारण दूषित हुए पानी को बता रहे हैं तो कुछ लोगों को कैंसर हो जाने की बजह अभी तक मालूम ही नहीं हुई है। 

बाबा सूरदास की जन्मस्थली का गांव तिलपत इन दिनों कैंसर जैसी भयानक बिमारी की चपेट में है, गांव तिलपत को आदर्श गांव बनाने के लिये केन्द्रीय राज्यमंत्री व फरीदाबाद के सांसद कृष्णपाल गुर्जर ने 2016 में गोद लिया था जो कि आज भी मूलभूत सुविधाओं को तरस रहा है। तिलपत गांव आदर्श गांव तो नहीं बन पाया मगर इन दिनो कैंसर वाला गांव जरूर बन गया है। जी हां चौंकिये मत कैंसर जैसी जानलेवा बिमारी तिलपत गांव में अधिकतर फैल चुकी है, गांव में कई दर्जन लोग कैंसर से पीडित हैं तो पिछले कुछ बर्षो कई दर्जनों लोग इस बिमारी के कारण दुनियां को अलविदा कह चुके हैं। गांववासी गांव में फैल रही ऐसी बीमारियों की वजह गांव के दूषित पानी को मान रहे हैं। 

गांव की कैंसर पीडित महिला वीरवती की माने तो उसके ले में कैंसर है जिसका ईलाज मेडिकल अस्पताल दिल्ली से चल रहा है, उनके छोटे से मोहल्ले में ही 6 लोग कैंसर से पीडित हैं जिनमें से 5 लोगो की मौत हो चुकी है, मरने वाले संतोष, प्रकाशी, विर्मा, नारायण और प्रेमवती है। वहीं चंद्रवती की माने तो उनके पति नारायण की की मौत भी कैंसर से हुई थी, उनके गले में कैंसर था, जिनका ईलाज दिल्ली के सफदरजंग और एम्स मेडिकल अस्पताल में करवाया गया था ईलाज के दौरान ही उनकी मौत हो गई थी,, डाक्टरों ने उन्हें कैंसर होने का कोई कारण नहीं बताया था। गांव तिलपत की महिला मूर्ति ने बताया कि उनके पति को गले में कैंसर है जिनका हाल ही में आपरेशन करवाया है जो कि अपनी आवाज खो चुके हैं अब कभी भी उनके पति बोल नहीं पायेेंगे।

वहीं गांव के नंदकिशोर ने बताया कि उनके घर में पहले उनके पिताजी को कैंसर हुआ जिनकी मौत हो गई उसके बाद  उनकी पत्नी को भी कैंसर हुआ जिसका ईलाज दिल्ली में करवाया गया जहां उनकी भी मौत हो गई, कैंसर की बिमारी के चलते उनके घर में दो मौतेें हो चुकी हैं। वहीं गांव के दूषित पानी के बारे मे बोलते हुए उन्होंने कहा कि गांव का पानी पूरी तरह से खराब हो चुका है जिसके चलते बिमारियों लगातार पनप रही हैं।गांव की पूर्व पंच के पति बाबूलाल रवि की माने तो गांव में पूरी तरह से कैंसर फैला हुआ है यह खबर पूरी तरह से सही है, उनके खुद के मोहल्ले में ही दर्जनों लोगें के कैंसर है, गांव में सप्लाई का पानी पूरी तरह से गंदा पानी है जो कि देखने में पूरी तरह से काला और कैमिकल युक्त होता है, जिसे कोई भी व्यक्ति प्रयोग नहीं करता है,, गांव में लोगों ने खुद के सम्बरसीबल लगाये हैं, और पीने के लिये गांव में सब लोग पानी खरीद कर पीते हैं।

वहीं इस भयंकर बिमारी के बारे में जानकारी देते हुए कैंसर विशेषज्ञ डाक्टर प्रवीण कुमार बंसल ने बताया कि कैंसर कभी भी और किसी भी उम्र में हो सकता है जिसके होने के कईं कारण सामने आये हैं, गुटखा तंम्बाकू या फिर और अन्य प्रकार के नशीले पदार्थों से भी कैंसर हो सकता है तो वहीं दूषित पानी से भी कैंसर होने की संभावना है क्योंकि इन दिनों फरीदाबाद में फैक्ट्रियों से निकलने वाला कैमिकल युक्त पानी जमीन में जा रही है जो शुद्व पानी को भी दूषित कर रहा है जिससे कैंसर जैसी बिमारी पनप सकती है। वहीं डाक्टर ने मोबाईल टावर से होने वाले कैंसर को एक मात्र अफवाह बताया है उनका कहना है कि अभी तक उनके सामने टावर की रेडिएशन से कैंसर होने का कोई केस नहीं आया है।


loading...
SHARE THIS

0 comments: