Friday, February 9, 2018

तिगांव विधायक के कार्यालय पर ईडी का छापा, ईडी ने रोका तो जबरदस्ती घुसे ललित नागर


Eddie's raids on the office of Tigon MLA Lalit Nagar, ED stopped, forced to enter Lalit Nagar

फरीदाबाद(abtaknews.com-दुष्यंत त्यागी) 09फरवरी,2018 ; तिगांव विधानसभा से कांग्रेस के विधायक ललित नागर के खेड़ी रोड स्थित कार्यालय पर आज ईडी का छापा पड़ा। दरअसल इस बार भी ईडी की टीम रॉबर्ट वढेरा  जमीन खरीद फरोख्त मामले में  फरीदाबाद पहुंची। कुछ महीने पहले ईडी ने ललित नागर के सेक्टर 17 स्थित घर और पैतृक गांव में भी छापामारी की थी और जांच की थी। ईडी की टीम आज सुबह करीब 11 बजे पहुंची , जहा कार्रवाही के दौरान अपने दफ्तर पर पहुंचे विधायक ललित नागर को ईडी ने दफ्तर जाने से रोका मगर रोकने के बाद भी जाँच के दौरान जबरदस्ती ललित नागर और उसका भाई मनोज नागर दफ्तर में घुस गए।  अभी भी  ईडी की जांच चल रही है । 
Eddie's raids on the office of Tigon MLA Lalit Nagar, ED stopped, forced to enter Lalit Nagar

फरीदाबाद के खेड़ी रोड स्थित कांग्रेस के विधायक ललित नागर के कार्यालय पर ईडी की टीमने छापा मारा। जहां ईडी की टीम जांच करने पहुंची हुई है। सुबह 11 बजे ईडी की टीम उनके खेड़ी पुल के कार्यालय पर पहुँची और फिर तलाशी शुरू कर दी । ऑफिस में उस समय कुछ कर्मचारी मौजूद थे और थोड़ी देर बाद ललित नागर वहां जा पहुचे । दरअसल  ललित के भाई महेश नागर पर आरोप है कि इन्होंने रोबेर्ट वाड्रा कर लिए अपने परिचितों के नाम से जमीन खरीदी । इससे पहले ईडी की टीम उनके ड्राइवर को गिरफ्तार कर चुकी है । कुछ माह  पहले भी बीकानेर से ईडी की टीम फरीदाबाद पहुंची थी और उसने ललित नागर के घर पर जांच की थी। इस बार भी ईडी की टीम बीकानेर से ही फरीदाबाद पहुंची और टीम में लगभग 10-15 अधिकारी व कर्मचारी शामिल रहे। सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा द्वारा जमीन खरीद फरोख्त मामले में पहले भी पुलिस फरीदाबाद में कांग्रेस विधायक ललित नागर के गांव और घर पर दस्तक दे चुकी है। विधायक ललित नागर को जब अपने कार्यालय पर पड़े छापे के बारे में मालूम चला तो वह अपने कार्यालय पर पहुंचे। एक बार तो इन्हीं के अधिकारियों ने उन्हें अंदर जाने से रोका लेकिन बाद में विधायक को अंदर जाने दिया।

ईडी का सहारा लेकर मेरी आवाज दबाना चाहती है भाजपा सरकार ; ललित नागर, विधायक तिगांव 

तिगांव विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेसी विधायक ललित नागर ने उनके भाई महेश नागर के कार्यालय पर ईडी द्वारा की गई छापेमारी को पूर्ण रूप से राजनीति से प्रेरित बताते हुए कहा कि भाजपा सरकार उन्हें व उनके परिवार को बदनाम करने के लिए इस प्रकार की छापेमारी करवा रही है, लेकिन ऐसी कार्यवाहियों से वह कतई डरने वाले नहीं है और आगे भी भाजपा सरकार की नाकामियों को जनता के समक्ष उजागर करते रहेंगे। श्री नागर ईडी जांच के उपरांत पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि उनके भाई के कार्यालय पर आज डाले गए छापे में राजनैतिक बू साफ नजर आती है क्योंकि ईडी को भाजपा सरकार में बैठे बड़े नेताओं द्वारा कमाई जा रही अनाप शनाप आकूत दौलत दिखाई नहीं देती, उनके निशाने पर तो केवल वह लोग है, जो जनता की आवाज को बुलंद करने का काम कर रहे है इसलिए वह ऐसी छापेमारी से डरने वाले नहीं है क्योंकि ऐसी एक छापेमारी लगभग छह महीने पहले उनके निवास पर की गई थी, जिसमें ईडी को कुछ हासिल नहीं किया। श्री नागर ने कहा कि यह सब उन्हें भाजपा सरकार के भ्रष्टाचार के खिलाफ बोलने की सजा दी जा रही है, लेकिन वह जनता की आवाज को आगे भी उठाते रहेंगेे। उन्होंने कहा कि उन्होंने अपने जीवन में आज तक कोई भी गलत कार्य नहीं किया है और न ही उनके भाई महेश नागर किसी भी गलत कार्य में संलिप्त है, इस बात का प्रमाण इससे मिलता है कि सुबह 11 बजे से सांय 5 बजे तक ईडी के अधिकारियों द्वारा की गई जांच में उन्हें उनके कार्यालय से न तो कोई जमीनी से संबंधित कागजात ही मिले है और न ही कोई सोना-चांदी जेवरात व नगदी उन्हें मिली है। विधायक ललित नागर ने अपने समर्थकों को आश्वस्त किया है कि वह किसी भी दबाव में आने वाले नहीं है तथा वह पूर्व की भांति जनहित से जुडे मुद्दों को सडक़ से लेकर विधानसभा तक उठाते रहेेंगे बल्कि इस आंदोलन रूपी संघर्ष की धार को और अधिक तेज किया जाएगा। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: