Saturday, March 31, 2018

भाजपा सरकार जबरदस्ती नयी प्रणाली ई-पंचायत को लागू कर रही है ; सुभाष लाम्बा


The BJP government is forcibly implementing the new system e-Panchayat; Subhash Lamba

फरीदाबाद, 30 मार्च(abtaknews.com)सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा ने सरकार को चेतावनी दी कि अगर निलम्बित किये 9 पंचायत सचिवों को बहाल नही किया तो अन्य विभागों के कर्मचारी सड़कों पर उतरने पर मजबूर होंगे सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा ने अपनी मांगों को लेकर आन्दोलन कर रहे पंचायत सचिव को निलम्बित करने की धोर निन्दा की है । संघ ने इसे हताशा में उठाया गया तानाशाही पूर्ण करार दिया है । संघ ने पंचायत सचिवों के आन्दोलन का पुरजोर समर्थन करने का ऐलान किया है ।  सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के महासचिव सुभाष लाम्बा ने बताया  की अगर निलम्बित कियें ग्राम सचिवों को बहाल करते हुए मांगों का बातचीत से समाधान नही किया तो आन्दोलनरत कर्मचारियों के समर्थन व सरकार के दमनकारी कदमों के खिलाफ अन्य सरकारी विभागों के कर्मचारी भी सड़को पर उतरने पर मजबूर होंगे । जिसकी जिम्मेदारी सरकार की होगी ।

महासचिव लांबा ने बताया की पंचायत सचिव ई-पंचायत प्रणाली का विरोध नही कर रहे बल्कि उनका कहना है कि राज्य में 6200 ग्राम पंचायत  है और इनमें से केवल 5 प्रतिशत के पास ही अपने दफ्तर है । 6200 पदों के विरूद्ध  केवल 1600 ग्राम  सचिव काम कर रहे है और बाकि पद खाली पड़े हुए हैं । उन्होने बताया सरकार  की ई-पंचायत प्रणाली लागू करने से 95 प्रतिशत पंचायत का अपना दफ्तर बनाने , कम्प्यूटर लगाने , इंटरनेट कनेक्शन से जोड़ने , कम्प्यूटर आपरेटर लगाने आदि कार्य करे, तब ई- पंचायत प्रणाली शरू की जा सकती हैं । लेकिन सरकार यह सब करने की बजाय जबरदस्ती नयी प्रणाली को लागू कर रही है, जिससे विकास प्रभावित होगा । इसलिए इसका विरोध किया जा रहा है । उन्होने सरकार से सवाल किया की  पंचायत सचिव को 20 रूपये मासिक वाहन भत्ता देना क्या जॉयज है?  क्या 5 हजार वाहन भत्ते की मांग जॉयज नही है  ?

सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के जिला प्रधान  अशोक कुमार, सचिव युद्धबीर सिंह खत्री व सह सचिव धर्मबीर वैष्णव ने  बताया की आन्दोलन कर रहे पंचायत सचिव के नेताओं का निलम्बन व अंडर रूल-7 में चार्ज शीट करने का निर्णय सरकार की मानसिकता को स्पष्ट कर देता है ।  उन्होने बताया की पंचायत सचिव की एसोसिएशन सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा से संबधित है । इसलिए तमाम विभागों के कर्मचारी उत्पीड़न व दमन के खिलाफ आवाज़ बुलंद करेंगे । 

loading...
SHARE THIS

0 comments: