Tuesday, March 20, 2018

भारत के आलावा विदेश में धूम मचाती चिता यज्ञेश शेट्टी की अनूठी मार्शल आर्ट टेक्निक

Chinta Yagesh Shetty's unique martial arts technik

मुंबई(abtaknews.com) 20 मार्च,2018; 'चिता जीत कुन डू ग्लोबल स्पोर्ट्स फेडरेशनके संस्थापक,चेयरमैन और फिल्मों के सुप्रसिद्ध मार्शल आर्ट एक्सपर्ट चिता यज्ञेश शेट्टी लगभग तीन दशकों से भारतवर्ष के लोगों को मार्शल आर्ट सीखा रहे है।'चिता जीत कुन डू ग्लोबल स्पोर्ट्स फेडरेशनके तहत पूरे भारतवर्ष के अलावा अमेरिकारशियाचाइना,श्रीलंका जैसे १४ देशों में लोगों को मार्शल आर्ट सिखाया जा रहा है।रविवार १८ मार्च २०१८ को अँधेरी (वेस्ट) में स्थित अपने क्लास में पत्रकारों से बात करते हुए चिता यज्ञेश शेट्टी ने बताया कि अभी हाल में थाईलैंड में उनको विदेश में १५ वे ब्रांच 'चिता जीत कुन डू एसोसिएशनका उद्घाटन बड़े भव्य और अनूठे तरीके से किया गया।वहां एसोसिएशन के अध्यक्ष सुमित सिंह निक्कू और उपाध्यक्ष अशोक केसरवानी ने उद्घाटन के लिए वहां के बच्चों के अनाथालय दी ओर्फंज फाउंडेशन ऑफ़ थाइलैंडमें एक ट्रक भरके चावलतेलशक्करजूस इत्यादि मँगाया थाजोकि चिता यज्ञेश शेट्टी के हाथों वितरित किया गया। और अध्यक्ष सुमित सिंह निक्कू और उपाध्यक्ष अशोक केसरवानी ने अनाथालय को दो हज़ार थाईलैण्ड की मुद्रा का चेक भी यज्ञेश शेट्टी के हाथों अनाथलय के हेड खून मलाई को दिया गयाइस अवसर पर चिता जीत कुन डू के वर्ड डायरेक्टर विलियम बांड और चिताजी के बुक के प्रेसेंटर करीम भी मौजूद थे। सचमुच इससे अच्छा और अनूठा तरीका ब्रांच लॉन्चिंग का नहीं हो सकता है। इससे चिता यज्ञेश शेट्टी काफी प्रभावित हुए। इसके बारे में बातचीत के दौरान चिता यज्ञेश शेट्टी ने कहा," मैं सुमित और अशोक को धन्यवाद देता हूँजिन्होंने इस तरह के कार्यक्रम का आयोजन किया था और मैं ऐसे नेक काम में सहभागी हुआ। मैं चाहता हूँ कि पूरे संसार में सभी लोग और खासकर के आज के युवा पीढ़ी को मार्शल आर्ट की जानकारी हो और वे सीखे। जिससे उनका हेल्थ,माइंड इत्यादि स्वस्थ हो और वे तरक्की करे। आजकल सभी जगह गार्डन व खुली जगह इत्यादि की कमी है जिससे खेल कूद युवा पीढ़ी नहीं कर पाती है और लोग ज्यादातर कंप्यूटर तथा मोबाइल पर ज्यादा व्यस्त रहते है। जिससे उनके शरीर का फिजिकल एक्ससाइज़ नहीं हो पाता है। इसलिए मार्शल आर्ट बहुत ही फायदेमंद साबित होता है।"       

loading...
SHARE THIS

0 comments: