Friday, March 23, 2018

भविष्य की बिजली परमाणु ऊर्जा से: संदीप पाल

Future power from nuclear power: Sandeep Pal

इंदौर/धार(abtaknews.com )(मध्य प्रदेश)। देश और दुनिया में आज विकास की होड़ मची हुयी है। जिसके चलते ऊर्जा की मांग लगातार बढ़ोत्तरी जा रही है। उद्योग, स्वास्थ्य सेवाएँ, शिक्षा, विज्ञान, रिसर्च आदि क्षेत्रों में हो रहे विकास और लोगों की बढ़ती महत्वकांक्षाओं को मूर्त रूप देने के लिए संसाधनों का तेजी से दोहन हो रहा है। ऊर्जा के अधिकतर संसाधन सीमित हैं। हमें अपनी आवश्यकताएं भी सीमित करनी पड़ेंगी साथ ही यह भी समझना होगा कि जितना ज्यादा से ज्यादा वह ऊर्जा स्रोतों की बचत करेंगे, भविष्य में वह उतना ही उनके काम आएगी। यह बात एनपीसीआईएल द्वारा इंदौर के गवर्नमेंट ( मार्डन ऑटोनोमस ) होल्कर साइंस कालेज में व शासकीय स्वशासकीय महाविद्यालय धार आयोजित परमाणु ऊर्जा जनजागरूकता अभियान के दौरान कार्यक्रम संचालक संदीप पाल ने कही।
Future power from nuclear power: Sandeep Pal

श्री पाल के मुताबिक आजादी के सात दशकों के बाद भी हिन्दुस्तान के करोड़ों घरों को एक अदद रौशनी की दरकार है। हालाँकि देश में बिजली का उत्पादन बढ़ा है लेकिन जिस प्रकार से जनसंख्या तीव्र गति से बढ़ रही है, और संसाधनों का दोहन हो रहा है। प्रचलित संसाधन से विद्युत आपूर्ति संभव नहीं है। नये स्रोता की खोज भविष्य की आवश्यकता है।आज संपूर्ण विश्व में थर्मल पावर से निर्मित बिजली, ग्लोबल वॉरमिंग और वातावरण में उत्सर्जित होने वाली कई हानिकारक गैसों के चलते होने वाले वायु प्रदूषण के कारण एक गहन चिंता का विषय बनी हुई है, यहाँ तक कि जीवाश्म ईंधन होने के कारण कोयले के भंडार भी सीमित हैं, हाइड्रो को भी हमने पूरी तरह से लगभग दोहन कर लिया है, साथ ही पवन और सौर ऊर्जा की अपनी अपनी सीमायें हैं। सौर और पवन की उत्पादन क्षमता, ज्यादा जगह, धूप और हवा के प्रवाह की समुचित उपलब्धता पर निर्भर हैं। ऐसे में परमाणु ऊर्जा एक स्वच्छ और हरित ऊर्जा का किफायती विकल्प साबित हो रहा हैै। 

इसके अलावा साथ ही आज हमें कुछ और उपायों पर भी ध्यान देना होगा ताकि हम बिजली बनाने के साथ-साथ इसका संरक्षण भी भली भांति कर सकें। उदाहरण के तौर पर हमे आज ज्यादा से ज्यादा एलईडी बल्बों को उपयोग में लाना चाहिए ताकि एक तरफ हमें कम वाट पर अच्छी रौशनी मिल सके और दूसरी तरफ बिजली की भी खपत कम हो सके। जहाँ जरूरी न हो वहां दिन में बल्ब का इस्तमाल न करें। जिस जगह आप न बैठें हो वहां व्यर्थ में एसी, पंखे या फिर अन्य उपकरणों को बंद कर के रखें। घरों और कार्यालयों का भी निर्माण आधुनिक पद्यति से इस प्रकार से किया जाये जहाँ प्राकृतिक रूप से ज्यादा से ज्यादा सूर्य की रौशनी और हवा मिल सके। सड़कों के किनारे लगे हुए लैंप पोस्टों को दिन में बंद रखा जाये, स्कूल्स, मॉल एवं मल्टी पलेक्सेस में रूफ टॉप पर सोलर पैनल्स को अनिवार्य करना चाहिए, घरों में अगर संभव हो तो सौर ऊर्जा पर आधारित गीजर और कुकर का इस्तमाल करके हम काफी हद बिजली बचा कर ऊर्जा का संरक्षण कर सकते हैं।

loading...
SHARE THIS

0 comments: