Tuesday, March 13, 2018

सब्सिडी रिलीज करने की एवज में पशुपालन विभाग का क्लर्क 3 हजार रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार


फरीदाबाद (abtaknews.com) 13 मार्च,2018  सब्सिडी रिलीज करने के नाम पर पशुपालन विभाग के कंप्यूटर क्लर्क को फरीदाबाद विजिलेंस ने रंगे हाथों 3 हजार रूपये रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है। क्लर्क पर आरोप है कि उसने गांव छायंसा के एक किसान को 30 हजार सब्सिडी देने की एवज में 3 हजार रूपये की रिश्वत ली है। बता दें कि सरकार द्वारा 18 किलो दूध देने वाली एक भैंस पर 15 हजार रूपये की सब्सिडी दी जाती है, शिकायतकर्ता की दो भैंसे हैं जो कि 18 - 18 किलाग्राम दूध देती हैं जिनकी सब्सिडी सरकार से आई हुई थी जिसे रिलीज करने की एवज में आरोपी ने 3 हजार रूपये रिश्वत के लिये हैं। विजिलेंस से भ्रष्ट्राचार निरोधक एक्ट के तहत मामला दर्ज कर कार्यवाही शुरू कर दी है।

गरीब और मेहनतकस किसान का पैसा खाने की फिराक में एक भ्रष्ट्राचारी पशुपालन विभाग के कंप्यूटर क्लर्क रमेश कुमार को फरीदाबाद विजिलेंस ने रंगे हाथों 3 हजार रूपये रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है। विजिलेंस टीम की गिरफ्त में दिखाई दे रहा ये वो ही व्यक्ति है जिसने सरकार द्वारा किसान को दिये गये पैसों को रिलीज करने की एवज में 3 हजार रूपये की रिश्वत ली है। 
विजिलेंस पुलिस अधिक्षक जयवीर राठी ने बताया कि उन्हें बल्लभगढ़ के गांव छांयसा के रहने वाले किसान अजीत कुमार ने शिकायत दी कि पशुपालन विभाग का कंप्यूटर क्लर्क रमेश कुमार सरकार द्वारा दी गई दो भैंसों के 18 - 18 किलोग्राम दूध पर सब्सिडी 30 हजार रूपयों को रिलीज करने के लिये 3 हजार रूपये की रिश्वत मांग रहा है जिसपर उन्होंने एक टीम गठित की और आरोपी रमेश कुमार को रंगे हाथों रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार कर लिया, जिसके खिलाफ भ्रष्ट्राचार निरोधक एक्ट के तहत कार्यवाही की जा रही है।

शिकायतकर्ता गांव छायंसा के किसान अजीत कुमार ने अबतक न्यूज़ पोर्टल टीम को बताया कि उनकी दो भैंसे 18 - 18 किलोग्राम दूध देती हैं जिनकी सब्सिडी 30 हजार रूपये सरकार द्वारा उन्हें दी गई है जो कि पशुपालन विभाग में पहुंची हुई थी जहां से 30 हजार रूपयों को रिलीज करवाने के लिये वह पिछले 6 माह से रोजाना दफ्तर के चक्कर काट रहा था, जिसके लिये क्लर्क रमेश ने 3 हजार की रिश्वत मांगी  तो उसने विजिलेंस को खबर की और आरोपी को रंगे हाथों गिरफ्तार कर दिया।


loading...
SHARE THIS

0 comments: